• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gonda
  • Stopped Picking Up The Phone With Money, Then Got A Threat From A Relative; Victim Attempted Suicide After Police Did Not Take Action

गोंंडा में नौकरी की झांसा देकर लाखों की ठगी:पैसे लेकर फोन उठाना किया बंद, फिर रिश्तेदार से दिलवाई धमकी; पुलिस द्वारा कार्रवाई न करने पर पीड़ित ने किया आत्महत्या का प्रयास

गोंंडा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोंंडा में ठगी व पुलिस के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई न करने से युवक ने किया आत्महत्या का प्रयास। - Dainik Bhaskar
गोंंडा में ठगी व पुलिस के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई न करने से युवक ने किया आत्महत्या का प्रयास।

गोंडा में थाना धानेपुर के सतनामी पुरवा पूरे ठाकुर के निवासी अवधेश कुमार मिश्रा उर्फ दीपू मिश्रा को एक आदमी ने लेखा विभाग में नौकरी दिलवाने के लिए उससे 8 लाख रुपए लिए। बाद में उसका फोन उठाना बंद कर दिया। फिर आरोपी के रिश्तेदार ने उसको धमकी दी कि अगर उसने अपने पैसों की मांग की तो वह उसे जेल भिजवा देगा। पीड़ित ने पुलिस में मामले की जानकारी दी। कार्रवाई न होने पर उसने आत्महत्या करने का प्रयास किया. जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

अकाउंट में ट्रांस्फर करवाए थे 5 लाख रुपए
भाजपा नेत्री रेखा श्रीवास्तव ने बताया कि दिनेश कुमार द्विवेदी निवासी बघौली थाना टिकैतनगर जनपद बाराबंकी द्वारा अवधेश कुमार मिश्रा उर्फ दीपू मिश्रा से अपने भाई मनोज कुमार द्विवेदी के खाता में 5 लाख रुपया ट्रांसफर करवाया गया। तथा तीन लाख रुपया नगद लिया गया था l उसने कहा कि वह पीड़ित की नौकरी वित्त एवं लेखा विभाग में सहायक लेखा अधिकारी के पद पर लगवा देगा l तीन महीने बीतने के बाद पीड़ित द्वारा नौकरी दिलाने अथवा पैसे वापस करने की मांग की जाने लगी। तो दिनेश कुमार द्विवेदी ने पीड़ित का फोन उठाना बंद कर दिया।

रिश्तेदार ने कहा- पत्रकार हूं, तुम्हें बरबाद कर दूंगा
पैसा वापस न करना पड़े इसीलिए दिनेश कुमार द्विवेदी ने अपने रिश्तेदार प्रदीप कुमार शुक्ला निवासी माधवपुर पावर हाउस चौराहा थाना धानेपुर से फोन करवाकर अवधेश कुमार मिश्रा को धमकी दिलवाई। उसने कहा कि मैं जिले का एक पत्रकार हूं। अगर आप मेरे रिश्तेदार से पैसे की मांग करोगे तो तुमको बर्बाद कर दूंगा। तथा चैनलों में तुम्हारी खबर चलवा कर तुम को जेल भिजवा दूंगा। अवधेश कुमार मिश्रा उर्फ दीपू मिश्रा ने न्याय की गुहार लगाने के लिए थानाध्यक्ष धानेपुर तथा एसपी गोंडा तथा डीआईजी को शिकायत प्रार्थना पत्र दिया l कोई कार्रवाई न होने पर उसने एक पत्र लिखा। जिसमें उसने प्रदीप को दोषी बताया और फिर जहरीला पदार्थ खा लिया। जानकारी होने पर अस्प्ताल में 30 सितंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

खबरें और भी हैं...