पंकज सिंह समेत MLA प्रत्याशियों की होगी परीक्षा:नोएडा में जूम मीटिंग में इनवाइट होंगे सभी प्रत्याशी, वोटरों के सवाल का देना होगा जवाब

नोएडा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नोएडा, जेवर और दादरी विधानसभा के वोटरों ने मिलकर होमबायर्स इलेक्टोरल पावर-यूपी इलेक्शन 2022 बनाया। उन्होंने एक घंटे की जूम मीटिंग की। इसमें एक हजार से ज्यादा लोग जुड़े। उन्होंने तय किया कि पहले तीनों विधानसभा के सिटिंग विधायकों और एमएलए प्रत्याशियों को परखा जाएगा। उनको जूम मीटिंग में बुलाएंगे और सिटिंग विधायक से साढ़े 4 साल में उनकी समस्या को लेकर क्या किया और एमएलए की कोशिश करने वालों से समस्या का हल कैसे निकलेगा सवाल-जवाब करेंगे। जो नहीं आएगा या सवालों से बचने की कोशिश करेगा, उसको एक्सपोज किया जाएगा।

कब तक वोटरों को इग्नोर करती रहेंगी सरकारें

नेफोवा के अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने बताया कि पहले बसपा फिर सपा और साढ़े 4 साल से बीजेपी तीनों विधानसभा के होम बायर्स को इग्नोर करती आ रही हैं। इनकी मंशा हो तो यह हमारी समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। इनके बस की बात नहीं कि यह हमे फ्लैट दिलवा सकें। हम अपने फ्लैटों में बगैर रजिस्ट्री के रह रहे हैं, यह मंजूर है। इस बार मुद्दे बुनियादी सुविधाओं को लेकर है। जिसके लिए हम वोट करते हैं। इन बुनियादी सुविधाओं पर बातचीत करने के लिए नेफोवा जूम मीटिंग कर रही है। जिसमें हजारों लोग जुड़ रहे हैं।

5 सालों में अब नहीं सुनना ऐसा जवाब

इसी संवाद में एक वोटर ने कहा कि उनकी सोसायटी में सिटिंग विधायक पहुंचे। वोटर ने उनसे कहा कि साढ़े 4 साल में पहली बार आप यहां आए हैं। इस पर जवाब मिला कि हम तो यहां आते रहते हैं, लेकिन आप ही पहली बार मिले। आगामी 5 साल में ऐसा दोबारा सुनने को न मिले, इसलिए प्रत्याशियों को इस खुले मंच पर बुलाकर उनसे संवाद किया जाएगा। इस मंच में जो नहीं आएगा उसे इसका असर चुनावों में देखने को मिलेगा हम उसे एक्सपोज करेंगे और बताएंगे कि जो हमारी समस्या सुनने नहीं आया वह किसी की समस्या का समाधान कैसे करेगा। नेफोवा के फाउंडर सदस्य इंद्रीश ने बताया कि सालों साल हमे अपनी बात कहते हो गए, लेकिन सरकार हमारी बातों को सिर्फ सुनती है। समस्या का समाधान नहीं करती है। चुनाव आ गए हैं। अब ये फिर आएंगे, लेकिन इस बार हम इनसे सवाल करेंगे।

इन बुनियादी सुविधाओं के सवाल के लिए तैयार रहे सिटिंग विधायक को प्रत्याशी

  • ग्रेटर नोएडा वेस्ट की आबादी करीब 5 लाख यहा वोटर एक लाख यहा अभी तक मेट्रो का विस्तार क्यों नहीं किया गया।
  • ग्रेनो वेस्ट में श्मशान घाट का निर्माण क्यों नहीं किया गया।
  • लास्ट माइल कनेक्टिविटी का सिर्फ आश्वासन दिया गया लेकिन पब्लिक ट्रांसपोर्ट के नाम पर जीरो क्यो
  • यहा बनी हाइराइज इमारतों में सिर्फ पांच मंजिल तक ही आग बुझाने के संसाधन है यदि उसके ऊपर के फ्लोर में आग लग जाए तो कैसे बुझेगी
  • नोएडा और ग्रेटर नोएडा की हाइराजस सोसायटी में गंगा जल की सप्लाई कब तक
  • यहां सिंगल पाइंट कनेक्शन दिए गए है। बिल्डर हमसे अधिक बिल वसूल करता है। मल्टी पाइंट कनेक्शन कब तक मिलेगा।
  • बच्चों के खेलने के लिए एक भी पार्क नहीं है। कोरोना काल में भी ग्रेटर नोएडा वेस्ट में एक भी मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल अब तक क्यों नहीं बनाया गया।
  • अंत में आखिर हम एक लाख बायर्स को कब तक फ्लैट मिलेगा और इतने ही बायर्स को मालिकाना हक।

एक नजर में

नोएडा में 114 बिल्डर परियोजनाएं हैं। जिसमें से 56 परियोजनाएं कंपलीट हैं और शेष निर्माणाधीन हैं। अधिकांश बायर्स सुपरटेक, यूनीटेक, आम्रपाली जैसी बड़े बिल्डरों के हैं, जिनको अभी तक फ्लैट नहीं मिला है। ग्रेटर नोएडा वेस्ट में 80 बिल्डर परियोजनाएं हैं। करीब एक लाख होम बायर्स हैं। अधिकांश को फ्लैट मिला और अब बुनियादी सुविधा के लिए तरस रहे है।