सेवराई में एसडीएम का स्थलिय निरीक्षण:ताजिया ले जाने को लेकर दो समुदायों में हुआ था विवाद, रास्ते में बने अवैध सीढ़ी को तोड़कर करवाया अतिक्रमण मुक्त

सेवराई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटनास्थल पर पहुंचे एसडीएम व स्थानीय पुलिस - Dainik Bhaskar
घटनास्थल पर पहुंचे एसडीएम व स्थानीय पुलिस

अवैध अतिक्रमण के खिलाफ प्रशासनिक तौर पर हो रही कार्रवाई से पूरे प्रदेश में चर्चाओं का बाजार गर्म है। जहां प्रशासन अपराधियों के द्वारा बनाए गए अवैध संपत्ति पर बुलडोजर चलाकर उसे कुर्क कर रहा है। तो वही ग्राम पंचायतों में किए गए अवैध अतिक्रमण को भी जिलाधिकारी के निर्देश पर कार्रवाई करते हुए मुक्त कराया जा रहा है।

सेवराई तहसील क्षेत्र में ताजिया को लेकर प्रशासन चुस्त-दुरुस्त हो गया है। जिसके लिए विभिन्न गांव में उठाए जा रहे ताजियों के सुरक्षा व्यवस्था के बारे में प्रशासनिक तौर पर बंदोबस्त किए जा रहे हैं। जिसके गांव में ताजिया ले जाने वाले रास्ते में अवैध रूप से बनाए गए सीढ़ी को एसडीएम के निर्देश के बाद पुलिस की मौजूदगी में तोड़वाया गया, जिससे संबंधित लोगों में हड़कंप मचा रहा।

एसडीएम के आदेश के बाद संबधित लोगों ने तोड़ी सीढ़ी
एसडीएम के आदेश के बाद संबधित लोगों ने तोड़ी सीढ़ी

ताजिया निकालने वाले रास्ते पर हुआ अवैध सीढ़ी का निर्माण
एसडीएम राजेश प्रसाद चौरसिया को शिकायत मिली थी कि सायर गांव में अनिल चौधरी और बृजेश गुप्ता के द्वारा ताजिया ले जाने वाले रास्ते में अवैध रूप से सीढ़ी का निर्माण किया गया है। जिसकी सूचना पर पहुंचे एसडीएम ने मौका मुआयना करते हुए आरोप को सही पाया तब संबंधित दोषियों को जल्द से जल्द अपनी सीढ़ी रास्ते से हटाने का निर्देश दिया। जिस पर संबंधित लोगों के द्वारा ग्राम प्रधान प्रतिनिधि संतोष यादव एवं प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में खुद ही सीढ़ी को तोड़कर रास्ते को खाली किया गया।

अवैध सीढ़ी को तोड़कर रास्ते को कराया गया खाली
अवैध सीढ़ी को तोड़कर रास्ते को कराया गया खाली

एसडीएम के मुआयना करने पर संबंधित लोगों को पाया गया दोषी
एसडीएम राजेश प्रसाद चौरसिया ने बताया कि मोहर्रम पर्व को मनाने के लिए तहसील क्षेत्र के विभिन्न ग्राम में मुस्लिम बंधुओं के द्वारा ताजिया रखा जाता है। शायर गांव में ताजिया ले जाने वाले रास्ते में कुछ लोगों के द्वारा अवैध रूप से सीढ़ी का निर्माण किया गया था। जिसकी शिकायत पर मौका मुआयना करते हुए संबंधित को दोषी पाया गया। उन्हें अपने दरवाजे के आगे बनाई गई अवैध सीढ़ी को हटाने का निर्देश देते हुए रास्ते को खाली कराया गया।

खबरें और भी हैं...