चुनाव में गोरखपुर पुलिस के निशाने पर हैं 1.28 लाख:पुलिस ने तैयार की बदमाशों की लिस्ट, चुनाव से पहले होगी ताबड़तोड़ कार्रवाई; DIG बोले- चुनाव में गड़बड़ी कर सकते हैं अपराधी

गोरखपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इन सभी पर या तो जिला बदर की कार्रवाई की जाएगी या फिर गुंडा एक्ट के तहत शिकंजा कसा जाएगा। - Dainik Bhaskar
इन सभी पर या तो जिला बदर की कार्रवाई की जाएगी या फिर गुंडा एक्ट के तहत शिकंजा कसा जाएगा।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर की पुलिस आगामी विधानसभा चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से ​कराने के लिए सारे जतन कर रही है। इसे देखते हुए एक नई पहल की गई है। अब चुनाव से पहले गोरखपुर रेंज के चार जिलों में पुलिस 1 लाख 27 हजार 702 अपराधियों पर कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है। इन सभी पर या तो जिला बदर की कार्रवाई की जाएगी या फिर गुंडा एक्ट के तहत शिकंजा कसा जाएगा। वहीं, इनमें से कुछ को पुलिस 107 व 116 के तहत पाबंद भी करेगी।

10 साल से अपराधों में शामिल अपराधियों को किया गया चिन्हित
दरअसल पुलिस ने पिछले 10 साल में हुए अपराधों की एक सूची तैयार की है। जिसमें लिप्त 1 लाख 27 हजार 702 अपराधियों को चिन्हित किया गया है। अब इनका भौतिक सत्यापन किया जा रहा है कि ये कहां हैं, क्या कर रहे हैं। जीवित हैं या नहीं, क्या ये ​अभी भी अपराधों में लिप्त हैं या ​नहीं। क्या इनसे चुनाव में कोई खतरा है कि नहीं।

सत्यापन के बाद होगी कार्रवाई
पुलिस के मुताबिक सत्यापन का काम जोरों पर चल रहा है। जल्द ही सत्यापन पूरा होने पर इनपर पाबंद करने की कार्रवाई शुरू हो जाएगी। इन 1 लाख 27 हजार 702 अपराधियों में गोरखपुर जिले के 38910 अपराधी, देवरिया के 24841 अपराधी, कुशीनगर के 33229 व महराजगंज के 30722 अपराधी शामिल हैं।

1647 गुंडा व 450 हैं गैंगेस्टर
पुलिस के आंकड़े के अनुसार पिछले तीन सालों में गोरखपुर मंडल के गोरखपुर, कुुशीनगर, देवरिया व महराजगंज में कुल 1647 गुंडा व 450 गैंगेस्टर हैं। वहीं इस साल रेंज के चारों जिलों में कुल 1904 लोगों पर गुंडा तो वहीं 148 लोगों पर गैंगेस्टर की कार्रवाई हुई है। इसी प्रकार 2020 में 2002 पर गुंडा व 175 पर गैंगेस्टर हुआ था वहीं 2019 में 1647 पर गुंडा तो 127 पर गैंगेस्टर हुआ था। अकेले गोरखपुर जिले में 2021 में 573 गुंडा व 86 गैंगेस्टर, 2020 में 355 गुंडा व 69 गैंगेस्टर, 2019 में 222 पर गुंडा व 55 पर गैंगेस्टर की कार्रवाई हुई है।

रास्ट्रीय सुरक्षा को भी खतरा
पुलिस रिकार्ड के अनुसार रेंज के चारों जिलों में पिछले तीन साल में 29 अपराधियों पर रासुका यानि राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की कार्रवाई हुई है। 2021 में 14, 2020 में 9 व 2019 में 4 लोगों पर कार्रवाई हुई है। गोरखपुर जिले में जिनपर रासुका की कार्रवाई हुई है और जिनसे पुलिस को राष्ट्रीय सुरक्षा का खतरा है। उनमें हत्या और फिरौती के अपहरण का आरोपित पिपराइच के जंगल धूसड़ का अजय गुप्ता, गगहा के रियांव का सिंटू राय उर्फ सिंटू राठौर, बेलीपार का पन्नेलाल यादव, बांसगांव के बेलूडीहा का अमित यादव उर्फ सून्नर, महराजगंज के पनियरा का जितेंद्र सिंह, पिपराइच बहादुर चौहान, खजनी का शंभू यादव, देवरिया लार का नितिन उर्फ निक्की, छपरा बिहार का छोटू उर्फ रामकरन, गगहा का आशुतोष भटट, राजघाट का चंदन विश्वकर्मा, कूड़ाघाट का सुनील सिंह, खोराबार का वन तस्कर शिवशरन व मनोहर शामिल हैं।

चिन्हित कर जल्द शुरू होगी कार्रवाई
डीआईजी जे रविंदर गौड़ ने बताया कि 10 साल से अपराध में शामिल बदमाशों की लिस्ट तैयार कराई गई है। इन सभी का अब भौतिक सत्यापन चल रहा है। जल्द ही इन्हें पाबंद किया जाएगा ताकि ये चुनाव में किसी प्रकार की गड़बड़ी न कर पाएं।

खबरें और भी हैं...