पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gorakhpur
  • In The Insistence Of Calling A Girlfriend From Delhi, Kidnapped An Innocent, Set Up With The Police Too; If The Case Is Open, Now The Arrest Has Been Made

गोरखपुर में प्रेमी ने किया प्रेमिका के भाई का किननैप:दिल्ली से प्रेमिका को बुलाने की जिद में किया मासूम का अपहरण, पुलिस से भी कर ली सेटिंग; मामला खुला तो हुई गिरफ्तारी

गोरखपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लड़की वाले शादी को तैयार नहीं हुए तो ड्राइवर उसे लेकर भाग गया। - Dainik Bhaskar
लड़की वाले शादी को तैयार नहीं हुए तो ड्राइवर उसे लेकर भाग गया।

गोरखपुर जिले में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक प्रेमी ने अपनी प्रेमिका के 5 साल के मासूम भाई का इस लिए अपहरण कर लिया ताकि वह परिवार वालों को झुका सके। प्रेमिका तो नहीं मिली अलबत्ता उसने खुद अपने किए से सलाखों के पीछे पहुंचने का रास्ता तैयार कर लिया। पुलिस ने प्रेमी के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

लड़की को लेकर भाग गया था ड्राइवर
कैम्पियरगंज के सौनौरा बुजुर्ग की लड़की से एक ड्राइवर का प्रेम संबध हो गया। वह गांव में एक पोल्ट्री फार्म के पिकअप गाड़ी का चालक है। संतकबीनगर का रहने वाला ड्राइवर दिनेश यादव का लड़की के घर आना जाना हो गया। प्रेम संबंध परवान चढ़ा तो बात शादी पर आकर फंस गई। लड़की वाले शादी को तैयार नहीं हुए तो ड्राइवर उसे लेकर भाग गया। फरवरी माह में लड़की लेकर भागा ड्राइवर कोरोना के दूसरी लहर के दौरान फंस गया। लड़की को उसके घर छोड़ दिया। अब जब कोरोना का खतरा कम हुआ है तो लड़की के परिवार वालों पर शादी का दबाव बनाने लगा। परिवार वालों ने मामला तूल पकड़ता देख लड़की को दिल्ली में अपने रिश्तेदार के वहां भेज दिया।

मां पर बना रहा था दबाव
लड़की के पिता विदेश रहते है। घर पर मां ही रहती है। आरोपित लड़की को दिल्ली से वापस बुलाने के लिए उसकी मां पर दबाव बना रहा था। स्वजन लड़की की शादी स्वजातीय में करना चाहते थे। शुक्रवार को दिन में दो बजे के आस पास ड्राइवर ने लड़की के 5 साल के भाई को टॉफी देने के बहाने बुलाया। साथ में उसकी 10 वर्षीय बहन भी आ गई। मासूम का अपहरण के बाद परिवार को संदेश भिजवाया कि लड़की को दिल्ली से नहीं बुलाया तो मासूम को नहीं छोड़ेगा। उसके साथ अनहोनी भी हो सकती है।

पुलिस से कर ली थी सेटिंग
परिवार वालों ने इसकी सूचना कैम्पियरगंज पुलिस को दी। पुलिस आोपियों को पकड़ने के बजाए मामले में बिचौलिये की भूमिका निभाने लगी। प्रेमी से बात करने के बाद मासूम को बरामद कर लिया गया। पुलिस ने मासूम को परिवार वालों को सौंपते हुए कहा कि इसका अपहरण नहीं हुआ था। यह गांव के बाहर मिला है। परिवार वालों ने सवाल किया कि लड़का अकेले कैसे पूरी तरह बिता सकता है तो पुलिस वाले पीड़ित परिवार को ही धमकाने लगे। इसी दौरान यह मामला अधिकारियों के संज्ञान में आ गया और फिर पुलिस मुश्किल में फंस गई। मां की तहरीर के आधार पर आरोपी ड्राइवर के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज कर लिया गया। रविवार को पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया।

खबरें और भी हैं...