गंगा पुल से गायब शहीद के नाम का बोर्ड:डेढ़ दशक बीते, नहीं दिया किसी ने ध्यान, परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद को भुलाया

जमानियां, गाजीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जमानियां के गंगा नदी पर बने पुल के दोनों तरफ से गायब परमवीर चक्र विजेता के नाम का बोर्ड। - Dainik Bhaskar
जमानियां के गंगा नदी पर बने पुल के दोनों तरफ से गायब परमवीर चक्र विजेता के नाम का बोर्ड।

मातृभूमि के लिए अपना बलिदान देने वाले शहीदों को सम्मान देने में घोर उदासीनता बरती जा रही है। जिस कारण ग्रामीणों में रोष है। जमानियां के गंगा नदी पुल के दोनों तरफ 1965 भारत--पाक युद्ध मे शहीद हुए परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के नाम का बोर्ड लगा था, जो डेढ दशक से गायब है। लेकिन इस पर किसी ने ध्यान नहीं दिया।

पुल से रोज गुजरते अधिकारी और नेता, नहीं पड़ी नजर

क्षेत्र के मुन्ना पांडेय, कृष्णा गुप्ता, मुरली कुश्वाहा, सोबिन सिंह, हीरा पटेल और वीरेन्द्र यादव ने बताया कि शहीद के नाम से जिस तरह एनएचएआई उदासीनता बरत रहा है। वह बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। इतने दिनों बाद भी विभाग की तरफ से शहीद के नाम का नया बोर्ड न लगाया जाना शहीद के प्रति विभाग की उपेक्षा को दर्शाता है। कहा कि हैरानी तो यह है कि इस पुल से रोजाना विभागीय अधिकारी से लेकर जनप्रतिनिधि तक गुजरते हैं, लेकिन आज तक बोर्ड के गायब होने पर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया।

शहीद वीर अब्दुल हमीद की प्रतिमा।
शहीद वीर अब्दुल हमीद की प्रतिमा।

दुश्मन सेना के सात टैंकों को किया था तहस-नहस

धामुपुर गांव के सामान्य परिवार में एक जुलाई 1933 को जन्मे वीर अब्दुल हमीद की वीरता की गाथा शब्दों में नहीं पिरोई जा सकती। ग्रामीणों ने बताया कि अब्दुल हमीद ने 1965 के युद्ध में खेमकरन में दुश्मन के सात टैंकों को तहस-नहस कर दिया था। पाक के छिपकर किए गये हमले में‌ अब्दुल हमीद मातृभूमि की रक्षा करते हुए शहीद हो गये।

शहीद के नाम का बोर्ड गायब होने पर ग्रामीणों में नाराजगी।
शहीद के नाम का बोर्ड गायब होने पर ग्रामीणों में नाराजगी।

1984 में शहीद के नाम पर पुल का नामकरण

गंगा नदी पर 1984 में बनकर तैयार हुआ इस पुल का नामकरण परमवीर चक्र विजेता शहीद वीर अब्दुल हमीद के नाम पर किया गया। पुल के दोनों तरफ शहीद के नाम का बोर्ड लगाया गया था, जो डेढ़ दशक से गायब है। एनएचएआई वाराणसी के परियोजना निदेशक आरएस यादव ने बताया कि विभाग शहीद का सम्मान करता है। उनके नाम का बहुत जल्द नया बोर्ड लगा दिया जायेगा।

खबरें और भी हैं...