PM ने 'मन की बात' में पॉन्डमैन का किया जिक्र:गाजियाबाद के मैकेनिकल इंजीनियर राजवीर तंवर 25 तालाबों को दे चुके हैं नया जीवन, नौकरी छोड़ दी

गाजियाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

PM मोदी ने रविवार सुबह 'मन की बात' में गाजियाबाद के पॉन्डमैन राजवीर तंवर का जिक्र किया। पूरे देश को उनके प्रयासों की कहानी बताई। पीएम ने कहा कि यूपी के गाजियाबाद के रामवीर तंवर को लोग पॉन्डमैन के नाम से जानते हैं।

रामवीर जी तो मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद नौकरी कर रहे थे। उनके मन में स्वच्छता की ऐसी अलख जागी कि वो नौकरी छोड़कर तालाबों की सफाई में जुट गए। रामवीर अब तक कितने ही तालाबों की सफाई करके उन्हें पुनर्जीवित कर चुके हैं।

गांव का तालाब सूखा तो शुरू हुई मुहिम
रामवीर बताते हैं कि पैतृक गांव का तालाब सूखने लगा। यह लोगों के लिए आम बात थी। लेकिन, उनके मन को छू गई। रामवीर का ज्यादातर बचपन इसी तालाब के इर्द-गिर्द बीता था। वह सोचने लगे कि एक दिन ऐसे ही सारे तालाब खत्म हो जाएंगे।

उन्होंने बीड़ा उठा लिया कि तालाब को खत्म नहीं होने देंगे। शुरुआत में रामवीर जब भी वीकेंड पर घर आते तो लोगों से तालाब जीर्णोद्धार की बात करने लगते।

PM मोदी ने रविवार सुबह 'मन की बात' में गाजियाबाद के पॉन्डमैन राजवीर तंवर का जिक्र किया
PM मोदी ने रविवार सुबह 'मन की बात' में गाजियाबाद के पॉन्डमैन राजवीर तंवर का जिक्र किया

बाद में उन्होंने जॉब छोड़ दी और पूरी तरह इस काम में जुट गए। उन्होंने शुरुआत में अपनी उम्र के नौजवानों को समझाया। हर रविवार को 'जल चौपाल' नामक एक बैठक करने लगे। इस बैठक में तालाब के जीर्णोद्धार पर चर्चा की जाती थी। आखिर यह योजना परवान चढ़ने लगी। पूरे गांव ने तालाब का कचरा साफ किया। चारों तरफ पेड़ लगाए। इसके बाद रामवीर तंवर दूसरे तालाबों के जीर्णोद्धार के लिए इसी तरह काम करने लगे।

रामवीर कई शहरों में अनेक तालाबों को नया जीवन दे चुके हैं।
रामवीर कई शहरों में अनेक तालाबों को नया जीवन दे चुके हैं।

कौन हैं रामवीर तंवर?
26 साल के रामवीर तंवर मूल रूप से ग्रेटर नोएडा में डाढा डाबरा गांव के रहने वाले हैं। पिता ने जमीन बेचकर रामवीर का बीटेक में एडमिशन ग्रेटर नोएडा के एक कॉलेज में कराया था। 2014 में वह यहां से पासआउट हुए। रामवीर मैकेनिकल इंजीनियर बनकर लाखों रुपए के पैकेज पर जॉब कर रहे थे।

पॉन्डमैन के नाम से फेमस रामवीर को अब तक कई अवार्ड भी मिल चुके हैं।
पॉन्डमैन के नाम से फेमस रामवीर को अब तक कई अवार्ड भी मिल चुके हैं।

यह भी जानिए

  • नोएडा, गाजियाबाद, दिल्ली, सहारनपुर, चंडीगढ़, पलवल आदि स्थानों पर करीब 25 तालाबों की सफाई करके उन्हें नया जीवन दिया।
  • गाजियाबाद में नगर निगम ने 26 तालाबों की सफाई का काम रामवीर तंवर को दिया, जो 'अर्थ' संस्था चलाते हैं। इसमें आठ की सफाई हो चुकी है।
  • इंटरनेट पर सेल्फी विद पॉन्ड मुहिम शुरू करने पर कई देश के लोगों का सपोर्ट मिला।
  • रामवीर के साथ 50 लोगों की टीम है। इसमें गोताखोर भी हैं जो अंदर जाकर गहरे तालाब की सफाई करते हैं।