कोरोना में अनाथ हुए गोरखपुर के 157 बच्चे:10 बच्चों के माता और पिता दोनों की हुई कोरोना से मौत, 'बाल सेवा योजना' के तहत मिलेगा बच्चों को सहारा

गोरखपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लड़कियों की शादी के लिए एक लाख एक हजार रुपए दिए जाएंगे। - Dainik Bhaskar
लड़कियों की शादी के लिए एक लाख एक हजार रुपए दिए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में कोरोना महामारी के दौरान अपने अनाथ हुए शहरी और ग्रामीण क्षेत्र मिलाकर अभी तक कुल 157 बच्चों को चिन्हित किया है। इनमें से 10 बच्चों के माता और पिता दोनों की कोरोना से मौत हो चुकी है, जबकि 147 बच्चों के माता या पिता में से किसी एक की मौत हुई है। कोरोना से अनाथ हुए इन सभी बच्चों को बाल सेवा योजना के तहत शासन की ओर से अच्छे परवरिश के लिए उनके संरक्षकों को हर महीने 4,000 रुपए दिए जाएंगे। इसके अलावा लड़कियों की शादी के लिए एक लाख एक हजार रुपए दिए जाने की योजना है।

सर्वे कराकर किया जा रहा चिन्हित
दरअसल, कोरोना महामारी के दौरान अपने अभिभावकों को खो चुके बच्चों के लिए मुख्यमंत्री ने 'बाल सेवा योजना' के तहत सहारा देने का एलान किया है। सीएम के इस एलान के बाद प्रदेश के सभी जिलों के अधिकारी कोरोना से बेसहारा हुए बच्चों को सर्च कर रहे हैं। गोरखपुर के जिला प्रोबेशन अधिकारी ने सर्वे कराकर कोरोना महामारी से अनाथ हुए 157 बच्चों को चिन्हित किया है। ऐसे में शासन की ओर से आदेश मिलने के बाद जिला प्रोबेशन अधिकारी ने गोरखपुर जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र मिलाकर अभी तक कुल 157 बच्चों को चिन्हित किया है।

नगर निगम क्षेत्र में मिले सबसे ज्यादा बच्चे
जिले के नगर निगम क्षेत्र से सबसे ज्यादा 65 बच्चे चिन्हित किए गए हैं। इसके अलावा बांसगांव, बड़हलगंज, चरगांवा, ब्रह्मपुर, कैंपियरगंज, कौड़ीराम, खजनी, पिपराइच, खोराबार, भटहट, उरुवा, पाली, सहजनवा, सरदारनगर, और बांसगांव नगर पंचायत इन सभी क्षेत्रों को मिलाकर कुल 92 बच्चे चिन्हित किए गए हैं। जिला प्रोबेशन अधिकारी सर्वजीत सिंह ने बताया कि फिलहाल कोरोना महामारी में बेसहारा हुए 157 बच्चों को चिन्हित किया गया है, सर्वे कराकर और बच्चों को ढूंढा जा रहा है। अनाथ हुए सभी बच्चों को सत्यापन के एक सप्ताह के बाद योजना का लाभ मिलने लगेगा।

29 हजार से अधिक कामगारों का डाटा फीड, मिलेगा पोषण भत्ता
वहीं, कोरोना काल में बेरोजगार हुए ग्रामीण क्षेत्र के दैनिक कामगारों के खाते में भी जल्द ही एक-एक हजार रुपये का पोषण भत्ता पहुंचने लगेगा।
गोरखपुर जिले में ऐसे एक लाख जरूरतमंदों को मदद देने का लक्ष्य तैयार किया है। रविवार की शाम तक पंचायतीराज विभाग ने 29 हजार से अधिक लाभार्थियों का डाटा कंप्यूटर में फीड करा दिया गया है।

प्रतिमाह एक हजार रुपए दिया जाएगा
दरअसल, कोरोना कर्फ्यू में रोज कमाकर खाने वालों को काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। उनकी कठिनाइयों को देखते हुए शासन ने उन्हें एक हजार रुपये प्रतिमाह देने का निर्णय लिया है। इसके तहत नगर क्षेत्र एवं ग्रामीण क्षेत्र के अलग-अलग पात्रों की पहचान की जा रही है। आधार कार्ड के साथ उनकी फीडिंग भी की जा रही है।

खबरें और भी हैं...