जिन्हें कोरोना पॉजिटिव बताया, वे निगेटिव निकले:निजी लैब ने गलती से पॉजिटिव बताकर पोर्टल पर अपलोड कर दी सूचना, स्वास्थ्य विभाग ने नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा

गाजियाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गाजियाबाद में निजी लैब ने पांच लोगों को गलती से कोरोना पॉजिटिव बताते हुए उनकी रिपोर्ट कोविड पोर्टल पर अपलोड कर दी। - Dainik Bhaskar
गाजियाबाद में निजी लैब ने पांच लोगों को गलती से कोरोना पॉजिटिव बताते हुए उनकी रिपोर्ट कोविड पोर्टल पर अपलोड कर दी।

उप्र के जिला गाजियाबाद में रविवार को एक परिवार के जिन पांच लोगों को कोरोना संक्रमित बताया गया, उनकी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। लैब कर्मचारी की गलती से शासन के पोर्टल पर निगेटिव को पॉजिटिव बताते हुए सूची अपलोड कर दी गई। इसके बाद लखनऊ तक हड़कंप मच गया। पूरे मामले में शासन ने लैब से स्पष्टीकरण मांगा है।
स्वास्थ्य विभाग के रिपोर्ट मांगने पर खुली पोल
गाजियाबाद में कविनगर क्षेत्र निवासी एक परिवार को बुखार हुआ। उन्होंने निजी लैब में कोरोना जांच कराई। रविवार को पांच सदस्यों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव बताई गई। पांच के संक्रमित होने की सूची लैब की ओर से शासन के कोविड पोर्टल पर अपलोड कर दी गई। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग चौकन्ना हो गया। विभाग ने निजी लैब से पांचों संक्रमितों की रिपोर्ट और पूरी हिस्ट्री मांग ली। यहां पता चला कि पांचों की रिपोर्ट निगेटिव थी, लेकिन गलती से पॉजिटिव बताकर सूचना पोर्टल पर डाल दी गई।
पीड़ित परिवार ने ली राहत भरी सांस
स्वास्थ्य विभाग के जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. आरके गुप्ता ने बताया कि जांच करने वाली वृंदा लैब की बड़ी लापरवाही है। पांच लोग जो कोरोना निगेटिव आए हैं, उन्हें पॉजिटिव बता दिया गया। इससे पूरे पीड़ित परिवार को दिक्कत आई। साथ ही स्वास्थ्य विभाग को भी परेशानियां हुईं। इस लापरवाही पर लैब को नोटिस जारी करके स्पष्टीकरण मांगा गया है। उधर, पीड़ित परिवार ने राहत भरी सांस ली है।
अब सिर्फ दो एक्टिव केस
सूची संसोधित होने के बाद गाजियाबाद जिले में अब कोरोना के सक्रिय केस महज दो रह गए हैं। अब तक यहां 55 हजार 641 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं, इनमें 55 हजार 177 लोग ठीक हो चुके हैं। 461 मरीजों की मौत हो चुकी है।

खबरें और भी हैं...