केंद्र के 9 प्रशिक्षु अफसरों ने सीखा आपदा प्रबंधन:NDRF गाजियाबाद बटालियन में लगा प्रशिक्षण शिविर, रेस्क्यू की चुनौतियों पर हुआ मंथन

गाजियाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एनडीआरएफ बटालियन गाजियाबाद में केंद्र से आए नौ प्रशिक्षु अफसरों को एक दिवसीय आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण दिया गया। - Dainik Bhaskar
एनडीआरएफ बटालियन गाजियाबाद में केंद्र से आए नौ प्रशिक्षु अफसरों को एक दिवसीय आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण दिया गया।

गाज़ियाबाद स्थित एनडीआरएफ 8वीं बटालियन कैंप परिसर में राष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन संस्थान (NIFM) के 9 प्रशिक्षु अधिकारियों का दल मंगलवार को पहुंचा। गृह मंत्रालय से प्रिंसिपल चीफ कंट्रोलर आफ अकाउंट्स भारती दास, एनडीआरएफ फाइनेंशियल एडवाइजर वैभव घालमे और असिस्टेंट कंट्रोलर ऑफ अकाउंटस अनिल गोयल के नेतृत्व में इन प्रशिक्षु अफसरों को एक दिवसीय आपदा प्रशिक्षण दिया गया।

प्रशिक्षु अफसरों को मोटी दीवार को काटना भी सिखाया गया।
प्रशिक्षु अफसरों को मोटी दीवार को काटना भी सिखाया गया।

मैकेनिज्म, समन्वय पर दी जानकारी
बटालियन कमांडेंट प्रवीण कुमार तिवारी ने भारतीय सिविल लेखा सर्विसेज के नवप्रशिक्षुओं को आपदा प्रबंधन क्षेत्र में विभिन्न व्यवस्थाओं की जानकारी दी। उन्होंने बताया की एनडीआरएफ की कार्य पद्धति की जानकारी और प्रशिक्षण, भविष्य में वित्तीय परिप्रेक्ष्य से आपदा प्रबंधन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा।
डिप्टी कमांडेंट आदित्य प्रताप सिंह ने डिजास्टर मैनेजमेंट पर भारत में आपदा प्रबंधन सिस्टम व सेटअप रोल एवं इंसीडेंट रिस्पांस सिस्टम के मैकेनिज्म, समन्वय, चुनौतियों व अपेक्षाओं की जानकारी दी। इस दल को एनडीआरएफ के विशेषज्ञों ने बाढ़, भूकंप, भूस्खलन एंव सीबीआरएन आदि घटनाओं में रेस्क्यू की जानकारी दी। विभिन्न ऑपरेशनों पर आधारित डेमोंसट्रेशन एवं प्रशिक्षण दिया। डिप्टी कमांडेंट दीपक तलवार, कुलीश आनंद, असिस्टेंट कमांडेंट प्रवीण कुमार सिंह, पंकज मिश्रा, सूबेदार मेजर बलवान सिंह, निरीक्षक शत्रुघ्न सिंह उपस्थित रहे।

प्रशिक्षु अफसरों को बताया कि आपदा के वक्त कैसे रेस्क्यू चलाएं।
प्रशिक्षु अफसरों को बताया कि आपदा के वक्त कैसे रेस्क्यू चलाएं।

एसडीआरएफ सीबीआरएन बैच का प्रशिक्षण शुरू

एनडीआरएफ में उत्तर प्रदेश एसडीआरएफ के सीबीआरएन बैच का प्रशिक्षण प्रारंभ हुआ। उत्तर प्रदेश एसडीआरएफ के इस बैच में 30 उत्तर प्रदेश पुलिस के कर्मी 4 सप्ताह का केमिकल बायोलॉजिकल रेडियोलॉजिकल और नाभिकीय आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। कोर्स का शुभारंभ बटालियन कमान्डेंट पीके तिवारी ने किया।