SKM ने कहा- महापंचायत और संसद कूच कार्यक्रम होंगे:लखनऊ महापंचायत में उठेगा मंत्री टेनी का मुद्दा, आंदोलन की पहली बरसी पर बॉर्डरों पर सभाएं

गाजियाबाद16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रधानमंत्री के ऐलान के बाद गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने सुरक्षा में एक साल से तैनात जवानों को भी मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया। - Dainik Bhaskar
प्रधानमंत्री के ऐलान के बाद गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने सुरक्षा में एक साल से तैनात जवानों को भी मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया।

संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने शनिवार को स्पष्ट तौर पर कहा है कि उनके किसी भी कार्यक्रम में कोई बदलाव नहीं होगा। 22 नवंबर को लखनऊ महापंचायत, 26 नवंबर को आंदोलन की बरसी और 29 नवंबर को संसद मार्च का कार्यक्रम जारी रहेगा। लखनऊ महापंचायत में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी की गिरफ्तारी-बर्खास्तगी न होने का मुद्दा प्रमुख रूप से उठाया जाएगा।
29 नवंबर से संसद को कूच करेंगे 500 किसान
SKM ने शनिवार शाम जारी बयान में कहा कि किसान आंदोलन की सभी मांग पूरी हो जाने तक यह आंदोलन जारी रहेगा। सभी घोषित कार्यक्रमों की तैयारी चल रही है। 22 नवंबर की लखनऊ महापंचायत ऐतिहासिक होगी। एसकेएम ने कहा कि 26 नवंबर 2021 को इस धरने के एक साल पूरे हो जाएंगे। आंदोलन की पहली बरसी पर दिल्ली के बॉर्डरों पर विरोध प्रदर्शन होंगे। राज्य की राजधानियों में ट्रैक्टर और बैलगाड़ी परेड निकाली जाएगी। 28 नवंबर को 100 से ज्यादा संगठनों के साथ संयुक्त शेतकारी कामगार मोर्चा मुंबई के आजाद मैदान में एक महापंचायत करेगा। 29 नवंबर से दिल्ली के बॉर्डरों से रोजाना 500 किसान ट्रैक्टरों में बैठकर संसद भवन तक जाएंगे।
शहीदों को श्रद्धांजलि दे, स्मारक बनाए सरकार
एसकेएम ने कहा कि इस आंदोलन में 670 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों ने अपने प्राणों की आहुति दी है। संसद सत्र में इन शहीदों को भी श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए और उनके नाम पर एक स्मारक बनाना चाहिए। विभिन्न राज्यों में किसानों पर जो मुकदमे दर्ज हुए हैं, वे वापस लिए जाने चाहिए। इसके अलावा एमएसपी पर गारंटी मिलनी चाहिए।