गाजियाबाद...एनकाउंटर करने वाले इंस्पेक्टर के निलंबन पर विवाद:BJP विधायक ने कहा- गोकशी में भाजपाइयों को घसीटना चाहते थे अफसर, SSP से पूछे 5 सवाल

गाजियाबाद19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गाजियाबाद में गो-तस्करों का एनकाउंटर करने वाले इंस्पेक्टर को सस्पेंड किए जाने पर भाजपा विधायक नंदिशोर गुर्जर ने एसएसपी को पत्र लिखा है। - Dainik Bhaskar
गाजियाबाद में गो-तस्करों का एनकाउंटर करने वाले इंस्पेक्टर को सस्पेंड किए जाने पर भाजपा विधायक नंदिशोर गुर्जर ने एसएसपी को पत्र लिखा है।

गाजियाबाद में मुठभेड़ में 7 गो-तस्करों को गोली मारकर पकड़ने वाले इंस्पेक्टर राजेंद्र त्यागी को पहले हटाने, फिर सस्पेंड करने का मामला तूल पकड़ने लगा है। लोनी विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर, जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर नरसिंहानंद गिरि, भाजपा नेत्री डॉ. उदिता त्यागी समेत कई हिन्दू संगठन इंस्पेक्टर के पक्ष में आ गए हैं।

अब विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने बुधवार को एक पत्र गाजियाबाद के एसएसपी को लिखते हुए उनसे पांच सवाल पूछे हैं। विधायक ने एसएसपी पवन कुमार और एसपी देहात ईरज राजा पर आरोप लगाते हुए कहा है कि दोनों अधिकारी इस गोकशी में भाजपा नेताओं का नाम घसीटना चाहते थे, इंस्पेक्टर ने ऐसा नहीं किया तो उसे सस्पेंड कर दिया गया।

पत्र में विधायक ने गोतस्करों पर कार्रवाई को लेकर सवाल भी पूछे हैं।
पत्र में विधायक ने गोतस्करों पर कार्रवाई को लेकर सवाल भी पूछे हैं।

विधायक के SSP से सवाल

1-गो-तस्करों के सरगना सलीम पहलवान का नाम मुकदमे में शामिल न करने के लिए थाना प्रभारी पर क्यों दबाव बनाया गया? आपकी बात न मानने पर पहले तबादला, फिर निलंबन किसके दबाव में किया गया?

2-इंस्पेक्टर को निलंबित करने का एक कारण आपने तस्करा लीक करने और गोपनीयता भंग करना बताया है। जबकि थाना प्रभारी के चले जाने के बाद तस्करा लीक हुआ। क्या आप तस्करा लीक होने व गोहत्या के लिए स्वयं को जिम्मेदार मानते हुए अपने खिलाफ तस्करा दर्ज कराएंगे?

3-आपके एवं एसपी देहात के द्वारा गोकशी में भाजपा नेताओं का नाम शामिल करने के लिए इंस्पेक्टर पर दबाव बनाया गया। क्या आप पर किसी बड़े गौ-तस्करों का दबाव है?

4-इंस्पेक्टर राजेंद्र त्यागी द्वारा किए गए एनकाउंटर पर आप इसलिए नाराज थे, क्योंकि उन्होंने आपको सूचना नहीं दी। ऐसे में आपको टीवी पर चमकने का मौका नहीं मिला। अभी तक आपने व एसपी देहात ने अपने जीवन में फर्जी एनकाउंटर किए हैं?

5-क्या आपके उक्त कृत्यों से पुलिस की साख नहीं गिरी है?

चार्ज से हटाने से आहत इंस्पेक्टर ने चिट्ठी लिखकर आपबीती बताई थी।
चार्ज से हटाने से आहत इंस्पेक्टर ने चिट्ठी लिखकर आपबीती बताई थी।

अफसर चाहते थे गोकश सलीम पहलवान पर न हो कार्रवाई

सवाल पूछने से पहले इस पत्र में भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने एसएसपी के लिए लिखा है कि मैं आपको बधाई देता हूं कि आपने खुद को बचाने के लिए एक कर्तव्यनिष्ठ एवं साहसी गौभक्त थाना प्रभारी राजेंद्र त्यागी का पहले तबादला, फिर निलंबित कर दिया। आपने ऐसा करके अपराधियों के हौंसले बुलंद, पुलिसकर्मियों का मनोबल गिराकर उप्र पुलिस को शर्मसार किया है।

विधायक के अनुसार, निलंबित थाना प्रभारी ने बच्चों की कसम खाते हुए रोकर बताया कि आपके (विधायक) पत्र लिखने के बाद मुझे एसएसपी व एसपी देहात ने बुलाया। कहा कि आप सलीम पहलवान पर कार्रवाई नहीं करेंगे। गो-तस्करी प्रकरण में भाजपा नेता और हिन्दू संगठनों से जुड़े लोगों का नाम ले लो तो तुम्हें वापस लोनी बॉर्डर थाना दे दिया जाएगा। जब थाना प्रभारी ने कहा कि सर आप क्या कह रहे हैं, एक बार सोच तो लीजिए? आरोप है कि इस पर अधिकारी भड़क गए और नौकरी खाने तक की धमकी दी।

12 नवंबर को हुई मुठभेड़ में 7 गो-तस्करों को पैर में गोली लगी थी।
12 नवंबर को हुई मुठभेड़ में 7 गो-तस्करों को पैर में गोली लगी थी।

12 नवंबर को मिली थी गोकशी की सूचना

लोनी बॉर्डर थाने के तत्कालीन प्रभारी राजेंद्र त्यागी को 12 नवंबर की सुबह हाजीपुर बेहटा गांव के जंगल में गोकशी की सूचना मिली। उन्होंने एक गोदाम में एनकाउंटर के बाद सात गोतस्करों को गिरफ्तार किया। इस दौरान सातों गो-तस्करों को टांग में एक ही जगह पर गोली लगी। गो-तस्करों को पकड़ने पर तमाम हिन्दू संगठनों ने थाने पहुंचकर इंस्पेक्टर को सम्मानित भी किया था। 13 नवंबर को एसएसपी ने इंस्पेक्टर को चार्ज से हटा दिया। इससे आहत होकर इंस्पेक्टर ने एक चिट्ठी लिखी।

चिट्ठी में इंस्पेक्टर ने लिखा कि चार्ज से हटाए जाने पर वह आहत हैं और नौकरी नहीं करना चाहते। यह चिट्ठी (तस्करा) सोशल मीडिया में वायरल हो गई। इस पर 16 नवंबर को एसएसपी ने इंस्पेक्टर राजेंद्र त्यागी को सस्पेंड कर दिया।