पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gorakhpur
  • 500 Houses Submerged In Water During Three Days Of Rain, Water Entered 200 Houses; 20 Thousand People Imprisoned In Homes,Gorakhpur, Gorakhpur News, Gorakhpur Nagar Nigam, Rain In Gorakhpur, Ravi Kumar NG IAS, Breking News Gorakhpur, Gorakhpur

तस्वीरों में देखिए... गोरखपुर में कैसे बारिश से बिगड़े हालात:3 दिन की बारिश ने 20 हजार लोगों को घरों में कैद कर दिया, 500 से ज्यादा मकानों में भरा पानी

गोरखपुर4 दिन पहले
लोग घर के जरूरी सामान को चौकी के ऊपर रखकर जलस्तर घटने का इंतजार कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में कमिश्नर से लेकर नगर आयुक्त तक भले ही असुरन-मेडिकल कॉलेज के दोनों तरफ के कालोनियों में जलभराव को लेकर फिक्रमंद न हों, लेकिन यहां के 20 हजार से अधिक आबादी की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। भेड़ियागढ़ के विष्णुपुरम समेत पादरी बाजार का नारायण पुरम कॉलोनी, जंगल हकीम नंबर 1 और जंगल तिकोनिया नंबर 2 अभी भी पूरी तरह जलमग्न है।

यहां 500 से अधिक घरों में पानी घुसा हुआ है। जबकि मंगलवार कर देर शाम शुरू हुई बारिश से यहां के नागरिकों की नींद उड़ गई है। हालांकि राहत की बात यह है कि बुधवार की सुबह से यहां बारिश नहीं हुई। उधर, संयुक्त टीम के निरीक्षण के बाद मेडिकल रोड पर राहत का कोई काम नहीं होने से नागरिकों में आक्रोश है।

भेड़ियागढ़ के विष्णुपुरम समेत पादरी बाजार का नारायण पुरम कॉलोनी, जंगल हकीम नंबर 1 और जंगल तिकोनिया नंबर 2 अभी भी पूरी तरह जलमग्न है।
भेड़ियागढ़ के विष्णुपुरम समेत पादरी बाजार का नारायण पुरम कॉलोनी, जंगल हकीम नंबर 1 और जंगल तिकोनिया नंबर 2 अभी भी पूरी तरह जलमग्न है।

सड़कें जलमग्न, घरों में कैद हुए लोग
पादरी बाज़ार नारायण पुरम कॉलोनी, जंगल हकीम नंबर 1, जंगल तिकोनिया नंबर 2, भेड़ियागढ़ वार्ड के विष्णुपुरम और बशारतपुर वार्ड के ओमनगर व अशोक नगर में सर्वाधिक मुश्किल है। यहां के अधिकांश घरों में जहां पानी घुसा हुआ है, वहीं, 20 हजार की आबादी सड़कों के जलमग्न होने से मजबूरन घरों में कैद हो गई है। लोग घर के जरूरी सामान को चौकी के ऊपर रखकर जलस्तर घटने का इंतजार कर रहे हैं। अशोक नगर में वशिष्ठ बघेल के घर में तीन दिन से पानी लगा हुआ है। घर में बेड के ऊपर कूलर रखना पड़ा है। वहीं कीमती सामान को भी सुरक्षित रखने के लिए मेहनत करनी पड़ी है।

नगर निगम व PWD के दावों की खुली पोल
उनका कहना है कि तीन दिनों में पानी का स्तर एक इंच भी कम नहीं हुआ है। समझ से परे हैं कि नगर निगम और पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों द्वारा क्या प्रयास किया जा रहा है। वहीं, बशारतपुर में मोती पोखरा के पास सड़कों पर पानी लगा हुआ है।

विष्णुपुरम मोहल्ले में रहने वाले गोरखनाथ सिंह के आवास में भी तीन दिन से पानी घुसा हुआ है। उनका कहना है कि तीन दिनों में पानी का स्तर कम नहीं हुआ है। लगातार हो रही बारिश से राहत की उम्मीद नहीं दिख रही है। परिवार के साथ घर छोड़कर कहीं जाना भी मुमकिन नहीं है।

क्या बोले अधिकारी?
कमिश्नर रवि कुमार एनजी ने कहा कि मामला संज्ञान में है। इसके लिए नगर निगम और पीडब्यूडी के अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हें निर्देशित किया गया है। इसमें किसी तरह की लापरवाही बरतने वालों को बख्सा नहीं जाएगा। किसी भी दशा में तत्काल जलभराव वाले इलाकों में पानी निकालने के निर्देश दिए जा चुके हैं।

नगर आयुक्त अविनाश सिंह का कहना है कि जलभराव वाले इलाकों में लगातार पंपिंग सेट लगाकर जल निकासी कराई जा रही है। एक ओर पानी निकाला जा रहा है तो दूसरी ओर बारिश से फिर पानी भर जा रहा। नगर निगम की टीम लगातार इसके लिए मशक्कत कर रही है।