• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gorakhpur
  • As Soon As The Delivery Came, He Used To Change The Jewelery After Receiving It, Then Used To Make An Excuse Of Money And Used To Return, Inspiration Was Taken From Films.

आनलाइन ज्वैलरी मंगाकर नकली कर देते थे रिटर्न:डिलेव​री आते ही रिसीव कर बदल देते थे ज्वैलरी, फिर पैसे का बहाना बना कर देते थे वापस; फिल्मों से ली थी प्रेरणा

गोरखपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
साइबर ठगों शुभम और संतोष को साइबर सेल और पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बारे में बताते एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्नोई। - Dainik Bhaskar
साइबर ठगों शुभम और संतोष को साइबर सेल और पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बारे में बताते एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्नोई।

गोरखपुर मे आनलाइन ज्वैलरी मंगाकर पैकेट में नकली ज्वैलरी डालकर पार्सल वापस करने का खेल पिछले दो महीनों से चल रहा था। जिसकी शिकायत साइबर सेल में ब्लू डॉट कंपनी ने किया था। जिसके बाद शाहपुर थाने में अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। गुरूवार को साइबर सेल और शाहपुर पुलिस ने जालसाजी करने वाले दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया।

जिनकी पहचान शुभम जायसवाल पुत्र राकेश जायसवाल निवासी वार्ड नम्बर 24 मीराबाईनगर सिसवा बाजार थाना कोठीभार जिला महराजगंज और संतोष पुत्र दयानन्द निवासी 143 दक्षिण टोला वार्ड नंबर 8 सिसवा बाजार थाना कोठीभार जिला महराजगंज के रूप में हुई। पुलिस ने इनके पास से 2 मोबाइल, घटना में प्रयोग किया गया सिम और बदला गया ज्वैलरी और बाइक बरामद किया है।

गोरखपुर और महराजगंज के पते पर मंगाते थे डिलेवरी
एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्नोई ने बताया कि ​पकड़े गए शुभम और संतोष ने बताया कि उन्हें दक्षिण की एक फिल्म से आइडिया मिला। जिसके बाद दोनों पिछले दो महीने से जालसाजी कर रहे थे। दोनों आरोपी शाहपुर के पादरी बाजार में किराए का कमरा लेकर रहते हैं। दोनों आनलाइन ज्वैलरी बेचने वाली कंपनी से ज्वैलरी व अन्य सामान लेने के लिए आर्डर करते थे। सभी आर्डर ये अपने मोबाइल नंबर से गोरखपुर और महराजगंज के अलग अलग नाम और पते पर कैश आन डिलेवरी मोड में आर्डर करते थे।

पैसे न होने का बहाना बनाकर पैकेट कर देते थे वापस
जब डिलेवरी ब्वाय आर्डर का पैकेट लेकर आता था तो एक आरोपी उसे बातों में उलझा देता था। दूसरा पैकेट खोलकर असली ज्वैलरी निकाल लेता था और उसमें नकली ज्वैलरी रख देता था। साथ ही पैकेट की ठीक उसी तरह सील कर देता था जैसा पहले रहता था। इसके बाद ये लोग पैकेट को डिलेवरी ब्वाय को पैसे न होने का बहाना बनाकर वापस कर देते थे। उससे कहते थे कि वे कोरियर के आफिस आकर पैसे देकर डिलेवरी ले लेंगे।

एक करता था केटरिंग का काम तो दूसरा किराना की दुकान चलाता था
​​​​​​​पुलिस के अनुसार आरोपी शुभम शादी विवाह में केटरिंग का काम करता है और संतोष किराने की दुकान चलाता है। ज्यादा पैसे कमाने की लालच में पिछले दो महीने से ये इस काम में लिप्त थे।दोनों को पकड़ने वाली टीम में शाहपुर एसओ रणधीर कुमार मिश्रा,साइबर क्राइम सेल के इंस्पेक्टर सुनील कुमार पटेल, साइबर सेल के शशि शंकर राय,शशिकांत जायसवाल,पंकज कुमार गुप्ता और नीतू नाविक शामिल रहीं।

खबरें और भी हैं...