पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गाजियाबाद में डेंगू फैलने पर 50 अस्पतालों को नोटिस:स्वास्थ्य विभाग ने बुखार,मलेरिया और डेंगू के मरीजों का ब्यौरा मांगा, रिपोर्ट नहीं देने पर लाइसेंस निरस्त करने की दी चेतावनी

गाजियाबाद19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सीएमओ ने बुखार के रोकथाम के लिए जिला सर्विलांस अधिकारी आरके गुप्ता को नोडल नामित कर दिया है। - Dainik Bhaskar
सीएमओ ने बुखार के रोकथाम के लिए जिला सर्विलांस अधिकारी आरके गुप्ता को नोडल नामित कर दिया है।

गाजियाबाद जिले में सीजनल वायरल, डेंगू और मलेरिया के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। लेकिन निजी अस्पतालों के अलावा निजी चिकित्सक बुखार के मरीजों का विवरण स्वास्थ्य विभाग को मुहैया नहीं नहीं करा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग ने इस मामले में निजी अस्पतालों के खिलाफ कड़ा एक्शन लिया है।

पचास निजी अस्पतालों के साथ ही 42 चिकित्सकों को नोटिस जारी कर दिया है। उन्हें चेतावनी दी गई है कि रोजाना बुखार,मलेरिया और डेंगू के आने वाले मरीजों का पूरा ब्यौरा स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध कराना होगा। ऐसा न करने पर पंजीकरण निरस्त किया जाएगा।

4 दिन में डेंगू के 26 डेंगू केस

जिले में बीते चार दिनों में डेंगू के 26 केस सामने आए हैं। अस्पतालों में जांच में तेजी लाने को बोला गया है। जांच तेज होने और अस्पतालों पर सख्ती करने के बाद मरीजों की पुष्टि हाे रही है। सरकारी और निजी अस्पतालों की ओपीडी में बुखार के रोज दो सौ से लेकर चार सौ मरीज पहुंच रहे हैं। मलेरिया के आठ मरीजों की पुष्टि हो चुकी है।

शनिवार के डेंगू के 17 मरीज मिले थे

शनिवार को डेंगू के 17 मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग के साथ ही प्रशासन में अफरा तफरी मच गई। शासन से तैनात नोडल सेंथिल पांडियन सी ने रविवार को जिला एमएमजी अस्पताल समेत पांच स्थानों का निरीक्षण किया। जिला एमएमजी और संयुक्त अस्पताल की ओपीडी में शनिवार को बुखार के 402 मरीज पहुंचे थे।

पचास से अधिक अति संवदेनशील इलाकों की सूची बनाते हुए बीस टीमों को तैनात किया गया है। मलेरिया निरीक्षकों को पहली बार क्षेत्रवार तैनात करते हुए जांच एवं सर्वे की जिम्मेदारी सौंपी गई हैं।

सर्विलांस अधिकारी आरके गुप्ता नोडल नामित

सीएमओ ने बुखार के रोकथाम के लिए जिला सर्विलांस अधिकारी आरके गुप्ता को नोडल नामित कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मलिन बस्तियों, डूब क्षेत्र और तालाबों के आसपास जांच, एंटी लार्वा का छिड़काव और दवा बांटने के लिए विशेष अभियान चलाने की कार्ययोजना तैयार कर ली है।

सीजनल वायरल के अलावा मलेरिया और डेंगू प्रभावित क्षेत्रों में अगले पंद्रह दिन तक विभागीय टीमें डेरा डालकर मरीजों का इलाज करेंगी।

खबरें और भी हैं...