दिल्ली पुलिस ने हाईवे से 70% बैरिकेडिंग हटाई:गाजियाबाद से गाजीपुर को जाने वाली 16 लेयर बैरिकेड्स ज्यों के त्यों

गाजियाबाद3 महीने पहलेलेखक: सचिन गुप्ता

गाजीपुर बॉर्डर से खबरें आ रही हैं कि यूपी-दिल्ली हाईवे खुल गया है। दिल्ली पुलिस ने अपनी बैरिकेडिंग हटा ली हैं। सच्चाई परखने के लिए 'दैनिक भास्कर' ने ग्राउंड जीरो पर जाकर स्थिति देखी। इसमें पाया कि दिल्ली पुलिस ने मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे से अपने बैरिकेड्स हटाए हैं।

गाजियाबाद से गाजीपुर मुर्गा मंडी को जाने वाली सर्विस लेन पर 16 लेयर बैरिकेड्स ज्यों के त्यों है। इसके अलावा यूपी पुलिस ने अपने दो स्थानों से बैरिकेडिंग नहीं हटाई गई है। कुल इन तीनों स्थानों से बैरिकेडिंग हटे तो यूपी से दिल्ली जाने का सफर फिर सुहाना बन पाएगा।

इन दो बैरिकेडिंग पर मीडिया, किसान के वाहनों के अलावा किसी वाहन को एंट्री नहीं
जब हम गाजियाबाद से गाजीपुर बॉर्डर की तरफ चले तो सबसे पहली बैरिकेडिंग एक्सप्रेस-वे पर राहुल विहार के नजदीक मिली। यहां ट्रैफिक पुलिस के दो जवान तैनात थे। उन्होंने आगे जाने से रोक दिया। जब यह बताया कि मीडिया से हैं, तब उन्होंने बैरिकेडिंग हटाकर गाजीपुर बॉर्डर की तरफ जाने दिया। इससे यह बात साफ हो गई कि आम व्यक्ति के वाहनों को इस बैरिकेडिंग से आगे जाने की इजाजत नहीं है।

करीब एक किलोमीटर आगे बढ़ते ही खोड़ा नगर पालिका गेट के सामने एक्सप्रेस-वे पर दूसरी बैरिकेडिंग मिली। एक्सप्रेसवे की मुख्य 3 लेन पूरी तरह बंद थी। साइड की 3 लेन पर बैरिकेडिंग थी। बराबर में पुलिस का चेकपोस्ट था, लेकिन बैरिकेडिंग की कमान बुलंदशहर के सिकंदराबाद निवासी राजेंद्र के हाथ में थी।

वह सिर्फ किसान और मीडिया से जुड़े लोगों के वाहनों को ही इस बैरिकेडिंग को खोलकर आगे बढ़ने दे रहे थे। यहां पर भी आम व्यक्ति की गाड़ी को पार करने की इजाजत नहीं थी। कुल मिलाकर गाजियाबाद से गाजीपुर बॉर्डर तक पहुंचने के लिए यूपी पुलिस की दो बैरिकेडिंग पार करनी पड़ी। फाइनली गाजीपुर बॉर्डर अंडरपास के ठीक ऊपर पहुंचे, जहां दिल्ली पुलिस अपनी बैरिकेडिंग हटा रही थी।

गाजियाबाद से गाजीपुर बॉर्डर जाते वक्त एक्सप्रेस-वे पर लगी यूपी पुलिस की बैरिकेड्स । इस बैरिकेड्स से सिर्फ मीडिया व किसानों के वाहनों को एंट्री मिलती है।
गाजियाबाद से गाजीपुर बॉर्डर जाते वक्त एक्सप्रेस-वे पर लगी यूपी पुलिस की बैरिकेड्स । इस बैरिकेड्स से सिर्फ मीडिया व किसानों के वाहनों को एंट्री मिलती है।

