नकली मोबिल ऑयल बनाने की दो फैक्ट्रियों का भंडाफोड़:गाजियाबाद-हापुड़ में ट्रांसफार्मर और गाड़ियों के पुराने तेल को रिसाइकल करके बन रहा था ऑयल, पांच करोड़ का माल बरामद

गाजियाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गाजियाबाद पुलिस ने नकली मोबिल ऑयल बनाने की फैक्ट्रियां पकड़ी हैं। तीन आरोपियों को भी गिरफ्तार किया गया है। - Dainik Bhaskar
गाजियाबाद पुलिस ने नकली मोबिल ऑयल बनाने की फैक्ट्रियां पकड़ी हैं। तीन आरोपियों को भी गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस ने मंगलवार को गाजियाबाद और हापुड़ में नामचीन कंपनियों के नाम पर नकली मोबिल ऑयल बनाने की दो फैक्ट्री पकड़ी है। तीन आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है। यहां ट्रांसफार्मरों से निकलने वाले काले तेल और गाड़ियों के पुराने मोबिल ऑयल को रिसाइकिल करके नया तेल बनाकर वाहनों में खपाया जा रहा था। पुलिस ने करीब पांच करोड़ रुपए कीमत का माल बरामद किया है।

आकाश नगर में ऑफिस खोलकर बेच रहे थे
क्राइम ब्रांच प्रभारी आनंद प्रकाश मिश्र ने बताया कि मंगलवार रात कविनगर थाना क्षेत्र और हापुड़ जिले के पिलखुवा थाना क्षेत्र में छापा मारकर फैक्ट्री पकड़ी गई। इनमें तैयार होने वाले माल को मसूरी थाना क्षेत्र के आकाश नगर में ऑफिस खोल कर बेचा जा रहा था।

नामचीन कंपनियों ने की थी शिकायत
दरअसल, कई नामचीन कंपनियों को सूचना मिली थी कि उनके माल को सस्ते रेट पर मार्केट में बेचा जा रहा है। कंपनी अधिकारियों ने रेकी की तो पता चला कि उनके नाम पर नकली मोबिल ऑयल बन रहा है। कंपनी अधिकारियों ने पुलिस को जानकारी दी।

बॉयलर में गर्म करके रंग मिलाकर असली जैसा तेल
पुलिस ने बताया कि ये गिरोह नामचीन कंपनियों की बोतल, पाउच, बाल्टी, रैपर बनवाता है। इसके बाद ट्रांसफार्मर और गाड़ियों से निकलने वाले पुराने मोबिल ऑयल को एकत्र करते हैं। उसे बॉयलर में गर्म करते हैं। काले तेल में रंग मिलाकर असली जैसा बना देते हैं। इसके बाद पाउच और डिब्बों में भरकर बाजार में सस्ते रेट पर बेच देते हैं।

पुलिस का दावा है कि तीन स्थानों पर छापामार कार्रवाई करने के बाद करीब पांच करोड़ रुपए कीमत का माल बरामद हुआ है।
पुलिस का दावा है कि तीन स्थानों पर छापामार कार्रवाई करने के बाद करीब पांच करोड़ रुपए कीमत का माल बरामद हुआ है।

नुकसान : दो हजार km पर सूख जाता था ऑयल
पुलिस के अनुसार, बड़ी गाड़ियां एक बार मोबिल ऑयल डलवाने पर करीब 10 हजार किलोमीटर चलती हैं। लेकिन, इस नकली मोबिल ऑयल से ये गाड़ियां दो हजार किलोमीटर ही चल पा रही थीं। नकली ऑयल सूखने से इंजन जल्दी खराब हो रहे थे। लोग यह भी तय नहीं कर पाते थे कि असली और नकली मोबिल ऑयल में क्या अंतर है।

यह आरोपी हुए गिरफ्तार

  • सौरभ गिरि नवासी कृष्णा गार्डन, मधुबन बापूधाम, गाजियाबाद
  • जयचंद निवासी कैलाशनगर, विजयनगर, गाजियाबाद
  • लच्छी गिरि निवासी चित्सौना अल्लीपुर, बीबीनगर, बुलंदशहर

इतना सामान बरामद हुआ
2T ऑयल के 45 हजार पाउच, 50 पेटी इंजन ऑयल, बोतलों के चार हजार ढक्कन, सर्वो ऑयल के 50 हजार स्टीकर, 8 कार्टून स्टीकर, तीन पैकिंग मशीन, 528 ड्रमों में भरा 1.10 लाख लीटर ऑयल, 99 बाल्टी ऑयल आदि सामान बरामद हुआ है।

खबरें और भी हैं...