• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gorakhpur
  • 12,930 Patients Reached Hospital In 9 Days, More Than 200 Children Suffering From Fever Everyday; Those With Pneumonia And Vomiting Are Being Admitted

गोरखपुर में वायरल अटैक:9 दिन में 13 हजार मरीज पहुंचे जिला अस्पताल, हर दिन 200 से अधिक बच्चे हो रहे बीमार

गोरखपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीआरडी मेडिकल कॉलेज में एडमिट होने वाले बच्चों की संख्या ज्यादा है। ये ऐसे बच्चे हैं, जिन्हें निमोनिया और उल्टी दस्त की शिकायत है। - Dainik Bhaskar
बीआरडी मेडिकल कॉलेज में एडमिट होने वाले बच्चों की संख्या ज्यादा है। ये ऐसे बच्चे हैं, जिन्हें निमोनिया और उल्टी दस्त की शिकायत है।

गोरखपुर जिले में वायरल फीवर का अटैक जारी है। मौसम के करवट के साथ हुए वायरल अटैक से घर-घर में बुखार के मरीज मिल रहे हैं। आंकड़े बताते हैं कि बीते 9 दिनों में 13 हजार मरीज सिर्फ जिला अस्पताल ही पहुंचे हैं। इसमें बड़ी संख्या में बच्चे भी शामिल हैं। इस बीच कैंपेन के तहत डेंगू लार्वा की जांच की जा रही है। लापरवाही पर कार्रवाई भी होगी। इसके अतिरिक्त वेक्टर बॉर्न डिजीज के लिए सर्वे भी किया जा रहा है।

जिला अस्पताल में बुधवार को ओपीडी में आने वाले 123 बच्चों का इलाज किया गया, जबकि दोपहर 12 बजे तक 1136 मरीजों की ओपीडी हुई।
जिला अस्पताल में बुधवार को ओपीडी में आने वाले 123 बच्चों का इलाज किया गया, जबकि दोपहर 12 बजे तक 1136 मरीजों की ओपीडी हुई।

रोजाना वायरल फीवर का शिकार हो रहे 200 से अधिक बच्चे
वायरल फीवर की चपेट में आने वाले बच्चों के ओपीडी में आने का सिलसिला जारी है। जिला अस्पताल में बुधवार को ओपीडी में आने वाले 123 बच्चों का इलाज किया गया, जबकि दोपहर 12 बजे तक 1136 मरीजों की ओपीडी हुई। इनमें अधिकांश मरीज वायरल फीवर से पीड़ित हैं। वहीं बीआरडी मेडिकल कॉलेज के बाल रोग विभाग में एडमिट होने वाले मरीजों में निमोनिया और जॉन्डिस के मरीज ज्यादा है। वायरल फीवर के मरीजों का इलाज कर उन्हें घर भेज दिया जा रहा है।

इन सभी बच्चों के परिजनों को दवा देकर घर भेज दिया गया। तीन दिनों में ये बच्चे स्वस्थ भी हो जाएंगे। इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है।
इन सभी बच्चों के परिजनों को दवा देकर घर भेज दिया गया। तीन दिनों में ये बच्चे स्वस्थ भी हो जाएंगे। इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है।

तीन दिन में स्वस्थ हो रहे बच्चे
मौसम के उतार-चढ़ाव के कारण वायरल फीवर के मरीज बढ़ गए हैं। जिला अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. जेएसपी सिंह ने बताया, 'जो वायरल इंफेक्शन के केसेज आ रहे हैं। वह पहले 250-300 होते थे, लेकिन सीजनल बुखार है, ऐसे में बच्चों की संख्या फिलहाल घटकर 150-200 तक पहुंच चुकी है। बीते 9 दिनों के दौरान यहां ओपीडी में 13 हजार से अधिक मरीज आ चुके हैंं। इनमें बच्चे भी शामिल हैं। बच्चों का इलाज किया गया। इन सभी बच्चों के परिजनों को दवा देकर घर भेज दिया गया। तीन दिन में यह बच्चे स्वस्थ भी हो जाएंगे। इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है'।

बीते 9 दिनों के दौरान यहां ओपीडी में 13 हजार से अधिक मरीज आ चुके हैंं। इनमें बच्चे भी शामिल हैं।
बीते 9 दिनों के दौरान यहां ओपीडी में 13 हजार से अधिक मरीज आ चुके हैंं। इनमें बच्चे भी शामिल हैं।

भर्ती किए जा रहे निमोनिया के मरीज
बीआरडी मेडिकल कॉलेज में एडमिट होने वाले बच्चों की संख्या ज्यादा हैै यह ऐसे बच्चे हैं, जिन्हें निमोनिया और उल्टी दस्त की शिकायत है। बीआरडी मेडिकल कॉलेज के एसोसिएट प्रोफेसर व बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. भूपेंद्र शर्मा ने बताया कि जो भी बच्चे एडमिट हो रहे हैं। वह निमोनिया, उल्टी दस्त या फिर प्री-मैच्योर बेबी है। वायरल फीवर वाले मरीज को एडमिट करने की नौबत नहीं आ रही है। इसलिए वायरल फीवर से घबराने के बजाय दवा लेकर घर में ही बच्चे स्वस्थ हो जा रहे हैं। जिला अस्तपाल के एसआईसी अभय चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि इन दिनों इन दिनों जिला अस्तपाल की ओपीडी में आने वाले मरीजों में अधिकांश वायरल फीवर से ग्रसित हैं। उनके यहां इलाज की मुक्कमल व्यवस्था है। इसमें घबराने की कोई बात नहीं है। तीन से चार दिनों में मरीज पूरी तरह स्वस्थ्य हो रहे हैं।

इन दिनों जिला अस्तपाल की ओपीडी में आने वाले मरीजों में अधिकांश वायरल फीवर से ग्रसित हैं।
इन दिनों जिला अस्तपाल की ओपीडी में आने वाले मरीजों में अधिकांश वायरल फीवर से ग्रसित हैं।

जिला अस्पताल की ओपीडी में आने वाले मरीज

  • 15 सितंबर - 1136 (दोपहर 12 बजे तक)
  • 14 सितंबर - 1629
  • 13 सितंबर - 1671
  • 11 सितंबर - 1356
  • 10 सितंबर - 1437
  • 09 सितंबर - 1141
  • 08 सितंबर - 1382
  • 07 सितंबर - 1546
  • 06 सितंबर - 1632
खबरें और भी हैं...