पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बकरे की रकम न चुकाना पड़े, रचा अपहरण का ड्रामा:गाजियाबाद में बकरे के 15 हजार रुपए न देने पड़ें, इसलिए हाथ-पैर बांधकर वीडियो बनवाई; अपहरण की सूचना कर दी फ्लैश

गाजियाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खेत में हाथ-पैर बांध कर बनाया अपहरण का झूठा केस। पुलिस की पूछताछ में पकड़ा गया। - Dainik Bhaskar
खेत में हाथ-पैर बांध कर बनाया अपहरण का झूठा केस। पुलिस की पूछताछ में पकड़ा गया।

यूपी के गाजियाबाद में एक व्यक्ति ने बकरे के 15 हजार रुपये न चुकाने के लिए खुद के अपहरण का ड्रामा रच डाला। खेत में हाथ-पैर बंधे हुए वीडियो बनवाई और वायरल कर दी। पुलिस ने जांच-पड़ताल की तो कथित तौर पर अगवा हुआ शख्स ही आरोपी निकला। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

फर्नीचर व्यापारी से बकरा खरीदा और नहीं दी रकम

मुरादनगर में हाजी इरशाद फारुकी फर्नीचर कारोबारी हैं। नूरगंज मुरादनगर के वसीम ने उनसे एक बकरा 15 हजार रुपये में सोमवार को खरीदा। मंगलवार को बकरे के पैसे देने थे। इससे पहले ही वसीम ने हाजी इरशाद के मोबाइल एक वीडियो भेजी। वीडियो में वह खेत में लेटा हुआ है। उसके हाथ-पैर एक मामूली रस्सी से बंधे हुए हैं। इरशाद फारुकी को भेजे गए मैसेज में वसीम ने बताया कि उसका अपहरण हो गया है। बदमाशों ने रुपये भी लूट लिए हैं।

वसीम बोला- पैसे खर्च हो गए थे, इसलिए रचा ड्रामा

जिस प्रकार से वीडियो बनाई गई थी, उससे अपहरण पर सवाल खड़े हो गए। बकरा बेचने वाले इरशाद फारुकी ने तत्काल मुरादनगर पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने वसीम के मोबाइल को सर्विलांस पर लगाया और लोकेशन के आधार पर उसे एक खेत से बरामद कर लिया। पूछताछ में वसीम ने सारा मामला उगल दिया। वसीम ने कहा कि बकरे के लिए उसके पास जो पैसे रखे थे, वह खर्च हो गए। बकरे के पैसे फिलहाल न देने पड़ें, इसलिए उसने खुद के अपहरण का ड्रामा रचा और वीडियो बनाकर वायरल की। पुलिस ने वसीम के खिलाफ झूठी सूचना देने का मुकदमा दर्ज कर लिया है।

खबरें और भी हैं...