• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gautambudh nagar
  • Gangster Ankit Gurjar Dies In Tihar Jail: Gangster Found Dead In Barrack Number Three, Family Members Accused Of Murder; Threatening Pamphlets Were Printed To Contest The Presidential Election In Baghpat

तिहाड़ जेल में गैंगस्टर की मौत:सवा लाख के इनामी अंकित गुर्जर का बैरक में शव मिला, परिजनों ने हत्या का आरोप लगाया; बागपत में चुनाव लड़ने के लिए प्रधान प्रत्याशी को मार डाला था

गाजियाबाद4 महीने पहले

दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद बागपत के रहने वाले गैंगस्टर अंकित गुर्जर की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। बुधवार सुबह उसका शव बैरक नंबर तीन में मिला। वह इसी बैरक में बंद था। उस पर सवा लाख रुपए का इनाम रखा गया था। अंकित के परिवार ने इसे मर्डर बताया है। दिल्ली के दीनदयाल अस्पताल में शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। जेल प्रशासन का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का सही कारण पता चल पाएगा। तिहाड़ प्रशासन ने जांच शुरू कर दी है।

मई-2020 में दिल्ली स्पेशल सेल ने पकड़ा था
अंकित गुर्जर मूल रूप से उत्तर प्रदेश में बागपत जिले के चांदीनगर का रहने वाला था। वह दिल्ली और पश्चिमी उत्तर प्रदेश का हार्डकोर क्रिमिनल था। मई-2020 में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अंकित व उसके साथी अनिल उर्फ मांडवाली को एक साथ गिरफ्तार किया था। अंकित गुर्जर और रोहित चौधरी का गैंग दिल्ली-एनसीआर और वेस्ट यूपी में अपना वर्चस्व बना रहे थे।

गैंगस्टर अंकित गुर्जर तिहाड़ जेल की बैरक नंबर तीन में बंद था।
गैंगस्टर अंकित गुर्जर तिहाड़ जेल की बैरक नंबर तीन में बंद था।

चांदीनगर से लड़ना चाहता था प्रधानी चुनाव

अंकित गुर्जर 2019 में अपने गांव चांदीनगर से प्रधानी का चुनाव लड़ना चाहता था। इसके लिए उसने अपने प्रतिद्वंदी विनोद की हत्या कर दी थी। इसके बाद पूरे गांव में पोस्टर लगाए दिए थे कि अगर कोई उसके खिलाफ चुनाव लड़ा तो उसकी भी हत्या कर दी जाएगी। चुनाव आने से पहले ही दिल्ली पुलिस ने अंकित को गिरफ्तार किया।

अंकित गुर्जर ने प्रधानी चुनाव लड़ने को धमकी भरे पर्चे छपवाए थे।
अंकित गुर्जर ने प्रधानी चुनाव लड़ने को धमकी भरे पर्चे छपवाए थे।

नोएडा में कंपनी मैनेजर का किया था अपहरण

गैंगस्टर अंकित गुर्जर पर उत्तर प्रदेश के कई जिलों में केस दर्ज हैं। साल-2019 में नोएडा सेक्टर-63 में एक कंपनी मैनेजर को अगवा करने का आरोप अंकित गुर्जर पर लगा था। अंकित पर हत्या, रंगदारी, जानलेवा हमला, अपहरण के करीब 25 से ज्यादा मामले दिल्ली-यूपी-हरियाणा में दर्ज थे।

खबरें और भी हैं...