सड़क सुरक्षा रैली को झंडी दिखाकर डीएम ने किया रवाना:यातायात के नियमों का पालन करने की अपील की, पुलिस अधीक्षक बोले-गाड़ी चलाते समय हेलमेट-सीट बेल्ट का जरूर इस्तेमाल करें

गोंडा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोंडा जनपद के कंपोजिट विद्यालय मोकलपुर में सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान की रैली को हरी झंडी दिखाकर जिलाधिकारी डॉक्टर उज्ज्वल कुमार एवं मुख्य विकास अधिकारी गौरव कुमार ने रवाना किया। इस दौरान विद्यालय के छात्रों एवं अभिभावकों को डीएम ने सड़क सुरक्षा को लेकर जागरूक किया।

बच्चों को उत्साहवर्धक भी किए। वहीं मुख्य विकास अधिकारी गौरव कुमार ने भी अपने संबोधन में वहां पर उपस्थित छात्रों, अभिभावकों, अध्यापकों एवं अन्य लोगों को सड़क सुरक्षा के संबंध में सुझाव दिए। इसके साथ ही गुरु नानक चौराहा (इनकैन चौराहा) से सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान में बाइक रैली को हरी झंडी दिखाकर जिलाधिकारी डॉक्टर उज्ज्वल कुमार, पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्र, मुख्य विकास अधिकारी गौरव कुमार, ने रवाना किया।

सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान की रैली को हरी झंडी दिखाकर जिलाधिकारी ने रवाना किया।
सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान की रैली को हरी झंडी दिखाकर जिलाधिकारी ने रवाना किया।
डीएम ने उपस्थित सभी लोगों को सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान की शपथ भी दिलाई
डीएम ने उपस्थित सभी लोगों को सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान की शपथ भी दिलाई

डीएम ने उपस्थित सभी लोगों को सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान की शपथ भी दिलाई। वहीं अपर पुलिस अधीक्षक शिवराज ने अपने संबोधन में उपस्थित छात्रों एवं अन्य जन मानस को सड़क सुरक्षा अभियान के संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि गाड़ी चलाते समय हेलमेट और सीट बेल्ट का प्रयोग अनिवार्य रूप से करें। उन्होंने कहा कि गाड़ी चलाते समय सुरक्षा बहुत ही जरूरी है।

डीएम ने छात्रों एवं अभिभावकों को यातायात नियमों को लेकर किया जागरूक।
डीएम ने छात्रों एवं अभिभावकों को यातायात नियमों को लेकर किया जागरूक।

भारत मे प्रति वर्ष साढ़े चार लाख होती हैं सड़क दुर्घटना
सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि भारत में सड़क दुर्घटनाओं से 1,47,114 करोड़ रुपये की सामाजिक व आर्थिक क्षति होती है। मंत्रालय के अनुसार, सड़क दुर्घटनाओं का शिकार लोगों में 76.2 प्रतिशत ऐसे हैं, जिनकी उम्र 18 से 45 साल के बीच है। यानी ये लोग कामकाजी आयु वर्ग के हैं। दुनिया भर में होने वाली मौतों में भारत का हिस्सा 11 प्रतिशत है। देश में हर घंटे 53 सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं और हर चार मिनट में एक मौत होती है। भारत में सालाना करीब साढ़े चार लाख सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, जिनमें डेढ़ लाख लोगों की मौत होती है।

खबरें और भी हैं...