पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोरखपुर में गैंगस्टर की 65 करोड़ की संपत्ति जब्त:गोरखपुर केे हिस्ट्रीशीटर रणधीर सिंह की रुद्रा होटल, मकान और दुकान सीज, अब यह सरकार के कब्जे में

गोरखपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोरखपुर के माफिया प्रदीप सिंह व सुधीर सिंह पर कार्रवाई के बाद जिला प्रशासन ने एक और हिस्ट्रीशीटर पर कड़ी कार्रवाई की है। शाहपुर इलाके के हिस्ट्रीशीटर रणधीर सिंह की करीब 65 करोड़ कीे संपत्ति जब्त की गई है। मंगलवार की दोपहर हुई इस कार्रवाई से जिले के अपराधियों में हड़कंप मच गया। दरअसल, डीएम के विजयेंद्र पांडियन ने गैंगेस्टर अपराधी रणवीर सिंह पुत्र दिग्विजय सिंह की चल अचल संपत्ति को कुर्क करने का आदेश दिया था। इसके लिए प्रबंधन का दायित्व सदर तहसीलदार डॉ. संजीव दीक्षित व नायब तहसीलदार राधेश्याम गुप्ता को दिया गया था। मंगलवार की दोपहर करीब 12 बजे ज्वाइंट मजिस्ट्रेट सुमित्र महाजन के नेतृत्व में दुकानें, रुद्रा होटल रेस्टोरेंट तीन मंजिला सहित सभी चल अचल संपत्ति को कुर्क ​कर दिया गया। एसडीएम का कहना है जब्त संपत्ति की अनुमानित कीमत 65 करोड़ रुपए से ज्यादा है।

मैरिज लॉन और रेस्टारेट भी जब्त

शाहपुर थानाक्षेत्र के एचएन सिंह चौराहा पर स्थित होटल, मैरेज लॉन, रेस्‍टोरेंट, काम्‍प्‍लेक्‍स और कैण्‍ट थानाक्षेत्र के रानीडीहा दिव्‍यनगर में स्थित आलीशान बंगले को कुर्क किया गया। डा. संजीव कुमार दीक्षित ने बताया कि जिलाधिकारी के. विजेंद्र पांडियन के निर्देश पर तहसील प्रशासन ने जिले के हिस्ट्रीशीटर रणधीर सिंह की शाहपुर थानाक्षेत्र के एचएन सिंह चौराहे पर स्थित 1 एकड़ 45 डिसमिल में बने दुकान, कॉम्प्लेक्स, रेस्टोरेंट और लॉन जब्त करने की नोटिस बैनर लगाकर कार्रवाई की है. इसके अलावा कैण्‍ट थानाक्षेत्र के रानीडीहा दिव्‍यनगर में 8 हजार स्‍क्‍वायर फीट में बने आलीशान बंगला को भी कुर्क किया गया.

हिस्ट्रीशीटर रणधीर पर गोरखपुर के शाहपुर थाना सहित अन्य थानों में गंभीर धाराओं में मुकदमे दर्ज है। जिला मजिस्ट्रेट के आदेश पर गैंगेस्टर रणधीर सिंह की संपत्ति 27 अप्रैल को ही जब्त की जानी थी, लेकिन कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रसार की वजह से कार्रवाई नहीं की गई. जिसके बाद मंगलवार को पुलिस और दल-बल के साथ पहुंचकर टीम ने गैंगेस्टर की संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई की है। टीम के घर पहुंचने के बाद रणधीर सिंह वहां पर नहीं मिला. हालांकि परिवार के लोगों का कहना है कि उनके पास अरेस्‍ट स्‍टे है लेकिन, हकीकत ये है कि गिरफ्तारी के डर से वो फरार हो गया। .

परिजन बोले- ये पिता की विरासत
माफिया रणधीर सिंह के भाई दिग्विजय सिंह ने बताया कि ये मकान उनके पिता शिव शंकर सिंह के नाम से है। वे तीन भाई रणविजय सिंह, रणधीर सिंह और दिग्विजय सिंह है। प्रशासन गैंगेस्‍टर एक्‍ट के तहत कार्रवाई कर रहा है। रणधीर के पास स्‍टे है। वे बताते हैं कि उनके पिता की बनाई हुई सारी संपत्ति है, उनके भाई का कुछ नहीं है।

जब्ती के बाद अधिकारियों ने वहां इसकी सूचना भी चस्पा कर दी।
जब्ती के बाद अधिकारियों ने वहां इसकी सूचना भी चस्पा कर दी।

डीएम के आदेश पर मंगलवार को इंस्पेक्टर शाहपुर आनंद प्रकाश, प्रोफेशनल तहसीलदार रजत वर्मा, कानूनगो प्रद्युमन सिंह, लेखपाल विजय गुप्ता, अमीन योगेंद्र चौबे सहित शाहपुर थाने की फोर्स ने संयुक्त रुप से यह कार्रवाई की।

खबरें और भी हैं...