मुंडका अग्निकांड में गाजियाबाद से भेजी गईं 2 NDRF टीमें:आग में फंसे रहने से जलकर राख हो गए कई शरीर, मृतकों की बढ़ सकती है संख्या

गाजियाबादएक महीने पहले
दिल्ली के मुंडका इलाके में तीन मंजिला बिल्डिंग में लगी आग के बाद एनडीआरएफ जवान सर्च ऑपरेशन कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar
दिल्ली के मुंडका इलाके में तीन मंजिला बिल्डिंग में लगी आग के बाद एनडीआरएफ जवान सर्च ऑपरेशन कर रहे हैं।

दिल्ली में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास तीन मंजिला कॉमर्शियल बिल्डिंग में आग लगने के बाद गाजियाबाद से NDRF की दो स्पेशल टीमें वहां सर्च ऑपरेशन चला रही है। टीम ने बताया, सर्च में अब मानव अंग के छोटे-छोटे टुकड़े वहां मिल रहे हैं। इससे साफ है कि अभी मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है।

NDRF के अनुसार, शनिवार सुबह 9 बजे तक सेकेंड फ्लोर पर 80 फीसदी सर्च किया जा चुका है। इस फ्लोर से टीम को कई मानव अंग मिले हैं। इंसानी हड्डियां मिली हैं, जो यह बता रही हैं कि आग कितनी वीभत्स थी कि शरीर तक नहीं बचा। माना जा रहा है कि कुछ लोग आग से नहीं निकल पाए और वे उसी में जलकर राख हो गए। जिसके बाद अब उनके अवशेष बरामद हो रहे हैं।

मलबे में तलाश के दौरान टीमों को मानव अवशेष बरामद हो रहे हैं।
मलबे में तलाश के दौरान टीमों को मानव अवशेष बरामद हो रहे हैं।

सिर्फ एक फ्लोर पर हुआ सर्च, दो फ्लोर बाकी
टीम ने बताया, ऐसे सभी अवशेषों को अलग-अलग पॉलीपैक में एकत्र किया जा रहा है, ताकि बाद में फोरेंसिक और अन्य जांच में कोई दिक्कत न आए। इस फ्लोर के बाद फर्स्ट और थर्ड फ्लोर पर सर्च ऑपरेशन चलाया जाना है। आशंका जताई जा रही है कि इन दोनों फ्लोर पर भी कुछ मानव अवशेष मिल सकते हैं।

गैस डिटेक्ट करने के बाद ही आगे बढ़ रही टीम
एनडीआरएफ आठवीं बटालियन गाजियाबाद के कमांडेंट पीके तिवारी के अनुसार, उनके यहां से दो टीमों में करीब 50 जवान दिल्ली अग्निकांड में कार्य कर रहे हैं। ये सभी टीमें दिल्ली के रीजनल रिस्पांस सेंटर (RRC) को रिपोर्ट कर रही हैं, वहां से शिफ्टवार इनसे काम कराया जा रहा है। इन टीमों के पास अत्याधुनिक उपकरण मौजूद हैं। गैस डिटेक्शन किट से यह पता लगाया जा रहा है कि किसी फ्लोर पर कोई जहरीली गैस तो नहीं फैली है? इसको डिटेक्ट करने के बाद ही टीमें आगे सर्च में बढ़ रही हैं। । लोहे की छड़ और अन्य उपकरणों से मलबे को हटाया जा रहा है। यह देखा जा रहा है कि उनके नीचे कोई दबा तो नहीं है?

यह वो मशीन है जो डिटेक्ट करके बताती है कि आसपास गैस रिसाव तो नहीं है।
यह वो मशीन है जो डिटेक्ट करके बताती है कि आसपास गैस रिसाव तो नहीं है।

अभी पूरी तरह गरम है बिल्डिंग
NDRF प्रवक्ता नरेश चौहान ने बताया, देर रात 2 बजे के आसपास आग बुझ पाई। तब तक 27 लोगों के शव निकाले जा चुके थे। आग से पूरी बिल्डिंग की सीलिंग फॉल लिंटर से नीचे गिर गई है। अंदर की सभी चीजें जलकर खत्म हो गई हैं। इस वजह से पूरी बिल्डिंग में चारों तरफ मलबा ही मलबा है। आग बुझने के कई घंटे बाद भी बिल्डिंग पूरी तरह गरम है।