रोडवेज बसों से स्टीकर हटाए जाएं:नीम-हकीमों के पोस्टर हटाने का आदेश, ट्विटर यूजर ने गाजियाबाद आरएम को लिखा था- बाबाजी के निजी कारोबार के लिए UPSRTC की बसों का हो रहा इस्तेमाल

गाजियाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ट्विटर यूजर ने लिखा- 'आरएम गाजियाबाद एक शानदार काम कर रहे हैं जो बाबाजी के निजी कारोबार के लिए यूपीएसआरटीसी की बसों का इस्तेमाल करने दे रहे हैं' - Dainik Bhaskar
ट्विटर यूजर ने लिखा- 'आरएम गाजियाबाद एक शानदार काम कर रहे हैं जो बाबाजी के निजी कारोबार के लिए यूपीएसआरटीसी की बसों का इस्तेमाल करने दे रहे हैं'

यूपी परिवहन की बसों में लगाए जाने वाले नीम हकीमों के पोस्टर और स्टीकर अब नहीं दिखेंगे। उप्र राज्य सड़क परिवहन निगम ने ट्विटर पर आई एक शिकायत का संज्ञान लेते हुए सभी बसों से नीम-हकीमों के विज्ञापन पोस्टर तत्काल हटाने के लिए कहा है। गाजियाबाद रीजन के क्षेत्रीय प्रबंधक ने इस संबंध में शनिवार को सभी एआरएम को लिखित निर्देश जारी कर दिए हैं।

स्टीकर के फोटो खींचकर की थी शिकायत
एक ट्विटर यूजर ने 15 जुलाई की सुबह 10.38 बजे रोडवेज बस के दो फोटो आरएम गाजियाबाद को ट्वीट किए। दोनों फोटो में बस की सीट के पीछे और खिड़की के शीशों पर 'गुरु कबीर शास्त्री' और 'गुरु अमरदासजी' के विज्ञापन स्टीकर चिपके हुए थे। इन स्टीकरों में सभी प्रकार की समस्याओं के समाधान का दावा किया गया था। ट्विटर यूजर ने लिखा- 'आरएम गाजियाबाद एक शानदार काम कर रहे हैं जो बाबाजी के निजी कारोबार के लिए यूपीएसआरटीसी की बसों का इस्तेमाल करने दे रहे हैं'।

आरएम ने कार्रवाई करके रिपोर्ट मांगी
इस ट्वीट का संज्ञान लेते हुए गाजियाबाद के क्षेत्रीय प्रबंधक ने सभी एआरएम को शनिवार को एक पत्र लिखा है। उन्होंने इस शिकायत का हवाला देते हुए सभी निगम और अनुबंधित बसों से इस तरह के अवैध स्टीकरों को हटाने का निर्देश दिया है। आरएम ने एआरएम से इस कार्रवाई को करने के बाद पूरी रिपोर्ट भी मांगी है।

ऐसे विज्ञापनों से लोग होते हैं ठगी के शिकार
दरअसल, बसों में लगे इस तरह के विज्ञापनों से कुछ लोग गुमराह होकर ठगी का शिकार हो जाते हैं। कई बार बसों में इतने अशोभनीय स्टीकर लगे होते हैं कि पढ़ने में भी उन्हें शर्म महसूस होती है। यह स्टीकर इस तरह से लगाए जाते हैं कि अगर उन्हें छुटाया जाए तो बसों का पेंट तक खराब तक हो जाता है।

खबरें और भी हैं...