गोरखपुर में पशु तस्करों ने फिर चलाई पुलिस पर गोली:पूरी रात सड़क पर मचाया तांडव, PRV जवानों को मारपीट कर गाड़ी में रखे मोबाइल व पैसे लूटे, SSP ने खुद संभाली कमान

गोरखपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पशु तस्कर इससे पहले भी करीब एक दर्जन से अधिक बार पुलिस पर हमला कर चुके हैं। कई बार पुलिस की तस्करों से मुठभेड़ भी हुई है। - Dainik Bhaskar
पशु तस्कर इससे पहले भी करीब एक दर्जन से अधिक बार पुलिस पर हमला कर चुके हैं। कई बार पुलिस की तस्करों से मुठभेड़ भी हुई है।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पशु तस्करों का तांडव लगातार जारी है। जहां शनिवार की रात पत्रकारों व पुलिस पर तस्करों ने हमला किया था वहीं रविवार की रात तस्करों ने गुलरिहा इलाके में डायल 112 के पीआरवी पुलिसकर्मियों पर फायरिंग कर दी। तस्करों ने उनकी गाड़ी में रखा मोबाइल फोन व रूपये भी लूट लिया।

सूचना पर खुद एसएसपी विपिन टांडा को 6 थानों की फोर्स के साथ मौके पर जाना पड़ा। जिसके बाद पुलिस ने घेराबंदी की 3 तस्करों को हिरासत में लिया है। पुलिस ने बदमाशों के खिलाफ धारा लूट और हत्या के प्रयास, धमकी, सरकारी कार्य में बांधा 7 सीएलए सहित कई धाराओं में केस दर्ज कर जांच कर रही है।

पिकअप को चेक करते ही कर दी फायरिंग
रविवार की आधी रात में पीआरवी 0331 पर तैनात देवीशंकर यादव, महिला कांस्टेबल चन्द्रकला, वंदना और चालक राधेश्याम तिवारी ड्यूटी पर थे। इसी बीच सरैया बाज़ार में एक संदिग्ध पिकअप दिखी। संदेह होने पर उन्होंने पिकअप की जांच करने का प्रयास किया तो उसमें से चार की संख्या में बदमाश निकले और धमकियां देते हुए पुलिस टीम पर हमला बोलते हुए फायरिंग शुरू कर दी। पुलिसवालों के मुताबिक अपनी जान बचाने के लिए उन्हें वहां से पीछे हट कर छुपाना पड़ा। पुलिसवालें अपनी गाड़ी छोड़कर गांव की तरफ भाग गए। इसी बीच बदमाशों ने पुलिस की गाड़ी में रखा मोबाइल फोन एवं पांच-छह सौ रुपये लूट लिए।

ग्रामीणों ने दौड़ाया
वहीं पुलिस पर पथराव एवं फायरिंग की घटना की जानकारी होते ही ग्रामीण शोर मचाते हुए पकड़ने के लिए दौड़ाया तो बदमाश पिकअप छोड़कर भाग निकले। पुलिस टीम पर फायरिंग और पथराव की सूचना मिलते ही पुलिस विभाग के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। इसके साथ ही आस-पास अन्य थानों की पुलिस टीम घटना स्थल पहुंच गयी। बदमाशों की पिकअप गुलरिहा पुलिस ने कब्जे में ले लिया है। माना जा रहा है पिकअप सवार यह पशु तस्कर थे और उनका पिछले कई दिनों से आंतक जारी है।

शनिवार की रात में भी किया था पुलिस पर पथराव
आधी रात को पशु तस्कर का निशाना पुलिसवाले बनते रहे हैं। कई बार वह आधी रात में पुलिस टीम पर पथराव और फायरिंग कर चुके हैं। शनिवार की रात में तस्करों ने एक पत्रकार और असुरन पुलिस की गाड़ी पर भी फथराव किया था। पत्रकार की गाड़ी क्षतिग्रस्त करने के साथ ही असुरन चौकी की गाड़ी भी तोड़ दिया था। तस्करों के आतंक के बाद इन्हें भागकर अपनी जान बचानी पड़ी थी। इससे पहले चिलुआताल, कैंट, एयरफोर्स, इंजीनियरिंग कालेज, कोतवाली और तिवारीपुर इलाके में भी पशु तस्करों ने पुलिस टीम पर हमला किया है।

कब- कब पुलिस पर तस्करों ने किया हमला

  • 17 जून को पशु तस्करों को शाहपुर और गुलरिहा पुलिस पर फायर‍िंग कर भाग रहे तस्करों की पिकअप भटहट के पास दुकान में टकराने के बाद मिट्टी में फस गयी। जिसके बाद तस्कर गाड़ी छोड़ फरार हो गए।
  • 13 जून को गुलरिहा इलाके के मेडिकल कॉलेज रोड पर क्राइम ब्रांच और गुलरिया पुलिस की तस्करों से मुठभेड़ हुई। तस्कर पुलिस पर फायरिंग कर फरार हो गए।
  • 11 जून को शाहपुर के आवास-विकास कॉलोनी में इन तस्करों का विरोध करने वाले इंजीनियर पुत्र पर तस्करों ने जानलेवा हमला कर दिया।
  • 9 जून को कैंट के छात्रसंघ चौराहे पर एक दरोगा पर की गाड़ी पर भी तस्करों ने ईंट-पत्थर चलाए।
  • नवंबर 2020 में शाहपुर के झरना टोला में चौकी इंचार्ज पर पशु तस्करों ने हमला कर उनकी नाक तोड़ दी।
  • दिसंबर 2020 में शाहपुर थाने में तैनात हेड कांस्टेबल को तस्करों ने असलहा सटा दिया था।
  • जनवरी 2021 में शाहपुर थाने की नई बोलेरो में तस्कर टक्कर मारकर फरार हो गए थे।
  • जनवरी 2020 में रामगढ़ताल थाने की गाड़ी और आजाद नगर पुलिस चौकी की गाड़ी भी तस्करों ने टक्कर मारकर तोड़ डाली
  • तिवारीपुर के सूर्य विहार पुलिस चौकी पर भी तस्करों ने गाड़ी चढ़ाकर पुलिसकर्मियों की जान लेने की कोशिश की थी। इस दौरान चौकी की दीवार व गेट भी टूट गए थे।
खबरें और भी हैं...