21 साल चली जेवर एयरपोर्ट की जद्दोजहद:2004 में मुलायम आगरा लाना चाहते थे, 2012 में कांग्रेस सरकार ने नोएडा की दूरी पर अटकाई थी फाइल

नोएडा5 दिन पहले

क्षेत्रीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए इंटरनेशनल एयरपोर्ट एंड एविएशन हब का प्नस्ताव 2001 में यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने तैयार करवाया था। इसको परवान चढ़ने में पूरे 21 साल लग गए। 2001 में तत्कालीन मुख्यमंत्री राजनाथ ने एयरपोर्ट का प्रस्ताव पारित किया था। सरकार बदली तो 2004 में मुलायम सिंह एयरपोर्ट को आगरा ले जाना चाहते थे। इसके बाद मामला आगे बढ़ा तो कांग्रेस सरकार ने दूरी को लेकर फाइल लटका दी थी।

आखिर वो दिन आ गया, जब राजनाथ सिंह का सपना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पूरा करने जा रहे हैं। वह यूपी के कस्बा जेवर के नजदीक दुनिया के चौथे बड़े इंटरनेशनल एयरपोर्ट की आधारशिला रखेंगे।

टाइमलाइन- जानें कब-कब क्या-क्या हुआ

  • 2001: तत्कालीन यूपी मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने इंटरनेशनल एयरपोर्ट एंड एविएशन हब का प्रस्ताव पारित किया। मार्च-2002 में राजनाथ सरकार चली गई।
  • 2002: सीएम मायावती प्रोजेक्ट को जेवर में लाना चाहती थीं, मगर राजनीतिक खटपट से योजना परवान नहीं चढ़ी।
  • 2004: मुलायम सिंह यादव सीएम बने तो उन्होंने प्रोजेक्ट को आगरा ले जाने की इच्छा जताई।
  • 2010: पुन: मुख्यमंत्री बनीं मायावती ने प्रोजेक्ट पर ध्यान दिया और रक्षा मंत्रालय से इसका क्लेयरंस लिया।
  • 2012: यूपीए के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने आईजीआई (इंदिरा गांधी इंटरनेशनल) एयरपोर्ट से 150 किमी से कम दूरी का हवाला देकर प्रस्ताव लटका दिया।
  • 2013: तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जेवर एयरपोर्ट प्रोजेक्ट को आगरा ले गए, जो कि आईजीआई से 200 किमी की दूरी पर था।
  • 2014: केंद्र में भाजपा सत्ता में आई तो एयरपोर्ट प्रोजेक्ट पर दोबारा तेजी से काम शुरू किया गया। प्रोजेक्ट वापस जेवर आया।
  • 2015: अखिलेश यादव ने जेवर एयरपोर्ट शुरू करने की इच्छा जताई और यमुना एक्सप्रेस वे अथॉरिटी को 5000 करोड़ रुपए जारी किए।
योगी आदित्यनाथ ने सत्ता में आते ही इस एयरपोर्ट में दिलचस्पी दिखाई। यही वजह रही कि उनके साढ़े 4 साल के कार्यकाल में इसका शिलान्यास हो रहा है।
योगी आदित्यनाथ ने सत्ता में आते ही इस एयरपोर्ट में दिलचस्पी दिखाई। यही वजह रही कि उनके साढ़े 4 साल के कार्यकाल में इसका शिलान्यास हो रहा है।

योगी के CM बनते ही प्रोजेक्ट में आई तेजी

  • 6 जुलाई 2017 : हवाई अड्डे के लिए निर्माण साइट की अनुमति मिली।
  • 6 नवंबर 2017 : गृह मंत्रालय ने इमिग्रेशन की एनओसी दी।
  • 23 अप्रैल 2018 : नागर विमानन मंत्रालय ने सैद्धांतिक मंजूरी दी।
  • 6 अगस्त 2019 : जिला प्रशासन ने जमीन पर कब्जा लेना शुरू किया।
  • 29 नवंबर 2019 : टेंडर खुला, ज्यूरिख कंपनी ने लगाई सबसे ज्यादा बोली।
  • 25 नवंबर 2021 : जेवर एयरपोर्ट की आधारशिला पीएम नरेंद्र मोदी रखेंगे।

सपा ने पूछा- अब उदघाटन तो भाजपा बेचेगी कब
समाजवादी पार्टी ने बुलंदशहर जिले में होर्डिंग लगाकर पूछा है कि 'जेवर एयरपोर्ट का उद्घाटन अब तो भाजपा सरकार बेचेगी कब...?'। पुलिस ने इस मामले में सपा युवजन सभा के जिलाध्यक्ष नीरज यादव, युवा नेता सुहैल अबरार और कोमल गुर्जर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। सपा के इस होर्डिंग पर बुलंदशहर से भाजपा सांसद भोला सिंह ने कहा कि सपाइयों की सोच हमेशा विकास के खिलाफ रही है।

सीएम योगी बोले- कुछ लोग अक्ल से पैदल

  • जेवर एयरपोर्ट साइट का दौरा करने आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निशाना साधते हुए कहा था कि उत्तर प्रदेश में कुल लोग अक्ल से पैदल हो चुके हैं, जो किसी भी प्रोजेक्ट के शिलान्यास पर कहते हैं कि ऐसा हमने भी सोचा था।
  • भाजपा के यूपी अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने ट्वीट करके लिखा था- 'अखिलेश जी, 2024 में पूरी तरह से खाली होने के बाद आप अपने विदेशी सैर-सपाटे के लिए नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से फ्लाइट ले सकेंगे…, हार्दिक बधाई!'