सेवराई में लेखपाल और वकील में जमकर गाली गलौज:खसरा में विलंब को लेकर हुआ था विवाद, एसडीएम ने दोनों पक्षों को बुलाकर मामले को कराया शांत

सेवराई2 महीने पहले

सेवराई तहसील सभागार कक्ष में वकील व लेखपाल के बीच गाली गलौज के बाद विवाद हो गया। लेखपाल संघ व बार एसोसिएशन दोनों संगठन आमने सामने हो गए। जिससे कुछ समय के लिए तहसील परिसर में अफरा- तफरी मच गई। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक सिंह एवं तहसील संघ के पदाधिकारियों ने एसडीएम राजेश प्रसाद चौरसिया के हस्तक्षेप से मामला को शांत कराया।

सेवराई तहसील सभागार कक्ष में लेखपाल मीटिंग कर रहे थे। तभी एक वरिष्ठ वकील सभागार कक्ष में पहुंचे और लेखपाल से दस दिन से खसरा नहीं देने का आरोप लगाते हुए बरस पड़े। देखते ही देखते मामला गाली- गलौज पर पहुंच गया, जिससे हाथापाई की नौबत आ गई। स्थिति को भांपते हुए मौके पर मौजूद सहयोगी लेखपाल व वकीलों ने किसी तरह बीच-बचाव कर दोनों को अलग किया।

वरिष्ठ वकील राजेश उपाध्याय
वरिष्ठ वकील राजेश उपाध्याय

वरिष्ठ वकील और गहमर लेखपाल के बीच हुआ गाली-गलौज
वरिष्ठ अधिवक्ता राजेश उपाध्याय ने अपने एक मुवक्किल का गहमर लेखपाल आशुतोष से खसरा मांगने पर आनाकानी का आरोप लगाया। वही लेखपाल आशुतोष ने अधिवक्ता राजेश उपाध्याय द्वारा फोन पर अमर्यादित शब्दों का प्रयोग करने का आरोप लगाया। सभागार कक्ष में मीटिंग के दौरान ही दोनों के बीच हुई गाली-गलौज की वजह से मामले ने तूल पकड़ लिया।

सभागार कक्ष में मौजूद लेखपालों द्वारा बीच-बचाव के कारण मामला हाथापाई तक पहुंचने से बच गया है। इसके बाद लेखपाल संघ व बार एसोसिएशन सेवराई के अधिवक्ता लामबंद हो कर आमने सामने हो गए।

एसडीएम ऑफिस में दोनों पक्ष अपनी बात रखते हुए।
एसडीएम ऑफिस में दोनों पक्ष अपनी बात रखते हुए।

एसडीएम ने कराया मामला शांत
सूचना के बाद मौके पर तत्काल एसडीएम सेवराई राजेश प्रसाद भी पहुंच गए। उनके हस्तक्षेप के बाद दोनों लोगों को आपस मे समझा बुझाकर मामला किसी तरह शांत कराया गया। दोनों पक्ष अपने अध्यक्ष के साथ लामबंद होकर उप जिलाधिकारी कार्यालय में पहुंचकर एक- दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाते हुए हंगामा करने लगे।

इस मामले में उप जिलाधिकारी राजेश कुमार चौरसिया ने बताया कि अधिवक्ता व लेखपाल मे खसरा में विलंब होने को लेकर विवाद हो गया था। दोनों पक्षों को समझा- बुझाकर समझौता करा दिया गया है।

खबरें और भी हैं...