पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो लाख का इनामी डकैत बावरिया मारा गया:नोएडा में STF और पुलिस के जॉइंट ऑपरेशन में बावरिया अजय कालिया ढेर, दिल्ली-आगरा हाईवे पर था आतंक

गाजियाबाद/नोएडा24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नोएडा में बुधवार को एसटीएफ और पुलिस के ज्वाइंट ऑपरेशन में दो लाख रुपए का इनामी डकैत बावरिया अजय कालिया मारा गया। अजय पर मथुरा से एक लाख, अलीगढ़ और पलवल से 50-50 हजार और बदायूं जिले से 25 हजार रुपए का इनाम घोषित था। यह मुठभेड़ नोएडा के सेक्टर-20 इलाके में हुई है। पुलिस और एसटीएफ के आला अफसर मौके पर है। अजय का एक साथी फरार हो गया, उसकी तलाश जारी है।

अजय उर्फ कालिया हरियाणा में रेवाड़ी का रहने वाला था। उस पर मथुरा से 1 लाख, अलीगढ़-पलवल से 50-50 हजार का इनाम है। वह इन जिलों के अलावा बदायूं पुलिस का भी वांटेड था। STF के अनुसार बुलंदशहर में 2015 में हाइवे पर हुए गैंगरेप में CBI को भी अजय कालिया की तलाश थी।

कालिया ने यमुना एक्सप्रेस-वे पर लूटे थे तमाम लोग
22 जनवरी 2020 की रात मथुरा के नौहझील थाना क्षेत्र में यमुना एक्सप्रेस-वे पर वाहन सवारों से लूट हुई थी। बदमाशों ने आगरा के सदर बाजार निवासी विक्रम गुप्ता व कानपुर के प्रतीक शुक्ला को लूटा था। एक आईएएस अधिकारी से भी लूट का प्रयास किया था। नोएडा एसटीएफ यूनिट ने 25 जुलाई 2020 को बावरिया गिरोह के दिनेश उर्फ दिन्नू उर्फ कमाल को धर दबोचा था। जबकि अजय कालिया, अनिल व रामू फरार हो गए थे। मथुरा पुलिस ने इसी मामले में अजय कालिया पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। अजय कालिया बावरिया गैंग चलाता था। यह गैंग हाईवे पर निकलने वाले वाहनों को निशाना बनाता है। एक टीम वाहनों में पंक्चर करने के लिए हाईवे पर लोहे की कील लगाती है, जबकि दूसरी टीम लूटपाट करती है।

डकैत अजय कालिया।- फाइल फोटो
डकैत अजय कालिया।- फाइल फोटो

दिल्ली में की थी मनी एक्सचेंजर की हत्या
13 मई 2018 को दिल्ली के शाहदरा इलाके में मनी एक्सचेंजर राकेश जैन की घर के सामने गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। बदमाश लाखों रुपए का कैश लूटकर फरार हो गए थे। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में अजय कालिया को 9 नवंबर 2018 को गिरफ्तार किया था। उस वक्त वह गैंगस्टर ताहिर गैंग का सदस्य था। अजय ने दिल्ली में एक परिवार से लूट के दौरान उसके बच्चे से कुकर्म भी किया था।

मुठभेड़ स्थल पर STF और पुलिस जांच करते हुए।
मुठभेड़ स्थल पर STF और पुलिस जांच करते हुए।

बावरिया अजय कालिया की बड़ी वारदातें

  • 20 जनवरी 2020: को अजय कालिया ने कुंडली-मानेसर एक्सप्रेस-वे पर पलवल इलाके में एक गाड़ी पंक्चर करके रोकी। परिवार से लूटपाट की और 14 साल के बच्चे से कुकर्म किया था।
  • 22 जनवरी 2020: मथुरा के नौहझील थाना क्षेत्र में यमुना एक्सप्रेस-वे पर आगरा के सदर बाजार निवासी विक्रम गुप्ता व कानपुर के प्रतीक शुक्ला को लूटा था। एक आईएएस अधिकारी से भी लूट का प्रयास हुआ था।
  • 13 मई 2018: दिल्ली के शाहदरा इलाके में मनी एक्सचेंजर राकेश जैन से लाखों रुपए लूटने के बाद गोली मारकर हत्या कर दी थी।
  • 29 जुलाई 2016: बुलंदशहर में नोएडा के परिवार से बावरिया गैंग ने लूटपाट के बाद गैंगरेप किया था। इस मामले में भी सीबीआई अजय कालिया को ढूंढ रही थी।

ऐसे वारदात को देता था अंजाम
अजय बेहद शातिर था। वह वारदात करने से पहले गैंग को दो टीमों में बांट देता था। एक टीम एक्सप्रेस वे पर गाड़ियां पंक्चर करने के लिए लोहे की कील (टायर किलर) लगाती थी। टायर किलर का एक सिरा पतली डोरी या तार से बंधा होता था। गाड़ी पंक्चर होते ही बदमाश उसे तत्काल खींच लेते थे। जैसे ही गाड़ी सवार लोग नीचे उतरते थे, झाड़ियों में छिपे बदमाश आ धमकते थे और लूटपाट करके फरार हो जाते थे।

बुलंदशहर हाईवे गैंगरेप में CBI को थी तलाश
बुलंदशहर में हाईवे पर 29 जुलाई 2016 की रात नोएडा के परिवार से बावरियों ने लूटपाट के बाद गैंगरेप किया था। इस मामले में CBI पांच नवंबर 2016 को सलीम, परवेज उर्फ जुबैर और साजिद के खिलाफ चार्जशीट लगा चुकी है। गुरुग्राम में पकड़े गए इसी गैंगरेप के अन्य तीन आरोपियों नरेश उर्फ संदीप, सुनील उर्फ सागर व धर्मवीर पर भी आरोप पत्र दायर हो चुका है। STF अधिकारियों ने बताया कि बुलंदशहर हाईवे गैंगरेप में भी CBI अजय कालिया को तलाश रही थी।

मुठभेड़ में मारा गया अजय लूट, डकैती और दुष्कर्म करने वाले घुमंतू जनजातियों का गैंग चला रहा था।
मुठभेड़ में मारा गया अजय लूट, डकैती और दुष्कर्म करने वाले घुमंतू जनजातियों का गैंग चला रहा था।

घुमंतू जनजातियों का गैंग बना रखा था
नोएडा के पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने बताया कि कमिश्नरेट नोएडा पुलिस और यूपी एसटीफ की नोएडा यूनिट के संयुक्त ऑपरेशन में दो लाख का इनामी अजय कालिया मुठभेड़ में मारा गया। टीम को एसएचओ सेक्टर बीस मुनीश प्रताप लीड कर रहे थे। वह हाइवे पर लूट, डकैती और दुष्कर्म करने वाले घुमंतू जनजातियों का गैंग चला रहा था।

खबरें और भी हैं...