• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gorakhpur
  • 100 Dilapidated Buildings Of The City Are Becoming Fatal Due To The Negligence Of The Municipal Corporation, No Action On The Owners Of The Houses, People In Panic

गोरखपुर में मौत को दावत दे रहे यह 100 मकान:नगर निगम की लापरवाही से जानलेवा हो रहे शहर के जर्जर 100 भवन, मकान के मालिकों पर कार्रवाई नहीं, दहशत में लोग

गोरखपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यहां तक कि नियम के मुताबिक जर्जर हो चुके मकान के मालिकों को उसे गिराने की नोटिस भी नहीं दी गई है। - Dainik Bhaskar
यहां तक कि नियम के मुताबिक जर्जर हो चुके मकान के मालिकों को उसे गिराने की नोटिस भी नहीं दी गई है।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में नगर निगम की लापरवाही से एक बढ़ी घटना कभी भी घट सकती है। यहां शहर में 100 से अधिक जर्जर भवन कभी भी जानलेवा साबित हो सकते हैं। बारिश में यह खतरा और बढ़ गया है। यह सबकुछ जानने के बाद भी नगर निगम अब तक जर्जर हो चुके मकान के मालिकों पर कोई कार्रवाई नहीं कर सका है। यहां तक कि नियम के मुताबिक जर्जर हो चुके मकान के मालिकों को उसे गिराने की नोटिस भी नहीं दी गई है। अगर कोई हादसा होता है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। यह कहने से सभी जिम्मेदार कतरा रहे हैं।

सबकुछ जानने के बाद भी नगर निगम अब तक जर्जर हो चुके मकान के मालिकों पर कोई कार्रवाई नहीं कर सका है
सबकुछ जानने के बाद भी नगर निगम अब तक जर्जर हो चुके मकान के मालिकों पर कोई कार्रवाई नहीं कर सका है

अलीनगर और पुर्दिलपुर सबसे खतरनाक
गोरखपुर का अलीनगर इलाका सबसे अधिक भीड़भाड़ वाला इलाका है। यहां पुरानी मार्केट होने की वजह से रोज करीब 20 हजार पब्लिक​ आती जाती है। नगर निगम अंतर्गत अलीनगर और पुर्दिलपुर इलाके में कई जर्जर भवन हैं। यहां के जर्जर मकानों में लोग रह रहे हैं, लेकिन निगम कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा। हर बार बरसात में अलर्ट जारी कर सिर्फ खानापूर्ति कर ली जाती है।

हर बार बरसात में अलर्ट जारी कर सिर्फ खानापूर्ति कर ली जाती है।
हर बार बरसात में अलर्ट जारी कर सिर्फ खानापूर्ति कर ली जाती है।

अब तक 12 भवन स्वामियों को दी गई है नोटिस
गोरखपुर में बरसात में ऐसे कई भवन हैं, जहां लोग दिन-रात इस डर में रहते हैं कि कहीं छत गिर न जाए। नगर निगम क्षेत्र में करीब 100 से भी अधिक ऐसे पुराने और जर्जर भवन हैं, जिसे लेकर हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है। ये भवन चार से पांच दशक पहले बनाए गए थे। लेकिन संबंधित विभाग इस ओर गंभीर नहीं है। इन भवनों की मरम्मत न होने की वजह से स्थिति अधिक खतरनाक है। निगम अफसरों का कहना है अति जर्जर 12 भवनों के मालिकों को नोटिस दी गई है।

बारिश में गिरा मकान, महिला की मौत
हाल के दिनों में कई घटनाएं बरसात की वजह से हुई हैं। पिपराइच इलाके में मकान गिर जाने से एक महिला की मौत हो गई और एक बच्ची घायल हो गई। जबकि पिछले दिनों हुई बारिश में बशारतपुर स्थिति आशा देवी के मकान का शेड गिर गया। हालांकि, किसी तरह की जनहानि नहीं हुई। वहीं इस बारे में नगर निगम चीफ इंजीनियर का कहना है कि शहर के जर्जर भवनों का सर्वे कराया जा रहा है। साथ ही 12 लोगों को नोटिस भी दी जा चुकी है कि वह मकान की मरम्मत करा लें। यदि वह समय रहते जर्जर भवन की मरम्मत नहीं कराते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...