गोंडा में ध्वस्त होंगे जर्जर स्कूल:565 भवनों की स्थिति खराब, डीएम ने अधूरे निर्माणों की भी लिस्ट मांगी

गोंडाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीएम ने मांगी जर्जर भवनों की लिस्ट। - Dainik Bhaskar
डीएम ने मांगी जर्जर भवनों की लिस्ट।

गोण्डा के जर्जर प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों की नीलामी कराकर उनका ध्वस्तीकरण किया जाएगा। जिन विद्यालयों की नीलामी नहीं हुई है उनका मूल्यांकन कराकर एक सप्ताह के अन्दर नीलामी कराकर ध्वस्तीकरण करवाया जाएगा। ये निर्देश जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही ने कलेक्ट्रेट सभागार में जर्जर प्राथमिक विद्यालयों के भवनों के ध्वस्तीकरण और नीलामी की समीक्षा बैठक में दिए हैं।

जर्जर भवनों की नीलामी और ध्वस्तीकरण किया जाए

जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में कुल 565 विद्यालय जर्जर पाए गए हैं। जिनमें 58 विद्यालयों के मुख्य भवन, 292 अतिरिक्त कक्षा कक्ष, 120 शौचालय, स्टोर रूम, किचन और अन्य कक्ष शामिल हैं। जिलाधिकारी ने ब्लाकवार जर्जर भवनों की नीलामी और ध्वस्तीकरण की समीक्षा की। डीएम ने खण्ड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी जर्जर भवनों का सत्यापन तकनीकी टीम के साथ संयुक्त रूप से कर लें। उन्होंने निर्देश दिए कि तकनीकी टीम में लोक निर्माण विभाग, आरईडी तथा लघु सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ ही खण्ड शिक्षा अधिकारियों को भी शामिल किया जाए।

उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि ऐसे भवनों की सूची तैयार की जाए जिनका निर्माण कार्य अधूरा पाया गया है। जो भवन समय सीमा से पहले ही जर्जर स्थिति में आ गए हैं उसके लिए जिम्मेदार ग्राम प्रधान और प्रधानाध्यापक की जिम्मेदार तय कराई जाए।

खबरें और भी हैं...