पुलिस कस्टडी में बिजली कर्मचारी की मौत का मामला:एसपी ने 8 पुलिसकर्मियों को किया सस्पेंड, इंस्पेक्टर-SOG प्रभारी पहले हो गए थे सस्पेंड

गोंडा15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक की फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
मृतक की फाइल फोटो

गोंडा के नवाबगंज थाना में बीते दिनों पुलिस कस्टडी में हुई बिजली कर्मचारी की मौत मामले में एसपी ने कार्रवाई की है। एसपी आकाश तोमर ने घटना के समय थाने में मौजूद 8 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। साथ ही उनके खिलाफ विवेचक को कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

एसपी आकाश तोमर ने यह भी निर्देश दिया है कि जांच में जिन 10 पुलिसकर्मियों को अब तक निलंबित किया जा चुका है। उनकी भूमिका की भी जांच गहराई से की जाए। एसपी ने सर्विलांस सेल में तैनात उपनिरीक्षक आलोक,नवाबगंज थाने में तैनात हेड कांस्टेबल मिथिलेश सिंह, नवाबगंज थाने में तैनात आरक्षी धर्मेंद्र,आरक्षी मनोज, एसओजी टीम गोंडा में तैनात हेड कांस्टेबल राकेश सिंह, हेड कांस्टेबल अरुण यादव, आरक्षी आदित्य पाल, आरक्षी अमित पाठक को निलंबित कर दिया है।

नवाबगंज थाने में मौजूद थे सभी पुलिसकर्मी
निलंबित किए गए यह सभी पुलिसकर्मी घटना के समय नवाबगंज थाने में मौजूद थे। वहीं पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने प्रभारी साइबर सेल में तैनात संतोष कुमार सिंह को प्रभारी स्वाट(एसओजी) और सर्विलांस का अतिरिक्त प्रभार दिया है।

एसपी के आदेश पर हुई कार्रवाई।
एसपी के आदेश पर हुई कार्रवाई।

ये था पूरा मामला
बीते 15 सितंबर को पुलिस कस्टडी में बिजली कर्मचारी की मौत के बाद वबाल हो गया। ग्रामीणों ने नवाबगंज मार्ग पर शव रखकर जाम लगा दिया। पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। पत्थरबाजी कर पुलिस की गाड़ियों में जमकर तोड़फोड़ की। साथ ही एंबुलेंस को भी पलट दिया।

यह तस्वीर नवाबगंज मार्ग की है। युवक का शव मिलने के बाद हंगामा करते ग्रामीण।
यह तस्वीर नवाबगंज मार्ग की है। युवक का शव मिलने के बाद हंगामा करते ग्रामीण।

ग्रामीणों को समझाने में जुटे थे डीएम
सूचना मिलते ही डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे। वे युवक के परिजनों और ग्रामीणों को समझाने में जुटे लगे थे। हंगामे को देखते हुए प्रशासन ने नवाबगंज मार्ग को हंगामा स्थल से 25 किमी दूर से डायवर्ट कर दिया था। मामले में लापरवाही बरतने पर नवाबगंज थानाध्यक्ष तेज प्रताप सिंह, SOG प्रभारी अमित यादव को सस्पेंड कर दिया गया था। साथ ही थानाध्यक्ष के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी।

लाइनमैन था मृतक
मृतक का नाम देवनारायण है। वह माझा राठ गांव का रहने वाला था। वह बिजली विभाग में संविदा के पद पर लाइनमैन का नौकरी करता था। ग्रामीणों ने बताया, "बीते दिनों जैतपुर चौहान पुरवा में हुई झोलाछाप डॉक्टर की हत्या हुई थी। इसी मामले में नवाबगंज और एसओजी पुलिस ने पूछताछ के लिए उसे पुलिस कस्टडी में लिया था। बुधवार दोपहर 3 बजे देवनारायण के पिता ने प्रधान के साथ बेटे को नवाबगंज पुलिस और SOG को पूछताछ के लिए सौंपा था।"​​​​

युवक की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था।
युवक की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था।

झोलाछाप के मोबाइल में देवा का नंबर मिला था
पिता राम बहादुर यादव ने बताया, "झोलाछाप डॉक्टर की हत्या हुई थी। उसके मोबाइल में मेरे बेटे का नंबर था। पुलिस ने कहा कि कुछ सवाल पूछने के बाद लड़के को छोड़ देंगे। मैं थाने में जाकर बैठ गया था। नवाबगंज पुलिस ने एसओजी को सौंप दिया था। पुलिस वालों ने मेरे बेटे को बहुत पीटा।

खबरें और भी हैं...