ग्रेटर नोएडा जा रहे हैं तो रहें अलर्ट:पेचकस गैंग से बचने को बसों में ही सफर करें, अंजान से न लें लिफ्ट

ग्रेटर नोएडा10 महीने पहले

अगर आप ग्रेटर नोएडा जा रहे हैं तो अलर्ट रहने की जरूरत है। क्योंकि यहां पर पेचकस गैंग सक्रिय है, जो लिफ्ट देने के बहाने लोगों को गाड़ी में बिठा लेते हैं। इसके बाद उन पर पेचकस से हमला कर लूटकर फरार हो जाते हैं।

ग्रेटर नोएडा में अब तक ऐसे करीब 6 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। जिसके बाद पुलिस ने अलर्ट रहने के लिए जगह-जगह पोस्टर लगाए। पुलिस ने पोस्टर्स में लिखा है कि सिर्फ बसों में सफर करें। कैब बुकिंग के बाद ही उसमें बैठे। साथ ही अंजान से लिफ्ट न लेने की हिदायत भी दी है।

पुलिस ने पोस्टर्स में लिखा है कि सिर्फ बसों में सफर करें। कैब बुकिंग के बाद ही उसमें बैठे।
पुलिस ने पोस्टर्स में लिखा है कि सिर्फ बसों में सफर करें। कैब बुकिंग के बाद ही उसमें बैठे।

बता दें, बीटा 2 थाना क्षेत्र में यह गैंग ज्यादा सक्रिय है। इन्हें पकड़ने में पुलिस अभी तक नाकामयाब रही है। इसी के चलते बीटा 2 थाना प्रभारी को बीते दिनों लाइन हाजिर किया गया था। नए प्रभारी को जिम्मेदारी दी गयी थी, लेकिन प्रभारी बदलने के बाद भी घटनाएं नहीं रुक रही हैं।

पुलिस ने चौराहों पर पोस्टर लगाकर लोगों से अलर्ट रहने की अपील की।
पुलिस ने चौराहों पर पोस्टर लगाकर लोगों से अलर्ट रहने की अपील की।

40 दिन से सक्रिय है गैंग

पेचकस गैंग करीब 40 दिनों से सक्रिय है। पुलिस ने शुक्रवार को जगह-जगह लोगों से अलर्ट रहने की अपील की। परीचौक पर पोस्टर लगाए गए। साथ ही लगातार अनाउंसमेंट की व्यवस्था भी की है। एडिशनल डीसीपी विशाल पांडेय ने बताया कि गाड़ियों का इंतजार कर रहे लोग बिना जाने किसी भी गाड़ी में बैठ जाते हैं और अप्रिय घटना का शिकार हो जाते हैं।

इसलिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। कोई भी व्यक्ति किसी भी संदिग्ध वाहन में न बैठे। बस में सफर करें या कैब बुक कर कर ही सफर करें। हमारी टीम लगी हुई है, जल्द ही हम इस गैंग का खुलासा करेंगे।

पब्लिक प्लेस पर पुलिस ने जागरूकता के पोस्टर लगाए हैं।
पब्लिक प्लेस पर पुलिस ने जागरूकता के पोस्टर लगाए हैं।

अब तक हुईं कुछ घटनाएं

  • 9 अक्टूबर को यमुना एक्सप्रेस वे के जीरो पॉइंट से होटल कर्मचारी को लिफ्ट देने के बहाने बंधक बनाकर लूट लिया। पेचकस से हमला कर घायल किया। फिर यमुना एक्सप्रेस वे फेंककर फरार हो गए।
  • 7 अक्टूबर को निजी कम्पनी के जीएम रयान गोलचक्कर पर ऑटो का इंतजार कर रहे तभी एक गाड़ी आयी और उनको बिठाकर लूट की घटना को अंजाम दिया। उनके एटीएम से पैसे निकलवाए ओर पेचकस से घायल कर दिया।
  • 2 अक्टूबर को सीएजी के रिटायर अधिकारी को बंधक बनाकर एटीएम से पैसे निकलवाए और पेचकस से घायल किया।
  • 6 सितम्बर को परीचौक से लिफ्ट देने के बहाने पति पत्नी को कार में बंधक बनाकर की लूट की फिर रोड पर फेंककर फरार हो गए।
गैंग पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी लगाए गए हैं।
गैंग पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी लगाए गए हैं।
खबरें और भी हैं...