गोरखपुर में इंस्पेक्टर के बेटे की गोली मारकर हत्या:दुर्गा विसर्जन के जुलूस में डांस करने को लेकर हुआ विवाद, पेट में मारी 3 गोली

गोरखपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोरखपुर में गुरुवार की रात पुलिस इंस्पेक्टर के बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई। दुर्गा पूजा विजर्सन जुलूस में बवाल हो गया था। डीजे पर डांस करने को युवकों के गुट में विवाद हो गया। इस दौरान बदमाशों ने रिटायर्ड दरोगा के बेटे विकास तिवारी (28) को गोली मार दी।

पिस्टल से ताबड़तोड़ की गई फायरिंग में विकास को तीन गोली लगी है। एक गोली उसके पेट में और दो हाथ में लगी है। शुक्रवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। घटना शाहपुर इलाके के असुरन की है।

पुलिस से रियार्ड हैं ​माता- पिता, PAC में भाई

शाहपुर इलाके के राप्ती नगर फेज फोर निवासी रविंद्र नाथ तिवारी पुलिस विभाग के रिटायर्ड इंस्पेक्टर हैं। उनकी पत्नी भी पुलिस विभाग से ही रिटायर्ड दरोगा हैं। जबकि दूसरा बेटा लक्की PAC में सिपाही के पद कार्यरत है। वहीं, रविंद्र का छोटा ​बेटा विकास तिवारी उर्फ गोलू (28) राप्तीनगर रेल विहार में मेडिकल एजेंसी चलाता था।

मोहल्ले के जुलूस में गया था विकास

विकास गुरुवार को मोहल्ले मे बैठाई गई दुर्गा प्रतिमा की विसर्जन मे शामिल होने गया था। इस दौरान जुलूस असुरन चौराहे के पास पहुंचा था, तभी डीजे पर डांस करने को लेकर आपस में ही कुछ युवकों से विकास का विवाद हो गया। सभी शराब के नशे में धुत थे।

आरोप है कि इस दौरान जुलूस में उसी मोहल्ले का रहने वाला एक युवक ने पिस्टल निकाल कर विकास पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। तीन गोली विकास के हाथ और पेट में लगते ही वह वहीं गिर पड़ा।

जुलूस में गोली चलने के बाद अफरा- तफरी मच गई। मौके पर पहुंची पुलिस स्थानीय लोगों की मदद से घायल युवक को बीआरडी मेडिकल कॉलेज ले गई। लेकिन डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर देख हायर सेंटर लखनऊ रेफर कर दिया। बाराबंकी पहुंचने पर उसकी मौत हो गई।

कई संदिग्धों को पुलिस ने उठाया

घटना के बाद जुलूस में अफरा- तफरी मच गई। हमलावर सहित बाकी अन्य युवक भी मौके से फरार हो गए। सूचना मिलते ही पुलिस और पुलिस के आला अफसर मौके पर पहुंच गए। SSP डॉ. गौरव ग्रोवर ने बताया, कुछ संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। घटना स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। जल्द ही बदमाशों को पकड़ लिया जाएगा।

तीन के खिलाफ हत्या का केस दर्ज

वहीं, मृतक के भाई शाहपुर थाना पुलिस को दी तहरीर में रविंद्र तिवारी तिवारी की तहरीर पर पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ नामजद हत्या का केस दर्ज किया है। नामजद आरोपियों में राप्ती नगर फेज चार निवासी पंकज त्रिपाठी उसका भाई अखिलेश त्रिपाठी और साथी लकी के साथ शामिल हैं। मृतक के भाई के मुताबिक आरोपियों से मृतक की पुरानी रंजिश चल रही थी। जिसकी वजह से उसकी हत्या की गई।

एक साल पहले हुई थी शादी, हाल में बना है पिता
वहीं, विकास की एक साल पहले ही पादरी बाजार की रहने वाली गरिमा तिवारी से शादी हुई थी। अभी हाल ही में विकास की एक बेटी हुई है। एक साल पहले हुई थी शादी, हाल में बना है पिता बना था। पोस्टमॉर्टम के बाद शुक्रवार की देर शाम राप्ती तट पर दवा व्यवसायी का अंतिम संस्कार हुआ, पिता ने मुखाग्नि दी।