खतरे के निशान से ऊपर पहुंची घाघरा:पानी छोड़े जाने से खतरे के निशान से 50 मीटर ऊपर पहुंची घाघरा, पुलिस प्रशासन अलर्ट

करनैलगंज11 दिन पहले

जिले में पिछले 4 दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश के चलते एक तरफ जहां जगह-जगह पर जलभराव की समस्या उत्पन्न होती जा रही है। वहीं दूसरी ओर विभिन्न बैराज से छोड़े गए पानी के कारण घाघरा नदी का जलस्तर भी तेजी से बढ़ता जा रहा है। जिसके कारण घाघरा नदी खतरे के निशान से 50 मीटर ऊपर हो चुकी है।

घाघरा नदी के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए पुलिस और प्रशासन अलर्ट मोड पर आ चुका है, वहीं बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की सुरक्षा को देखते हुए प्रशासन ने भी आवश्यक निर्देश जारी कर दिए हैं । जिससे बाढ़ की समस्या उत्पन्न होने पर लोगों को तुरंत आवश्यक सहायता मुहैया कराई जा सके।

अपर जिलाधिकारी ने जारी किए निर्देश
घाघरा नदी के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए प्रशासन ने सभी विभागों से सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए आवश्यक निर्देश जारी कर दिए गए। जिसको लेकर आज गोंडा के अपर जिलाधिकारी सुरेश कुमार सोनी ने जानकारी देते हुए बताया कि गिरजा बैराज से 261487 शारदा बैराज से 168408 तथा सरयू बैराज से 29131 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है, जिसके कारण टोटल 459026 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज हो चुका है। जिसके कारण घाघरा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 50 मीटर ऊपर हुआ है। जिसको देखते हुए आज अपर जिलाधिकारी ने सिंचाई विभाग नहर विभाग राजस्व विभाग तथा पुलिसकर्मियों से आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

एसडीएम ने शुरू किया निरीक्षण
घाघरा नदी के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए आज कर्नलगंज के उप जिलाधिकारी हीरालाल ने बाढ़ संभावित ग्रामीण क्षेत्रों में कराए गए राहत कार्यों के बारे में पूछताछ करते हुए आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी। जिससे बाढ़ की समस्या ना उत्पन्न होने पाए,/तथा अगर किसी भी तरह की समस्या होती है तो उसके लिए तुरंत बचाव कार्य शुरू कराया जा सके। जिसको लेकर उप जिलाधिकारी ने बाढ़ संभावित क्षेत्रों पर बनाई गई बाढ़ चौकियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...