डासना मंदिर के महंत के काफिले में घुसे 3 संदिग्ध:महंत नरसिंहानंद ने किया ट्वीट- मेरी हत्या करने आए बंगलुरू के 3 युवक, CO बोले- महाराज के कार्यक्रम से संदिग्धों का संबंध नहीं

गाजियाबाद5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुलंदशहर में रामघाट गंगा किनारे वन खंडेश्वर महादेव मंदिर में 5 दिवसीय बंग्लामुखी महायज्ञ में शामिल होने पहुंच रहे थे महंत यति नरसिंहानंद। - Dainik Bhaskar
बुलंदशहर में रामघाट गंगा किनारे वन खंडेश्वर महादेव मंदिर में 5 दिवसीय बंग्लामुखी महायज्ञ में शामिल होने पहुंच रहे थे महंत यति नरसिंहानंद।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद महाराज के काफिले में घुसे तीन संदिग्ध घुस गए। आननफानन में बुलंदशहर पुलिस ने तीन संदिग्धों की कार रुकवार उन्हें हिरासत में ले लिया। तीनों युवक बंगलुरू के रहने वाले हैं। उनसे पूछताछ जारी है।

उधर, यति नरसिंहानंद ने ट्वीट करके लिखा- 'पुलिस सतर्कता से मेरी हत्या करने आए तीन युवक गिरफ्तार हुए'। वहीं, CO वंदना शर्मा ने बताया कि तीनों युवक रास्ता भटकने से वह रामघाट क्षेत्र की तरफ पहुंच गए। इनके पास से आपत्तिजनक वस्तु बरामद नहीं हुई है। फिर भी गहनता पूर्वक जांच की जा रही है।

पुलिस ने काफिला रुकवाकर पकड़ी पंजाब नंबर की क्रेटा कार
दरअसल, बुलंदशहर में रामघाट गंगा किनारे वन खंडेश्वर महादेव मंदिर में 5 दिवसीय बंग्लामुखी महायज्ञ मंगलवार से शुरू हुआ है। डासना डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद महाराज मंगलवार रात करीब साढ़े 9 बजे पुलिस सुरक्षा में कार से मंदिर जा रहे थे। रामघाट चौराहे के नजदीक पंजाब नंबर की क्रेटा कार अचानक उनके काफिले में घुस गई। रामघाट थानाध्यक्ष की गाड़ी को ओवरटेक किया। पुलिस को शक हुआ तो महाराज का पूरा काफिला रुकवाया गया। किसी तरह क्रेटा कार भी रुकवाई गई। उसमें तीन युवक बैठे हुए थे।

तीनों युवक बोले- गाड़ी-बैटरी खरीदने-बेचने का करते हैं काम
पूछताछ में तीनों ने अपने नाम शहीद समीर अहमद (33), तनवीर पाशा (30) और वेंकटेश (37) बताया। तीनों युवक बंगलुरू के रहने वाले हैं। तीनों युवकों ने बताया कि वह मुरादाबाद से बंगलुरू जा रहे थे। 9 जुलाई को वे मुरादाबाद आकर रेलवे स्टेशन के सामने वेगास होटल में ठहरे। डबल फाटक मुरादाबाद से इमरान नाम के व्यक्ति से साढ़े 7 लाख रुपए में यह क्रेटा कार खरीदी थी। तीनों ने बताया कि पुरानी गाड़ी व बैटरी खरीदने-बेचने का काम करते हैं। यहां से गाड़ी-बैटरी सस्ते में खरीदकर ऊंचे दाम पर बंगलुरू में ले जाकर बेच देते हैं।

गाजियाबाद डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद ने ट्वीट करके लिखा- 'पुलिस सतर्कता से मेरी हत्या करने आए तीन युवक गिरफ्तार हुए'
गाजियाबाद डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद ने ट्वीट करके लिखा- 'पुलिस सतर्कता से मेरी हत्या करने आए तीन युवक गिरफ्तार हुए'

डासना मंदिर से खुला था धर्मांतरण का खेल
गाजियाबाद के डासना मंदिर में ही यति नरसिंहानंद महाराज रहते हैं। इस मंदिर में 2 जून की रात दो संदिग्ध युवक घुस आए थे। इनके पास से सर्जिकल ब्लेड, धार्मिक पुस्तकें मिली थी। आरोपियों से पूछताछ के बाद ही यूपी ATS ने धर्मांतरण का खेल खोला था। जिसमें अब तक कई गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। यति नरसिम्हानंद का कहना है कि इस केस के बाद से उन्हें लगातार धमकियां मिल रही हैं।

उच्चाधिकारियों को सूचित किया : इंस्पेक्टर
फिलहाल तीनों संदिग्ध युवक बुलंदशहर जिले के रामघाट थाना पुलिस की हिरासत में हैं। इंस्पेक्टर वीरेंद्र सिंह ने बताया कि तीनों युवक मुरादाबाद से बंगलुरू जा रहे थे। रास्ता भटककर इधर की तरफ आ गए। अभी तक की पूछताछ में संदिग्ध जैसी कोई बात सामने नहीं आई है। पूरे मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

CO- महाराज के कार्यक्रम से संदिग्धों का संबंध नहीं
डिबाई कस्बा के सीओ वंदना शर्मा ने बताया कि पंजाब नंबर की एक कार सवार तीन युवक चेकिंग के दौरान रामघाट क्षेत्र में पकड़े गए। अब तक की जांच में तीनों का यति नरसिम्हानंद महाराज के कार्यक्रम से कोई संबंध नहीं मिला है। वह मुरादाबाद से आ रहे थे और अलीगढ़-आगरा होते हुए बंगलुरू जा रहे थे। रास्ता भटकने से वह रामघाट क्षेत्र की तरफ पहुंच गए। तीनों से कोई आपत्तिजनक वस्तु बरामद नहीं हुई है। फिर भी गहनता पूर्वक जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं...