डॉक्टर बोले- मैं झूठा तो फांसी दे दो:'सर तन से जुदा' धमकी को पुलिस ने बताया झूठा, कहा- लोकप्रियता के लिए अफवाह फैलाई

गाजियाबाद2 महीने पहले

गाजियाबाद में एक डॉक्टर को मिली 'सर तन से जुदा' करने की कथित धमकी को पुलिस ने फर्जी बताया है। पुलिस का कहना है कि डॉ. अरविंद वत्स 'अकेला' ने मीडिया में सुर्खियां बटोरने के लिए इंटरनेट पर बनाए एक यूएस के नंबर की कॉल को धमकी वाली कॉल बताकर यह अफवाह फैलाई थी। अब पुलिस डॉक्टर के खिलाफ गुमराह करने के मामले में केस दर्ज करने जा रही है।

उधर, डॉ. वत्स और हिंदू नेता यति नरसिंहानंद गिरि ने पुलिस के खुलासे पर ही सवाल उठा दिए हैं। डॉ. अकेला ने कहा है कि अगर मैं झूठ बोल रहा हूं, तो मुझे जेल भेजने की बजाय फांसी दे दी जाए। वहीं यति ने कहा कि अगर डॉक्टर की हत्या हुई तो सिर्फ और सिर्फ गाजियाबाद के SP सिटी जिम्मेदार होंगे।

11 सितंबर को डॉक्टर अकेला ने FIR कराई थी कि उन्हें वॉट्सऐप पर 'सर तन से जुदा' करने की धमकी दी गई है।
11 सितंबर को डॉक्टर अकेला ने FIR कराई थी कि उन्हें वॉट्सऐप पर 'सर तन से जुदा' करने की धमकी दी गई है।

2 सितंबर को US के नंबर से आई थी वॉट्सऐप कॉल
सिहानी गेट थाना क्षेत्र में अंबेडकर कॉलोनी निवासी डॉक्टर अरविंद वत्स अकेला लोहियानगर के पास सीताराम हृदयनाथ चिकित्सालय का संचालन करते हैं। 11 सितंबर को उन्होंने एक FIR दर्ज कराई। FIR के अनुसार, उन्हें 2 सितंबर को वॉट्सऐप पर यूएस के नंबर से थ्रेट कॉल आई। कहा- 'तू डॉक्टर अकेला बोल रहा है। तुझे तेरा मोदी, योगी, सिंघा बचा नहीं पाएगा। जैसे कन्हैया कुमार और उमेश को भेजा है, तुझे भी वहीं भेज दूंगा। गुस्ताखे रसूल की एक ही सजा, सर तन से जुदा, सर तन से जुदा।'

डॉक्टर अरविंद के अनुसार, थ्रेट देने वाले ने उन्हें वॉट्सऐप पर तीन फोटो भेजे थे, जिसमें घुटने के नीचे का पैर कटा हुआ था।

एसपी सिटी के पीछे खड़ा व्यक्ति अनीश है। पुलिस का कहना है कि ये व्यक्ति डॉक्टर का पुराना मरीज है। इसने पैर में दिक्कत के बारे में कॉल की थी, धमकी नहीं दी।
एसपी सिटी के पीछे खड़ा व्यक्ति अनीश है। पुलिस का कहना है कि ये व्यक्ति डॉक्टर का पुराना मरीज है। इसने पैर में दिक्कत के बारे में कॉल की थी, धमकी नहीं दी।

SP बोले- थ्रेट कॉल नहीं, एक वॉटसऐप काल मरीज का था
SP सिटी निपुण अग्रवाल ने रविवार को इस केस का खुलासा करते हुए बताया कि डॉक्टर को कोई धमकी नहीं मिली। उन्होंने सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए धमकी की झूठी खबर फैलाई। बकौल SP सिटी, डॉक्टर के पास जिस वर्चुअल (इंटरनेट) नंबर से कॉल आई, वो नंबर उन्हीं के मरीज अनीश का है। अनीश ने पैर सूजने के बारे में 2 सितंबर को डॉक्टर अकेला से वॉट्सऐप पर बात की थी और फिर पैर के फोटो भेजे थे।

SP सिटी का कहना है कि डॉक्टर ने जिन पैरों को कटा हुआ बताया, वो मरीज के सूजे हुए पैर थे। कुल मिलाकर पुलिस ने इस मामले में अनीश की कोई गलती नहीं मानी है। पूरे मामले में डॉक्टर अकेला को जिम्मेदार ठहराया है, जिन्होंने धमकी की गलत सूचना प्रचारित की।

डॉक्टर अकेला बोले- अगर मेरा जानकार था तो भी मेरी हत्या करना चाहता था
रविवार रात डॉक्टर अरविंद वत्स अकेला ने वीडियो बयान जारी करते हुए कहा, ''मां भगवती, मां पार्वती, भोलेशंकर की सौगंध खाकर मैं एकदम सच बोल रहा हूं। आज मुझ पर एसपी सिटी ने जो आरोप लगाए हैं, वो पूरी तरह निराधार हैं। मैं ये साबित करना चाहता हूं कि एसपी की बात असत्य है। पुलिस ने जिस व्यक्ति को उठाया है, उससे मेरे कोई ताल्लुकात नहीं हैं। ये व्यक्ति सिर्फ पांच मिनट के लिए मेरे दोस्त के यहां मिला जरूर था।

इसके अलावा मैं इसको नहीं जानता हूं। इसके फोन से जो कन्वर्सेशन हुई है, मैं पुलिस को मुहैया करा चुका हूं। अगर ये मेरा जानकार भी है तो ये मेरी हत्या करना चाहता था। ये मेरा जानकार नहीं, मेरा दुश्मन हो सकता है। अगर मेरी गलती कहीं से निकले तो ये पुलिसवाले हमें जेल न भेजें, फांसी दे दें। मुझे मंजूर है, लेकिन मुझ पर झूठा आरोप न मढ़ें।''

नरसिंहानंद गिरि बोले- डॉक्टर की हत्या हुई तो SP जिम्मेदार
डासना देवी मंदिर के पीठाधीश्वर एवं जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि ने भी डॉक्टर अकेला का समर्थन किया है। उन्होंने कहा, ''ये बात बड़ी नहीं है कि जिसने धमकी दी है, वो डॉक्टर का पूर्व परिचित है। परिचित लोग कई बार हत्या तक कर देते हैं। बीजेपी नेता डॉक्टर बीएस तोमर का कत्ल भी पुलिस की लापरवाही से हुआ था। इसलिए मैं एसपी सिटी से अनुरोध करता हूं कि वो मामले की गहनता से जांच करें। अगर डॉक्टर अकेला की हत्या हुई तो एसपी सिटी जिम्मेदार होंगे।''

अब पढ़िए कि डॉक्टर को धमकी का यह पूरा मामला क्या है
हिंदू संगठनों के समर्थन पर डॉक्टर को US से धमकी:कहा- सर तन से जुदा कर देंगे, जहां कन्हैया-उमेश गए, वहीं भेज देंगे