नोएडा में किसान बोले- समाधान या समाधी:प्राधिकरण के बंद किए दरवाजे, 104 दिन से चल रहा प्रदर्शन

नोएडाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को भी प्राधिकरण में किसानों ने लॉकडाउन लगा दिया। - Dainik Bhaskar
मंगलवार को भी प्राधिकरण में किसानों ने लॉकडाउन लगा दिया।

नोएडा में समाधान या समाधी अपने हक को लेकर धरने पर बैठे किसानों ने यह बैनर प्राधिकरण के प्रशानिक खंड के कार्यालय पर लगा दिया है। वह पिछले 104 दिन से धरना दे रहे है। मंगलवार को भी प्राधिकरण में किसानों ने लॉकडाउन लगा दिया। अधिकारी व आवंटी दोनों ही प्राधिकरण कार्यालय में प्रवेश नहीं कर सके। काम बाधित रहा। अधिकारियों ने दूसरे क्षेत्रीय कार्यालयों से काम निपटाया।

मंत्री से लेकर सीईओ तक वार्ता समाधान नहीं

भारतीय किसान परिषद के बैनर तले किसान प्राधिकरण पर धरना दे रह है। इनकी संख्या हजारों में है। एक दर्जन बार से ज्यादा वार्ता विफल हो चुकी है। औद्योगिक विकास मंत्री से लेकर सीईओ तक ने वार्ता की। वार्ता सकारात्मक भी रही लेकिन मांग पूरी नहीं हो सकी।

प्राधिकरण में लॉकडाउन, लटक गया काम

प्राधिकरण में किसानों ने लॉकडाउन लगा दिया गया है। कार्यालय में प्रवेश वर्जित है और जहा से प्रवेश होना है वहां किसानों ने तबेला बना दिया है। काम प्रभावित होने से हजारों आवंटियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। प्राधिकरण में मारगेज, कंपलीशन , टीएम, नक्शा पास के अलावा तमाम कार्य होते है। हालांकि सभी कार्य आनलाइन हो रहे है। लेकिन जब अधिकारी ही नहीं पहुंच रहे तो काम में बाधा आ रही है। इसके अलावा मैन्यूवल भी दस्तावेज जमा नहीं हो रहे।

दोपहर के भोजन के लिए लगी भट्टी

किसानों के भोजन के लिए यहा दिन रात भट्टी भी चल रही है। सुबह से लेकर रात तक किसानों में जोश भरने के लिए यहा भोजन बनाया जा रहा है। स्प्ष्ट संदेश है कि जब तक मांगे पूरी नहीं की जाती धरना प्रर्दशन जारी रहेगा।

अधिकारी देते आश्वासन

भारतीय किसान परिषद कि अध्यक्ष सुखवीर खलीफा ने बताया कि प्रतिदिन अधिकारी आश्वासन देने आते है। लेकित मांगों को लेकर कोई सक्रियता नहीं दिखाई दे रही है। ऐसे में जब तक मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

ये है मांग

  • सभी किसानों को 64.7 प्रतिशत की दर से दिया जाए मुआवजा
  • आबादी जैसी है वैसी छोड़ी जाए
  • गांवों में नक्शा पास निति को समा’ किया जाए
  • गांवों में 25 मीटर तक की दी जाए छूट
खबरें और भी हैं...