एक्सप्रेसवे से बैरिकेडिंग हटाए, सर्विस लेन पर पहले जैसी स्थिति
12 लेन का मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस 4 हिस्सों में बना हुआ है। हर तीन लेन पर वॉल हैं। दिल्ली पुलिस ने यूपी से दिल्ली जाने वाली सबसे लेफ्ट और उसके बराबर वाली कुल छह लेन पर अपने 16-16 लेयर बेरिकेड्स लगाए हुए थे। शुक्रवार सुबह 8 बजे इन्हें हटाने का काम शुरू हुआ। करीब 12 घंटे बाद लेफ्ट लेन की 16 लेयर बैरिकेडिंग हटा दी गई। जबकि उसके बराबर वाली लेन पर 14 लेयर बैरिकेडिंग हट चुकी है। इस लेन पर भी एक साइड से बैरिकेडिंग हटा दी गई है, ताकि वाहन आ-जा सकें।

गाजियाबाद से गाजीपुर मुर्गा मंडी की तरफ जाने वाली 16 लेयर बैरिकेडिंग अभी नहीं हट पाई है। एक तरह से दिल्ली पुलिस ने संदेश दिया है कि हमने एक्सप्रेसवे को खोल दिया है, आप वाहन ले जा सकते हैं। लेकिन सबसे बड़ी मुश्किल अभी यूपी पुलिस की दो जगह से बैरिकेडिंग नहीं हट पाना है। यूपी पुलिस अपनी बैरिकेडिंग हटाए, तभी वाहन गाजीपुर बॉर्डर तक पहुंच पाएंगे। इसलिए कहा जा सकता है कि अभी मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेसवे पूरी तरह नहीं खुला है।

यूपी एरिया में बैरिकेडिंग पर बेशक पुलिस तैनात रहती हो, लेकिन इसका कंट्रोल किसानों पर होता है। वही चुनिंदा वाहनों को एंट्री देकर गाजीपुर बॉर्डर भेजते हैं।
यूपी एरिया में बैरिकेडिंग पर बेशक पुलिस तैनात रहती हो, लेकिन इसका कंट्रोल किसानों पर होता है। वही चुनिंदा वाहनों को एंट्री देकर गाजीपुर बॉर्डर भेजते हैं।

भाकियू ने कहा- धरने में कोई बदलाव नहीं, जारी रहेगा
गाजीपुर बॉर्डर को लेकर चल रहे कई मैसेज के बीच भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि भाकियू स्पष्ट करना चाती है कि मोर्चा (धरना) लगातार चलता रहेगा। मोर्चे पर कोई बदलाव नहीं है। पुलिस ने 26 जनवरी के बाद रास्ता रोका था। सुप्रीम कोर्ट में मोर्चे के शपथ पत्र के बाद दिल्ली पुलिस अपनी गलतियां सुधार रही है। धर्मेंद्र मलिक ने कहा कि प्रत्येक दिन आंदोलन के खिलाफ साजिश हो रही है। हर साजिश के खिलाफ हमें तैयार रहना है।

गाजियाबाद से गाजीपुर मुर्गा मंडी जाने वाली सर्विस लेन पर दिल्ली पुलिस की 16 लेयर बैरिकेडिंग अभी नहीं हटाई गई है।
गाजियाबाद से गाजीपुर मुर्गा मंडी जाने वाली सर्विस लेन पर दिल्ली पुलिस की 16 लेयर बैरिकेडिंग अभी नहीं हटाई गई है।
दिल्ली पुलिस ने इस सर्विस लेन पर लगी 16 लेयर बैरिकेडिंग को हटाने या न हटाने पर फिलहाल कोई बयान नहीं दिया है।
दिल्ली पुलिस ने इस सर्विस लेन पर लगी 16 लेयर बैरिकेडिंग को हटाने या न हटाने पर फिलहाल कोई बयान नहीं दिया है।
29 अक्तूबर को करीब 12 घंटे तक बड़ी क्रेन चलाकर एक्सप्रेसवे से बड़े-बड़े पत्थरों और बैरिकेड्स को हटाया गया था।
29 अक्तूबर को करीब 12 घंटे तक बड़ी क्रेन चलाकर एक्सप्रेसवे से बड़े-बड़े पत्थरों और बैरिकेड्स को हटाया गया था।
दिल्ली पुलिस का कहना है कि हमारी तरफ से मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे को क्लियर कर दिया गया है।
दिल्ली पुलिस का कहना है कि हमारी तरफ से मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे को क्लियर कर दिया गया है।