जमानियां में अधिवक्ताओं ने किया न्यायिक कार्य का बहिष्कार:हड़ताल से वादकारी परेशान, न्यायालय के नियमित संचालन को लेकर तहसीलदार लालजी विश्वकर्मा को सौंपा पत्रक

जमानियां8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जमानियां तहसील के अधिवक्ताओं द्वारा बार बार न्यायिक कार्य का बहिष्कार, हड़ताल से परेशान हो चुके वादकारियों ने आज शनिवार को अधिवक्ताओं द्वारा बार-बार हड़ताल कर न्यायिक कार्य के बहिष्कार का विरोध जताते हुए उपजिलाधिकारी के नाम संबोधित पत्रक तहसीलदार को सौंप कर नियमित न्यायालय चलाने की मांग की।

ताकि वादकारियों को न्याय मिल सके,वादकारी अश्वनी कुमार राय के नेतृत्व में दर्जनों लोग तहसील मुख्यालय पहुंचे और तहसील के अधिवक्ताओं द्वारा की जा रही न्यायिक कार्य के बहिष्कार, हड़ताल आदि को लेकर नाराजगी व्यक्त हुए विरोध जताया।

वादकारियों का कहना है कि अधिवक्ताओं द्वारा बार बार न्यायिक कार्य का बहिष्कार, हड़ताल, प्रस्ताव आदि से वादकारियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है और न्याय मिलने में देरी हो रही है। वादकारी न्यायालय के चक्कर काट रहे है तो वही अधिवक्ता अपनी फीस लेकर अगली तारीख ले‌ ले रहे है। अश्वनी कुमार ने कहा कि हड़ताल करने से न्यायिक प्रक्रिया बाधित हो रही है ।

और वादकारी परेशान हो रही है। कई मुकदमे लंबित है अधिकारी चाह कर भी निस्तारण नहीं कर पा रहे है। जिसके बाद तहसीलदार लालजी विश्वकर्मा को ज्ञापन सौंपा गया। जिस पर तहसीलदार ने अधिवक्ताओं से वार्ता कर हड़ताल समाप्त कराया जाने का आश्वासन दिया।

वादकारियो ने कहा कि सुदुर जगहों से आने वाले लोग जब न्यायालय / कचहरी पहुंचते है तो घंटो इंतजार के बाद पता चलता है कि आज अधिवक्ता अपनी मागों या अन्य किसी कारणों का हवाला देकर हडताल या तारी तारीख ले लेते है। जिसका खामियाजा वादकारियो को न्याय प्रक्रिया मे‌ं बिलंम्ब होने से मामलें का निस्तारण नहीं हो पाता,और न्याय समय से नहीं मिल पाता।

पत्रक देने वालों में दिवाकर यादव, सन्तोष कुमार, कमला, विक्की, रामा तिवारी, विनोद राय, अच्युतानंद राय, धरमु, रविन्द्र राय, वेद प्रकाश राय आदि सैकड़ों वादकारी शामिल रहे। इस बाबत तहसीलदार लालजी विश्वकर्मा ने बताया कि अधिवक्ताओं से मिलकर हड़ताल समाप्त करने पर वार्ता की जाएगी।

खबरें और भी हैं...