गाजियाबाद में बेहोश मिले रेलवे ठेकेदार की अस्पताल में मौत:पुलिस मान रही सुसाइड केस, 70 लाख कैश होने या लुटने के पुख्ता सुबूत नहीं

गाजियाबाद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रेलवे ठेकेदार अजय शुक्रवार को बेहोश मिले थे। शनिवार को सर्वोदय हॉस्पिटल में उनकी मौत हो गई। - Dainik Bhaskar
रेलवे ठेकेदार अजय शुक्रवार को बेहोश मिले थे। शनिवार को सर्वोदय हॉस्पिटल में उनकी मौत हो गई।

गाजियाबाद में शुक्रवार शाम बेहोश मिले रेलवे ठेकेदार की शनिवार शाम अस्पताल में मौत हो गई। ठेकेदार ने परिजनों को 70 लाख रुपए लूटने की सूचना दी थी। परिजन जब तलाशते हुए ठेकेदार तक पहुंचे तो उसके हाथ की नस कटी हुई थी और जहर भी खाया हुआ था। लूटपाट की पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस मान रही है कि किसी विवाद में ठेकेदार ने खुदकुशी की है।

मधुबन बापूधाम क्षेत्र के गांव दुहाई निवासी अजय कुमार उर्फ छोटू (30 साल) रेलवे ठेकेदार थे। शुक्रवार सुबह वह गुरुग्राम गए थे। शाम को अजय ने चचेरे भाई को फोन करके 70 लाख रुपए की लूट हो जाने की जानकारी दी। परिजन अजय को तलाशते हुए पहुंचे तो वह मसूरी थाना क्षेत्र में जेल पुलिस चौकी के पास एक खेत में बेहोश मिला। हाथ की नस कटी हुई थी। मुंह से जहर जैसे झाग निकल रहे थे। सर्वोदय अस्पताल में शनिवार शाम अजय की मौत हो गई।

पुलिस जांच में पता चला कि अजय शुक्रवार को गुरुग्राम ही नहीं गए थे। ऐसे में 70 लाख रुपए वहां से लेकर आने की बात प्रथम दृष्ट्या असत्य प्रतीत होती है। जांच में यह बात भी सामने आई कि अजय ने 3 साल पहले गोंडा की युवती से लव मैरिज की थी। पिछले 10 महीने से दोनों में विवाद था और अलग-अलग रह रहे थे।

सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में घटनास्थल के आसपास अजय अकेला घूमता दिखाई दिया है। पुलिस ने बताया कि अजय के दोनों मोबाइल फॉर्मेट मिले हैं। जाहिर है कि चैटिंग, फोटो जैसे कुछ सुबूत मिटाने के लिए ऐसा हुआ होगा। घटनास्थल पर पुलिस को शराब, ग्लास मिले थे। इसलिए पूरी-पूरी आशंका है कि यह सुसाइड केस है।

खबरें और भी हैं...