दीक्षांत समारोह में डिग्री पाकर खिले छात्रों के चेहरे:एमडीएस के 86 और बीडीएस के 54 छात्र-छात्राओं को उपाधि देकर किया गया सम्मानित

मोदीनगर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गाजियाबाद जिले के मुरादनगर में रविवार को बीडीएस के 17वें और एमडीएस के 13वें व 14वें दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। इसमें 140 छात्रों को उपाधि दी गई। समारोह का शुभारंभ लखनऊ अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर प्रो.डॉ.अरूण कुमार सिंह, लेफ्टिनेंट जनरल डॉ.विमल कुमार अरोड़ा, संस्थान के चेयरमैन डॉ.आरपी चड्ढा, वाइस चेयरमैन अर्पित चड्ढा ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया। डिग्री पाकर छात्रों के चेहरे खिल गए।

छात्रों को नई-नई तकनीक की जानकारी होनी चाहिए

इस मौके पर प्रो. डॉ.अरूण कुमार सिंह ने कहा कि एमडीएस व बीडीएस के छात्रों को नई-नई तकनीक की जानकारी होनी चाहिए। कहा कि आज भारत की दंत चिकित्सा पूरे विश्व में अपना डंका बजा रही है। विदेशी छात्र अब मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए भारत आ रहे हैं। दीक्षांत समारोह में एमडीएस के 86 और बीडीएस के 54 छात्रों को उपाधि देकर सम्मानित किया गया।

निदेशक पीजी कोर्सेज डा.श्रीनाथ ठाकुर ने एमडीएस, बीडीएस के छात्रों को शपथ दिलाई ओर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। प्रधानाचार्य डॉ.देवीचरण शेटटी ने अपनी कॉलेज रिपोर्ट में संस्थान के विभिन्न विभागों की मुख्य विशेषताओं और नवीनतम तकनीकों के बारे में बताया।

एकेडमिक अवार्ड एवं उनकी उपलब्धियों की घोषणा की

संस्थान के प्रधानाचार्य डॉ देवी चरण शेट्टी ने अपनी कॉलेज रिपोर्ट में संस्थान के विभिन्न विभागों की मुख्य विशेषताओं और नवीनतम तकनीकों के बारे में बताया। डॉ शेट्टी ने संस्थान द्वारा सभी नवीनतम सुविधाएं और बेहतर उपकरण प्रदान करने के लिए आईटीएस द एजुकेशन ग्रुप के चेयरमैन डॉ आर.पी चड्ढा तथा वाइस चेयरमैन अर्पित चड्ढा का आभार प्रकट किया। उन्होंने सभी बीडीएस एवं एमडीएस के छात्रों की वार्षिक एकेडमिक अवार्ड एवं उनकी उपलब्धियों की घोषणा की। उनके माता-पिता को बधाई भी दी।

इस मौके पर यह लोग मौजूद रहे

अरुण कुमार सिंह ने बताया किसी बीसीटी, औरोफेशियल पेन क्लीनिक, इम्प्लांट सेंटर, लेजर एण्ड फेशियल एस्थेटिक क्लीनिक तथा कैड-कैम मशीन सम्मिलित है। इसके द्वारा दंत चिकित्सकों को उच्चस्तरीय एवं बेहतर उपचार करने में मदद मिलती है। इस मौके पर डॉ. उमा सिंह, संगीता अरोड़ा, सचिव भूषण कुमार अरोड़ा, निदेशक पीआर सुरिंद्र सूद आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...