चुनाव से पहले फिर DNA का जिक्र:संघ प्रमुख भागवत बोले- सभी भारतीयों का DNA एक, चाहे वे किसी भी धर्म के हों

गाजियाबाद5 महीने पहले

अक्सर चुनावी मुद्दा बनने वाला DNA फिर चर्चा में है। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत ने गाजियाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान DNA को लेकर बयान दिया। संघ प्रमुख ने कहा कि सभी भारतीयों का DNA एक है, भले ही वे किसी भी धर्म के क्यों न हों।

उन्होंने कहा कि हिंदू-मुस्लिम एकता की बातें भी भ्रामक हैं, क्योंकि ये दोनों अलग नहीं, बल्कि एक हैं। लोगों के बीच पूजा पद्धति के आधार पर अंतर नहीं किया जा सकता है। उन्होंने मॉब लिंचिंग करने वालों के बारे में कहा कि ऐसे लोग हिंदुत्व के खिलाफ हैं।

यूपी में जबरन धर्मांतरण के बीच बयान आया
भागवत ने कहा कि ये सिद्ध हो चुका है कि हम पिछले 40 हजार साल से एक पूर्वजों के वंशज हैं। इसमें एकजुट होने जैसी कोई बात नहीं है, सभी लोग पहले से ही एक साथ हैं। भागवत का यह बयान ऐसे वक्त आया है जब यूपी से लगातार जबरन धर्मांतरण की खबरें आ रहीं हैं। योगी सरकार ने भी धर्मांतरण को लेकर सख्ती शुरू कर दी है।

यूपी में मुस्लिम वोटर कई सीटों पर हार-जीत तय करते हैं। सरकार बनाने में उनका अहम रोल होता है। चुनाव के पहले भागवत का यह बयान इस ओर भी इशारा करता है कि BJP प्रदेश में मुसलमानों को साथ लेकर चलेगी।

सियासत में पहले कब हुआ DNA का जिक्र

  • 2015 में मुजफ्फरपुर में एक रैली में PM मोदी ने इशारों में नीतीश कुमार का जिक्र कर कहा था कि शायद उनके DNA में ही गड़बड़ है।
  • 2016 में मध्य प्रदेश के BJP विधायक रामेश्वर शर्मा ने राहुल गांधी के बारे में विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि राहुल आतंकवादी हैं। उनका DNA टेस्ट होना चाहिए।
  • पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने DNA की बात कर राहुल गांधी के बारे में कहा था कि मुस्लिम बाप और विदेशी ईसाई मां का बेटा ब्राह्मण कैसे हो सकता है?

पूर्व PM नरसिम्हा राव के सलाहकार की किताब का विमोचन
संघ प्रमुख ने गाजियाबाद में पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव के सलाहकार रहे डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार की किताब 'वैचारिक समन्वय-एक व्यावहारिक पहल' रिलीज की। इस किताब में अयोध्या-बाबरी विवाद पर बड़ा खुलासा किया गया है।

डॉ. ख्वाजा ने लिखा है कि अगर नेता और बुद्धिजीवी सही तरीके से इस पर बातचीत करते तो ये विवाद पहले ही शांत हो गया होता। उन्होंने लिखा है कि अगर बातचीत से इसका समाधान निकलता तो मुसलमानों को बहुत कुछ मिल सकता था। डॉ. इफ्तिखार अयोध्या के राम मंदिर विवाद में बनाई गई अटल हिमायत कमेटी के अहम सदस्य रहे हैं।

क्या-क्या है किताब में ?

  • किताब में पिछले 100 साल (1920-2020) के अंदर देश में हुई घटनाओं का जिक्र किया गया है।
  • किताब में राम जन्मभूमि विवाद का भी किस्सा है। बताया गया है कि कैसे देश के मुस्लिमों ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को स्वीकारा।
  • पूर्व PM राजीव गांधी, पूर्व PM पीवी नरसिम्हा राव के उस वक्त लिए गए फैसलों का उदाहरण दिया गया है।

PM मोदी की तारीफ
डॉ. इफ्तिखार ने अपनी किताब में RSS को वैचारिक संगठन बताया है। लिखा है कि इसका प्रभाव काफी बड़ा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ भी की गई है। एक पैराग्राफ में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का जिक्र करते हुए बताया गया है कि AMU को कट्टरवादी लोग निशाना बनाते रहे हैं, लेकिन इसकी स्थापना के 100 साल पूरे होने पर ऑनलाइन कार्यक्रम में PM नरेंद्र मोदी ने शिरकत करके उन्हें करारा जवाब दिया है।

डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार अहमद की लिखी पुस्तक।
डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार अहमद की लिखी पुस्तक।

विमोचन से पहले देश के 500 लोगों तक पहुंची पुस्तक
पहले यह किताब दिल्ली के विज्ञान भवन में रिलीज होनी थी। कोरोना की वजह से यह कार्यक्रम टल गया। फिर इसके लिए गाजियाबाद को चुना गया। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के बैनर तले होने वाले इस कार्यक्रम में सिर्फ 30-40 लोग ही मौजूद रहे। हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू में लिखी गई यह किताब रिलीस से पहले देशभर के 500 धर्मगुरुओं, शिक्षाविदों और मुस्लिम समाज के प्रभावी लोगों तक पहुंच गई है। RSS के मुताबिक, यह पुस्तक मुस्लिम समाज के हर प्रभावी व्यक्ति तक पहुंचाने की कोशिश होगी।

इंद्रेश बोले- समस्या समाधान को टकराव नहीं, संवाद जरूरी

जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल को पुस्तक भेंट करते मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार।
जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल को पुस्तक भेंट करते मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार।

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार ने इस किताब के बारे में अपने फेसबुक पेज पर लिखा- 'अनेक वर्षों से कट्टरपंथी व राजनीतिक द्वेष वाले नेताओं ने मुसलमानों को यह समझाया है कि RSS-BJP उनके दुश्मन हैं, लेकिन ऐसा नहीं है'। यह पुस्तक इस बात का आह्वान करेगी कि RSS-BJP से नफरत नहीं, संवाद करेंगे। फसाद नहीं, भाईचारा लाएंगे। इंद्रेश कुमार ने यह भी कहा कि समस्याओं के समाधान के लिए भयानक आलोचना और टकराव नहीं, बल्कि सौहार्दपूर्ण संवाद जरूरी है।

RSS-BJP पदाधिकारियों के साथ बैठक की
RSS प्रमुख मोहन भागवत रविवार दोपहर गाजियाबाद पहुंचे। यहां वसुंधरा के मेवाड़ इंस्टीट्यूट में RSS और BJP पदाधिकारियों के साथ बैठक की। मोहन भागवत 2 दिन गाजियाबाद में रहेंगे।

खबरें और भी हैं...