कांग्रेस प्रवक्ता ने दर्ज कराए बयान:गाजियाबाद में अब्दुल समद की पिटाई में भ्रामक ट्वीट करने का है आरोप, ट्विटर और दि वायर को दोबारा भेजा जाएगा नोटिस

गाजियाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
16 जून को गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर समेत 9 के खिलाफ केस दर्ज किया था। इसमें ट्विटर इंडिया, पत्रकार मोहम्मद जुबैर और राणा अय्यूब के अलावा अलावा कांग्रेस नेता सलमान निजामी, शमा मोहम्मद और मसकूर उस्मानी, लेखक सबा नकवी को आरोपी बनाया गया था। - Dainik Bhaskar
16 जून को गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर समेत 9 के खिलाफ केस दर्ज किया था। इसमें ट्विटर इंडिया, पत्रकार मोहम्मद जुबैर और राणा अय्यूब के अलावा अलावा कांग्रेस नेता सलमान निजामी, शमा मोहम्मद और मसकूर उस्मानी, लेखक सबा नकवी को आरोपी बनाया गया था।

गाजियाबाद में बुजुर्ग अब्दुल समद की पिटाई के बाद भ्रामक ट्वीट के आरोप में मुकदमा झेल रही कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता शमा मोहम्मद ने शुक्रवार को थाना लोनी बॉर्डर पहुंचकर अपने बयान दर्ज कराए। वह करीब डेढ़ घंटे तक अपने अधिवक्ता के साथ थाना परिसर में मौजूद रहीं। मीडिया ने जब उनका पक्ष जानने का प्रयास किया तो शमा मोहम्मद में स्पष्ट कहा कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं कहना।

पिटाई के साथ बुजुर्ग की काटी थी दाढ़ी
बुलंदशहर जिले के अनूपशहर निवासी 72 वर्षीय बुजुर्ग अब्दुल समद 5 जून को किसी काम से गाजियाबाद गए थे। लोनी बॉर्डर थाना क्षेत्र के एक मकान में उनकी बंधक बनाकर पिटाई की गई और कैंची से दाढ़ी काट दी गई। इस मामले में 11 आरोपी जेल जा चुके हैं। दो आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई हो चुकी है। जबकि इस केस में भ्रामक ट्वीट करने पर सपा नेता उम्मेद पहलवान पर NSA लग चुका है।

ट्विटर समेत 9 लोगों पर दर्ज है FIR
16 जून को गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर समेत 9 के खिलाफ केस दर्ज किया था। इसमें ट्विटर इंडिया, पत्रकार मोहम्मद जुबैर और राणा अय्यूब के अलावा अलावा कांग्रेस नेता सलमान निजामी, शमा मोहम्मद और मसकूर उस्मानी, लेखक सबा नकवी को आरोपी बनाया गया था। इन सभी पर अब्दुल समद पिटाई केस में भ्रामक ट्वीट करने और गाजियाबाद पुलिस के स्थिति स्पष्ट करने के बावजूद ट्विटर द्वारा भ्रामक ट्वीट नहीं हटाने का आरोप है। इन पर आईपीसी की धारा 153 (दंगा भड़काना), 153A (विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना), 295A (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाना), 505 (शरारत), 120B (आपराधिक साजिश) और 34 (सामान्य इरादा) जैसी धाराओं में केस दर्ज किया है।

अब तक 6 ने दर्ज कराए बयान
गाजियाबाद पुलिस ने बताया कि भ्रामक ट्वीट करने के मामले में अब तक 6 नामजद आरोपी अपना बयान दर्ज करा चुके हैं। इन बयानों का परीक्षण किया जा रहा है। टि्वटर इंडिया और द वायर ने अभी तक अपना बयान दर्ज नहीं कराया है। दोनों को फिर से नोटिस भेजे जाएंगे

खबरें और भी हैं...