25वीं मंजिल से गिरे जुड़वां भाई:बालकनी में खेलते वक्त 225 फीट ऊपर से गिरे 14 साल के बच्चे, मौके पर ही मौत; गाजियाबाद की घटना

गाजियाबाद2 महीने पहले
गाजियाबाद पुलिस हादसे के अलावा अन्य एंगल पर भी जांच कर रही है।

गाजियाबाद में दिल दहलाने वाली घटना हुई है। यहां के विजयनगर इलाके में शनिवार रात डेढ़ बजे दो जुड़वां भाई अपार्टमेंट की 25वीं मंजिल से गिर गए। दोनों भाइयों की मौके पर ही मौत हो गई। दोनों की उम्र 14 साल थी और 9वीं क्लास में पढ़ते थे। बता दें कि बच्चों के पिता किसी काम से मुंबई गए हुए थे और बड़ी बहन और मां अंदर कमरे में थी। इसी दौरान रात को करीब डेढ़ बजे ये घटना हो गई। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। हालांकि यह पता नहीं चल पाया है कि इतनी रात बच्चे बालकनी में क्यों खेल रहे थे।

इसी टावर की 25 वीं मंजिल से दोनों भाई की गिरकर मौत हुई।
इसी टावर की 25 वीं मंजिल से दोनों भाई की गिरकर मौत हुई।

रात डेढ़ बजे की है घटना
विजयनगर थाना क्षेत्र के सिद्वार्थ विहार में प्रतीक ग्रांड सोसायटी की 25वीं मंजिल पर परली नारायण, पत्नी राधा और दो बच्चों के साथ रहते थे। वह मूलत: चेन्नई के रहने वाले हैं। परली नारायण की शादी 18 साल पहले हुई थी। 16 साल की बड़ी बेटी है। दो जुड़वा बेटे सूर्य नारायण व सत्य नारायण थे। परली नारायण प्रोटिमा कंपनी में मुख्य प्रशासनिक अधिकारी हैं। वह कंपनी के काम से 12 दिन पहले मुंबई गए थे।

मां बोली- पता नहीं कैसे रूम से बाहर आ गए दोनों बच्चे?
बच्चों की मां राधा ने बताया कि शनिवार रात डेढ़ बज रहे थे। मैं बेटी के साथ कमरे में थी। बेटे सूर्य नारायण और सत्यनारायण दूसरे कमरे में मोबाइल पर गेम खेल रहे थे। पता नहीं कब और कैसे दोनों कमरे से बाहर आ गए। जब बच्चों की आवाज नहीं आई तो उन्हें पुकारा, लेकिन दोनों में से किसी ने भी जवाब नहीं दिया। तभी पड़ोस से आवाज आई की कोई नीचे गिर गया। मैं अपनी बेटी के साथ लिफ्ट से नीचे की तरफ पहुंची। जहां दोनों बेटे खून से लथपथ पड़े हुए थे, दोनों की मौत हो गई थी।

पापा से कॉल पर पूछा था कब आएंगे
मां ने बताया कि शनिवार शाम को मेरी पति से मोबाइल पर बात हो रही थी। तभी सूर्य नारायण ने भी अपने पापा से बात की थी। पूछा था कब आएंगे? इसमें उन्होंने कहा था कि एक दिन की बात है। जल्दी आ रहा हूं। हादसे की जानकारी पाकर रविवार सुबह ही पिता मुंबई से सीधे गाजियाबाद में पोस्टमार्टम हाऊस पहुंचे। उनका रो-रोकर बुरा हाल है।

कुर्सी पर रखा छोटा स्टूल। पुलिस हादसे के अलावा अन्य एंगल पर भी जांच कर रही है।
कुर्सी पर रखा छोटा स्टूल। पुलिस हादसे के अलावा अन्य एंगल पर भी जांच कर रही है।

कुर्सी पर रखा था छोटा स्टूल
जुड़वां भाइयों की मौत की जांच में पुलिस भी उलझ गई है। पुलिस ने रात में ही जिस जगह से दोनों भाई गिरे थे वहां जाकर देखा। इंस्पेक्टर विजयनगर योगेंद्र मलिक ने बताया कि बालकनी में लगी ग्रिल की ऊंचाई करीब साढे़ 3 फीट है। ग्रिल के पास ही एक कुर्सी रखी हुई थी। कुर्सी पर प्लास्टिक का 6 इंच ऊंचा स्टूल रखा हुआ था। ऐसे में आशंका है कि दोनों भाई कुर्सी पर रखे स्टूल पर चढ़कर नीचे की तरफ झांक रहे होंगे। तभी यह हादसा हो गया। फिलहाल, सभी एंगल से जांच की जा रही है।

घटना के बाद अपार्टमेंट में रहने वाले लोग सदमे में हैं।
घटना के बाद अपार्टमेंट में रहने वाले लोग सदमे में हैं।

एक साथ जन्म, एक साथ ही मौत
पड़ोस के रहने वाले राकेश नाम के युवक ने पुलिस को बताया की रात के समय तेज आवाज आई। अचानक से पता नहीं चला कि क्या हुआ। उस समय वह सोए नहीं थे। तभी कुछ देर बाद पता चला की पड़ोस के जुड़वां बच्चे बालकनी से गिर गए। पड़ोसियों ने बताया की दोनों एक साथ ही स्कूल जाते व एक साथ ही ट्यूशन जाते थे। अब दोनों की मौत भी एक साथ ही हुई है।

खबरें और भी हैं...