गाजीपुर में तीन साल से लापता बच्ची बरामद:न जाने कहां-कहां ढूंढ रहे थे मां-बाप और पुलिस, घर से दो किलोमीटर की दूरी पर मिली बेटी

गाजीपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गाजीपुर में तीन साल से लापता ब� - Dainik Bhaskar
गाजीपुर में तीन साल से लापता ब�

गाजीपुर जिले में तीन साल पहले लापता एक बच्ची बीती रात को बरामद हुई। मामला गाजीपुर कोतवाली अंतर्गत चंद्रा कॉलोनी पीर नगर का है, जहां गुनगुन नाम की एक बच्ची लोगों को मिली है। गुनगुन बड़ीबाग मोहल्ले के मनोज और अर्चना की बेटी है। सन 2018 में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट कोतवाली में लिखवाई गई थी। पुलिस और घरवाले लगातार गुनगुन को तलाश रहे थे, जबकि वह अपने घर से मात्र दो किलोमीटर की दूरी पर प्रीति नाम की महिला के घर पर थी। इसकी सूचना न स्थानीय पुलिस को थी और न ही परिजनों को।

बच्ची के बताए पते पर पुलिस ने दी दबिश

तीन साल बाद इस रहस्यमयी बरामदगी के बाद परिजनों और पड़ोसियों ने गुनगुन के बताए पते पर पुलिस के साथ दबिश दी तो वहां प्रीति नाम की एक महिला मिली। उसके घर में दो दर्जन के आसपास देसी कुत्ते थे और एक छोटी बच्ची भी पुलिस को बरामद हुई है। प्रीति का कहना था कि इस बच्ची को आजमगढ़ से उसके किसी रिश्तेदार ने उसको सौंपा था, जो वहां लावारिस हालत में उन्हें मिली थी।

तीन साल से लापता थी बच्ची

गुनगुन की मां अर्चना ने बताया कि उनकी बिटिया तीन साल से खो गई थी, जिसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट उन्होंने कोतवाली में दी थी। पुलिस और वह लोग काफी समय से इसे तलाश भी रहे थे। बुधवार की रात में गुनगुन सड़क पर लावारिस हालत में मिली तो उसे पहचान कर मोहल्ले के लोग घर लाए और उसके बाद निशानदेही पर हम लोग जहां पर वह थी, उसके घर पहुंचे। यहां पर कोई भी कुछ साफ-साफ नहीं बता पा रहा है।

पुलिस ने दो बच्चियों को किया बरामद

हालांकि पुलिस ने उस घर में रेड की और प्रीति नाम की महिला से पूछताछ की। महिला ने बताया कि गुनगुन के अलावा भी एक और बच्ची उसको मिली थी। वह उसे भी अपने यहां पाल पोस रही थी। वहीं एसपी डॉ. ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि रात में पुलिस ने दो नाबालिग बच्चियों को बरामद किया है। महिला से पूछताछ चल रही है।

खबरें और भी हैं...