फिल्मों की जरिए उठा रहे हैं सामाजिक मुद्दा:पुनीत बालन की द हिंदू बॉय कश्मीरी पंडित मामले को दे सकती है नई बहस

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कश्मिरी पंडित के मामले फिर से बहस छिड़ सकती है। नोएडा में हुए एक कार्यक्रम में निर्माता पुनीत बालन की फिल्म 'द हिंदू बॉय' से पर्दा उठा। अभिनेता शरद मल्होत्रा इसमें मुख्य अभिनेता हैं। ट्रेलर प्रदर्शित होने के बाद से ही लोग इस फिल्म के प्रति लगातार अपना प्यार और अपनी रुचि दर्शा रहे हैं। 'द हिंदू बॉय' एक हिंदू पंडित युवा लड़के की कहानी है जिसे उसकी सुरक्षा के लिए कश्मीर से बाहर भेजा गया था और जब वह 30 साल बाद अपने घर लौटता है तो वह क्या अनुभव करता है और उसके साथ क्या होता है?

इस फिल्म में लोकप्रिय अभिनेता शरद मल्होत्रा लीड रोल निभा रहे हैं। शरद मल्होत्रा, जो नागिन 5, विद्रोही, एक तेरा साथ, कसम, बनू मैं तेरी दुल्हन जैसी धारावाहिक और फिल्मों में अपनी विभिन्न भूमिकाओं के लिए लोगों के पसंदीदा रहे हैं, अब इस नए और अलग रोल के साथ अपने प्रशंसकों को आश्चर्यचकित करने के लिए तैयार हैं।

पुनीत बालन के बारे में कहा जाए तो, वह हमेशा से लोगों के सेलिब्रिटी रहे हैं; वो पुनीत बालन समूह के संस्थापक और सीएमडी तो है ही, इसके अलावा, पुनीत बालन स्टूडियो को संस्थापक है, एक व्यापारी, एक सच्चे खिलाड़ी, एक कट्टर सामाजिक कार्यकर्ता, एक सफल और शानदार निर्माता ऐसे कई पेहलू है उनके वह इंसान एक है पर उनकी प्रतिभाए अनेक है। वह एक ऐसे व्यक्ति हैं जो लोगों के दर्द को समझते हैं और उसे हल करने के लिए अपना 100% प्रयास करते हैं, यही कारण है कि वह 'द हिंदू बॉय' जैसी फिल्म का निर्माण करने के लिए एकदम सही फिट हैं, क्योंकि वह उस दर्द को समझ सकते हैं।

फिल्म के बारे में बात करते हुए बालन ने कहा - "मैं अक्सर कश्मीर जाता हूं और मैंने उनके दर्द को बहुत करीब से देखा है। मुझे उन्हें आज भी तकलीफ में देखना दर्द देता है, वो भी तब जब हम स्वतंत्र रूप से और शांति से रह रहे हैं। मैं हमेशा उनके लिए किसी तरह की मदद करना चाहता था, लेकिन मुझे नहीं पता था कि कैसे, जब फिल्म 'द हिंदू बॉय' मेरे पास आई तो मैंने फैसला किया कि, हां! यह मेरा अवसर है कि मैं इन समस्याओं को सबके सामने ला सकू और कश्मीरी हिंदू पंडितों की स्थिति के बारे में लोगों को जागरूक करूं। हाल ही में 'द कश्मीर फाइल्स' फिल्म को बहुत पसंद किया गया है और बहुत अच्छी तरह से सराहा गया है और मुझे उम्मीद है कि यह फिल्म भी अच्छा प्रदर्शन करेगी।"

निर्देशन शाहनवाज बाकल ने किया है और उन्होंने इसकी कथा और पटकथा भी लिखी है। मोहम्मद यूनिस जरगर ने इस फिल्म की सिनेमेटोग्राफी की है। गाने विजय अकेला ने लिखे हैं। गायक अविक दोजन चॅटर्जी ने गायन के साथ-साथ संगीत भी दिया है। साउंड डिजाइनिंग फोले द्वारा की गई है और मिक्सिंग डीजे भराली द्वारा किया गया है। नोमोन खान इस फिल्म के कार्यकारी निर्देशक हैं और प्रचार डिजाइन पोस्टरवुड द्वारा किया गया है।

खबरें और भी हैं...