गोंडा...सूदखोरों से परेशान युवक 7 दिन से है गायब:3 पेज का सुसाइड नोट लिख कर गायब हुआ, अभी तक न शव मिला न सुराग; ब्याज पर ले रखा था कर्ज, लिखा-अब हम जी नहीं पाएंगे

गोंडा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मामला थाना खरगूपुर से जुड़ा हुआ है। - Dainik Bhaskar
मामला थाना खरगूपुर से जुड़ा हुआ है।

गोंडा में एक युवक बीते 7 दिनों से लापता है। गायब होने से पहले उसने 3 पेज का एक सुसाइड नोट लिख कर छोड़ा था। जिसके बाद से उसका कोई पता नहीं चल रहा है। अब घरवाले परेशान हैं। पुलिस ने भी इलाके के सरयू नदी में उसे खोजा लेकिन अभी तक उसका शव भी नहीं मिला है। अब पुलिस ने भी मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया है। जबकि घर वाले परेशान हैं।

22 सितंबर से गायब है युवक

मामला थाना खरगूपुर से जुड़ा हुआ है। जहां 22 सितंबर को हरीश ने गाड़ी की डिक्की में 3 पेज का सुसाइड नोट लिख कर छोड़ दिया और गायब हो गया। सुसाइड नोट मिलने पर भाई चिंतामणि ने पुलिस को सूचना दी तो पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की लेकिन 7 दिन बीत जाने के बाद भी न तो उसका शव मिला न ही उसका कोई सुराग मिला। ऐसे में अब पुलिस भी शांत हो गई है। पुलिस के मुताबिक मसौली गांव में युवक के मोबाइल की आखिरी लोकेशन मिली थी लेकिन उसके बाद से नंबर बंद है। फिलहाल युवक की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

क्या लिखा है तहरीर में ?

भाई चिंताराम द्वारा दिये गए तहरीर में कहा गया है कि 22 सितंबर की शाम को गाड़ी की डिक्की में सुसाइड नोट रखा मिला। जिसमे सरयू में कूदने की बात लिखी थी। पुल से 100 मीटर दूरी पर बाइक मिली और उसके डिक्की मे सुसाइड नोट मिला। जिसके आधार पर नदी में तीन दिनों तक रेस्क्यू करने के बाद भी शव नही मिला।

क्या लिखा है सुसाइड नोट में ?

हरीश ने सुसाइड नोट में लिखा है कि हम बहुत डिप्रेशन में यह कदम उठाने जा रहे हैं। हमारे ऊपर बहुत कर्जा है। जिसका भी रुपया बाकी है वह लोग उससे 4-5 गुना ज्यादा ब्याज ले चुके हैं। इसी वजह से मेरा जमीन भी बिक गया है। सुसाइड नोट में किसका कितना पैसा है यह भी लिखा हुआ है। अंत में लिखा है कि मेरी आत्महत्या में मेरे घर या बाहर का कोई आदमी जिम्मेदार नहीं है। यह फैसला हम अपने होशो हवास में ले रहे हैं। अब हम जी नहीं पाएंगे और हमें जीने की इच्छा भी नहीं है।

हरीश ने सुसाइड नोट में लिखा है कि हम बहुत डिप्रेशन में यह कदम उठाने जा रहे हैं।
हरीश ने सुसाइड नोट में लिखा है कि हम बहुत डिप्रेशन में यह कदम उठाने जा रहे हैं।