होटल में महिला की हत्या के मामले में 4 गिरफ्तार:रेलवे स्टेशन पर मुलाकात, होटल में साथ नाइट स्टे; शारीरिक संबंध से इंकार पर की वारदात

गाजियाबाद16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गाजियाबाद पुलिस ने आर्यदीप होटल में हुई प्रियंका की हत्या में चार आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। - Dainik Bhaskar
गाजियाबाद पुलिस ने आर्यदीप होटल में हुई प्रियंका की हत्या में चार आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा किया है।

उत्तर प्रदेश के जिला गाजियाबाद के होटल में चार मई की रात हुई महिला की हत्या के मामले का पर्दाफाश पुलिस ने शनिवार रात कर दिया। इस मामले में मुख्य अभियुक्त होटल मालिक समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। खुलासा हुआ है कि हत्या से कुछ घंटे पहले ही अलीगढ़ की महिला की दोस्ती हत्यारोपी से हुई थी और दोनों सहमति से होटल गए थे।

यहां आरोपी ने महिला से जबरन शारीरिक संबंध बनाने का प्रयास किया। इसमें असफल होने पर उसने महिला प्रियंका सिंह की गला दबाकर हत्या कर दी। होटल वालों ने आरोपी को बचाने के लिए कुछ सुबूत गायब कर दिए थे, इसलिए वे भी आरोपी बनाए गए हैं।

बजरिया के होटल में मिली थी अलीगढ़ की महिला की लाश

SP सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि बजरिया चौकी क्षेत्र के आर्यदीप होटल के कमरे में पांच मई की सुबह एक महिला की लाश पड़ी मिली। उसकी शिनाख्त प्रियंका सिंह पत्नी व्यापारी सिंह के रूप में हुई। वह जिला अलीगढ़ में थाना गांधी पार्क क्षेत्र की रहने वाली थी। पता चला कि यह महिला 4 मई की रात करीब 11.25 बजे होटल में एक युवक के साथ आई थी।

होटल कर्मियों ने महिला की ID पर कमरा बुक किया और साथ आए व्यक्ति का नाम रजिस्टर में सतीश दर्ज किया। SP ने बताया कि इस केस में होटल मालिक रविंद्र यादव, होटल मैनेजर विजय यादव और सफाईकर्मी अच्छेलाल और नौशाद खान को शनिवार रात गिरफ्तार किया गया है।

नौशाद ने हत्या की, होटल वाले सुबूत छिपाने में पकड़े गए

SP सिटी ने बताया कि नौशाद की प्रियंका से मुलाकात 4 मई की रात गाजियाबाद में रेलवे स्टेशन पर हुई थी। दोनों सहमति से नाइट स्टे के लिए 4 मई की रात इस होटल में आ गए। पुलिस के अनुसार, आरोपी नौशाद ने महिला से शारीरिक संबंध बनाने का प्रयास किया। इसमें असफल होने पर उसने महिला की हत्या कर दी और प्रियंका के दोनों मोबाइलों को साथ ले गया।

होटल मालिक और कर्मचारियों को रात में ही इस वारदात की जानकारी हो गई थी, लेकिन उन्होंने आरोपी को बचाने के लिए उसका नाम नौशाद की जगह सतीश दर्ज किया। रजिस्टर में नौशाद का मोबाइल नंबर भी गलत लिखा गया। होटल वालों ने नौशाद की कोई ID भी पुलिस को नहीं दिखाई। साक्ष्य छुपाने के आरोप में होटल मालिक समेत तीन कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया।

खबरें और भी हैं...