गोंडा...पति ने पत्नी और दो बेटियों को मार डाला:रात में हुआ था झगड़ा, हत्या को सुसाइड केस बनाने के लिए पत्नी के शव के पास रखा था लेटर

गोंडा2 महीने पहले

गोंडा में ट्रिपल मर्डर का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां एक शख्स ने गुरुवार देर रात पत्नी और दो मासूम बच्चों की गला दबाकर हत्या कर दी। यही नहीं हत्या को आत्महत्या में बदलने के लिए महिला के पास एक सुसाइड नोट भी छोड़ दिया। शुक्रवार सुबह पति से ही जानकारी पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने गहनता से पड़ताल की तो असलियत समझते देर नहीं लगी। पुलिस ने पति को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

पुलिस का कहना है कि पति ओमप्रकाश दिल्ली में काम करता है। 5 दिन पहले ही वह घर लौट कर आया था। उसे अपनी पत्नी के चरित्र पर शक था। उसने बताया कि दिल्ली से जब मैं उसे फोन करता तो उसका फोन बिजी जाता था। अवैध संबंधों को लेकर कल रात में भी उसका पत्नी से झगड़ा हुआ था। जिसके बाद उसने पत्नी और बच्चों की भी हत्या कर दी।

तीनों की गला दबाकर हत्या की
मामला खरगूपुर थाने से जुड़ा हुआ है। जहां देवरिया कला गांव के गुड्डू उर्फ ओमप्रकाश तिवारी की पत्नी कौशल्या (26 वर्ष) अपनी एक साल की बेटी ज्ञानवी और 4 वर्ष की बेटी जाह्नवी के साथ सुबह घर में मृत अवस्था में पाई गई। महिला के पास से सुसाइड नोट भी मिला। मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने जब परिस्थितियों को देखा तो उन्हें तुरंत पूरा मामला समझ में आ गया। उन्होंने पति ओमप्रकाश को हिरासत में ले लिया और पूछताछ शुरू कर दी। पूछताछ में उसने अपना गुनाह कुबूल कर लिया। उसने बताया कि उसने ही रात में तीनों की गला दबाकर हत्या की है। जांच में पता चला है कि रात में गुड्‌डू का पत्नी कौशल्या से विवाद हुआ था।

हत्या को आत्महत्या में बदलने की साजिश थी
पुलिस के मुताबिक पति ने हत्या तो कर दी, लेकिन अब उससे कैसे बचा जाए तो उसने हत्या को आत्महत्या में बदलने की साजिश भी रची। उसने पत्नी कौशल्या के बगल में एक सुसाइड नोट लिख कर रख दिया। जिसमें उसने लिखा कि 'मैं अपनी बेटी को अपने साथ ले जा रही हूं। इन्हें मेरे साथ जला दीजिएगा। बस मेरा यही मन है और चिंता करने की कोई बात नहीं है। आप लोग खुश हैं तो हम भी खुश हैं। मेरी तरफ से कोई गलती नहीं है। मैं अपनी जान खुद दे रही हूं। मेरे प्यारे पापा जी और चाचा जी, भैया जी, बड़ी भाभी जी और छोटी भाभी इन लोगों की कोई गलती नहीं है। मैंने अपनी मर्जी से मौत को गले लगाया है।'

यही नहीं सुसाइड नोट में पति ने पत्नी की तरफ से अपने लिए भी मैसेज छोड़ा। जिसमें लिखा है कि 'मेरे प्यारे पति जी आप लोगों को नई जिंदगी मुबारक हो। मेरी तरफ से आप लोग खुश रहें यही मेरा मन है। पिया जी मैं आपकी जिंदगी से बहुत दूर जा रही हूं। आप खुश रहो। आप दूसरी शादी कर लेना तभी मेरे मन को शांति मिलेगी।'

मौके से मिला सुसाइड नोट।
मौके से मिला सुसाइड नोट।

सुसाइड नोट की भाषा से पुलिस को हुआ शक
मौके पर पहुंचे आलाधिकारियों ने जब सुसाइड लेटर पढ़ा तो उन्होंने सबसे पहले पति ओमप्रकाश को हिरासत में ले लिया। दरअसल, सुसाइड नोट में कौशल्या ने सभी को क्लीन चिट दी है। जबकि सब परिवार में सही था तो सुसाइड की नौबत कैसे आई। यह सवाल ओमप्रकाश और उनके परिवार के खिलाफ जा रहा था।

पूरे परिवार को लिया हिरासत में
एसपी गोंडा संतोष कुमार मिश्रा ने बताया कि पति को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने सच कुबूल कर लिया। पति ने बताया है कि पारिवारिक विवाद में उसने पत्नी की हत्या कर दी है। मामले में सास रामावती, जेठ सत्य प्रकाश, देवर ईश्वर नाथ और ससुर राम शरण तिवारी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। आरोपी पति को जेल भेज दिया गया है।

खबरें और भी हैं...