नोएडा में PPP मॉडल पर तैयार किया जाएगा हेलीपोर्ट:अप्रैल में शुरू होगा काम, प्राधिकरण ने जारी किया ग्लोबल टेंडर, 30 साल तक कंपनी को करना होगा संचालन

नोएडा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नोएडा में PPP मॉडल पर तैयार किया जाएगा हेलीपोर्ट। - Dainik Bhaskar
नोएडा में PPP मॉडल पर तैयार किया जाएगा हेलीपोर्ट।

सेक्टर-151 ए में हेलीपोर्ट को बनाने के लिए नोएडा प्राधिकरण ने तैयारी तेज कर दी है। शुक्रवार को प्राधिकरण ने इसके लिए ग्लोबल टेंडर जारी कर दिया है। कंपनी को 30 साल तक इसका संचालन करना होगा। 31 जनवरी को प्री-बिड बैठक की जाएगी। 31 मार्च को तकनीकी बिड खोली जाएगी। जिसके बाद निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। हेलीपोर्ट का निर्माण पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) मॉडल पर किया जाएगा। काम शुरू होने पर करीब एक साल में यह बनकर तैयार हो जाएगा। यहां पर एक साथ 6 हेलीकॉप्टर खड़े हो सकेंगे और हेलीकॉप्टर के मरम्मत की भी सुविधा होगी।

जरूरत पड़ने पर यहां से एयर एंबुलेंस का भी प्रयोग कर सकेंगे। अधिकारियों ने बताया कि यह पूरा हेलीपोर्ट 9.35 एकड़ में बनाया जाएगा। जमीन मौके पर चिन्हित की जा चुकी है। यहां 500 वर्ग मीटर में टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण किया जाएगा। यह 20 आने वाले और 20 जाने वाले सवारियों के संचालन के लिए पर्याप्त है। हेलीपोर्ट का संचालन केवल दिन के लिए होगा। इस हेलीपोर्ट में इलेक्ट्रिक सब स्टेशन, फायर स्टेशन, चारदीवारी, आंतरिक सड़कें और सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का प्रावधान भी रखा गया है।

3० साल तक कंपनी को करना होगा संचालन

जिस कंपनी को संचालन की जिम्मेदारी दी जाएगी, वह 30 साल तक इसका संचालन और अनुरक्षण कार्य करेगी। प्राधिकरण को भूमि लाइसेंस शुल्क और राजस्व शेयर (प्रति यात्री रुपए) का भुगतान किया जाएगा। सीईओ ने निर्देशित किया कि जल्द से जल्द निविदा आमंत्रित की जाए।

हेलीकॉप्टर MI-172 के उतरने की होगी सुविधा

हेलीपोर्ट परियोजना को पीपीपी मॉडल पर बनाया जाएगा। इसे 9.35 एकड़ जमीन पर विकसित किया जाएगा। 43.13 करोड़ रुपए खर्च कर किए जाएंगे। इसका डिजाइन बेल 412 (12 सीटर) के अनुसार तैयार किया गया है। हेलीपोर्ट में 5 बेल 412 के पार्किंग एप्रान की सुविधा होगी। इस हेलीपोर्ट में वीवीआईपी या आपातकाल के समय 26 सिटर एमआई-172 भी उतारा जा सकेगा। हेलीपोर्ट में 500 वर्गमीटर में टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण किया जाएगा, जो कि 20 यात्रियों के आने जाने के लिए संचालन के लिए होगा।

खबरें और भी हैं...