कोरोना काल में धोखाधड़ी करने वाले 2 गिरफ्तार:एक आरोपी 11वीं तो दूसरा बीकॉम पास है, बेड और रेमडेसिविर इंजेक्शन दिलाने के नाम पर की थी ठगी

नोएडा2 महीने पहले
ये फोटो गिरफ्तार दोनों आरोपियों की है। दोनों को जेल भेज दिया गया है।

नोएडा में कोरोना की सेकंड वेव में अस्पताल में बेड और रेमडेसिविर इंजेक्शन दिलाने के नाम ठगी करने वाले दो लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान मयंक खन्ना निवासी गाजियाबाद और यश मेहता निवासी गाजियाबाद के रूप में हुई है। यश फिल्मों में एक्टिंग का काम करता है।

ऑनलाइन महिला के संपर्क में आए थे आरोपी
10 जून 2021 को गाजियाबाद निवासी निधि मित्तल की माता को कोरोना हो गया था। इलाज के लिए उनको रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत थी। उन्होंने ऑनलाइन इंजेक्शन के बारे में सर्च किया। चेक करने के समय राहुल नाम का एक व्यक्ति उनके संपर्क में आया। जिसने उनको इंजेक्शन उपलब्ध कराने के लिए कहा।

1 लाख 15 हजार करवाए थे ट्रांसफर
इसके लिए राहुल फर्जी नाम ने 1 लाख 15 हजार रुपए अपने खाते में ऑनलाइन ट्रांसफर करवा लिए। इसके एवज में उन्हें इंजेक्शन नहीं दिए और टरकाता रहा। पीड़िता ने मामले की शिकायत पुलिस से की थी।

कोराना काल में की थी ठगी
जांच में पता चला कि आरोपी सोशल मीडिया और अन्य माध्यमों से कोरोना काल के दौरान लोगों को बेड और इंजेक्शन दिलाने के नाम पर संपर्क करते थे और ठगी करते थे। पुलिस ने बताया के पकड़े गए आरोपी में एक मयंक 26 साल का है और बीकॉम से ग्रेजुएट है। वह बीपीओ सेक्टर में काम करता है। वहीं यश 11वीं पास है और मूवी एक्टर है।

खबरें और भी हैं...